राखी…शहर में छाए डोरेमोन-छोटा भीम

शिमला -भाई-बहन के पवित्र पर्व रक्षाबंधन को लेकर शिमला के बाजार पूरी तरह से सज चुके हैं। पर्व के लिए बाजार मंे तरह-तरह की राखियों की भरमार है। भले ही रक्षाबंधन पर्व के लिए अभी काफी दिन शेष हैं, मगर इस पवित्र पर्व को धूमधाम से मनाने के लिए बहनों ने अभी से ही खरीददारी शुरू कर दी है। शहर के बाजार तरह-तरह के रेशमी धागों से सजे हुए हैं। इस मर्तबा बाजार में 10 से 700 रुपए तक की राखी है। बच्चों के लिए बाजार में कार्टून  वाली राख्यिों की भी अलग-अलग वैरायटियां हैं, जो बच्चों और युवाओं के आकर्षण का केंद्र बनी हुई हैं। इसमें छोटा भीम, डोरेमोन, स्पाइडरमैन आदि प्रमुख हैं। हालांकि आधुनिकता के दौर में भले ही फैशन और चमक-दमक वाली राखियां हर वर्ग को अपनी ओर आकर्षित कर रही हैं, मगर पर्व का प्रतीक रेशमी डोरी अभी भी बाजार में खूब बिक रही है, लेकिन फिर भी चंदन की राखी को हिंदू संस्कृति के अनुसार सबसे पवित्र माना जाता है, जिस कारण जरकन राखी बिकने के बाद दूसरे स्थान पर चंदन की राखी है। बच्चों के लिए खिलौनों वाली राखियां आई हैं। रक्षाबंधन के पर्व से कुछ दिन पहले ही दुकानदारों की ज्यादा से ज्यादा राखियां बिक चुकी हैं। इन सभी राखियों में जरकन वाली राखी सबसे अधिक बिक रही है जो दस रुपए से लेकर 400 से 500 रुपए तक की है। चमकती-दमकती राखियां न सिर्फ युवाओं को बल्कि छोटे बच्चों के लिए भी आकर्षण का केंद्र हंै, जबकि बाजारों में बच्चों को लेकर पैंडा वाली राखी इंटरोडयूट हुई है जो करीब 20 रुपए तक की है। रक्षाबंधन के पवित्र अवसर पर मिठाइयों में भी बढ़ोत्तरी हो रही है, जिसमें लखनवी पेठा बहुत फेमस है। कुछ दिन पहले ही राखियों को डाक द्वारा एक स्थान से दूसरे स्थान तक भिजवाया जा रहा है। राखियों को सुरक्षित भिजवाने के लिए खास तरह के एनवल्प का प्रयोग किया जा रहा है जिसमें प्लास्टिक का इस्तेमाल हो रहा है, जिसके चलते राखी को सुरक्षित रखा जा सके।

मिठाई की तैयारी

एक ओर जहां राखियों से बाजार सजे हैं वहीं, दूसरी ओर मिठाई के दुकानदारों ने भी मिठाई की तैयारी शुरू कर दी है। वैसे तो लखनवी पेठा राखी पर सबसे ज्यादा बिकता है, लेकिन इसके बावजूद तरह-तरह की मिठाइयों को बाजार में इस पर्व से अवगत करवाया जाता है, जिसके कारण भाई-बहन के इस पर्व में चार चांद लग जाते हैं।

मुफ्त यात्रा का इंतजाम

एचआरटीसी की बसों द्वारा राखियों को भिजवाने की मुफ्त सुविधा भी है। साथ ही राखी के पवित्र दिवस पर महिलाओं के लिए बसों में मुफ्त यात्रा का प्रावधान किया गया है। इतना ही नहीं राखी के अवसर पर कार्यालयों में कार्यरत महिलाओं के लिए अवकाश का प्रावधान किया गया है।

चांदी का ब्रेसलेट

रक्षाबंधन के लिए आभूषण विक्रेता के पास विभिन्न नकाशी वाली राखियां आई हैं, जिसमें राखियों को चांदी के बे्रसलेट का रूप दिया गया है, जिनकी कीमत करीब 700 के आसपास है। इस तरह की राखियां बहुत कम बिकती हैं, लेकिन आकर्षण का सबसे बड़ा केंद्र

बनती हैं।

You might also like