Divya Himachal Logo Apr 26th, 2017

उत्‍सव


सशक्‍तिकरण को तलाक

ऐसा कम ही होता है, जब निहायत निजी संबंध राजनीतिक मुद्दा बन जाएं। राजनीति को संबंधों में हस्तक्षेप करने का मौका तभी मिलता है, जब वहां गिरावट सड़ांधता के स्तर तक पहुंच जाए। यदि ऐसी स्थिति नहीं है, तो राजनीतिक हस्तक्षेप को कोई भी गंभीरता से न लेता, क्योंकि सामान्यतः यह माना जाता है कि राजनीति में संबंधों की संजीदगी को समझने की योग्यता नहीं होती। राजनीति तो सत्ता प्राप्ति के विशुद्ध गुणा-गणित पर चलती है।  तीन तलाक का मुद्दा यदि राजनीतिक मुद्दा बन गया है, तो इसका मुख्य कारण यह है कि इसमें मानवीयता गायब दिखती है…

अंजुम के निशाने पर ओलंपिकतीन तलाक का मुद्दा यकायक राजनीतिक विमर्श के केंद्र में आ गया है। इस मुद्दे को लेकर सभी के अपने-अपने पक्ष हैं। मुस्लिम धर्मगुरु इसे धर्म से जुड़ा निजी मामला बता रहे हैं, वहीं सरकार ने तीन तलाक में मानवाधिकार और महिलाओं के अधिकार से जुड़ा मुद्दा माना है। कट्टर मुसलमान इसमें कोर्ट और सरकार के दखल के खिलाफ हैं तो कई मुस्लिम महिलाओं ने इसके विरोध पर सड़क और कोर्ट का रुख भी किया है। कई मुस्लिम महिलाओं ने विरोध का अपना तरीका अपनाया है। इस मुद्दे के समर्थन में सरकार के खड़े होने के कारण पहली बार मुस्लिम महिलाएं भी मुखर होती हुई दिख रही हैं। लंबे अरसे से दबा हुआ गुस्सा विविध रूपों में बाहर आ रहा है। सरकार द्वारा तीन तलाक को मानवाधिकार से जोड़ने और इसके विरोध में खड़े होने के कारण मीडिया भी इससे जुड़ी छोटी-छोटी चीजों पर ध्यान केंद्रित कर रहा है। इसके कारण इस प्रथा के दबे-छिपे पहलू सामने तो आ ही रहे हैं, इनके साथ अजीबोगरीब उदाहरण भी सामने आ रहे हैं। कहीं कोर्ट में ही तलाक देने की बात आ रही है, तो कहीं मोबाइल पर मैसेज देकर। तीन तलाक से भी ज्यादा आपत्ति हलाला की प्रथा को लेकर उठाई जा रही है। बीबीसी की एक रिपोर्ट के अनुसार कुछ जगहों पर हलाला करने के लिए महिलाओं को पैसे देने पड़ रहे हैं। कहीं पर हलाला के लिए गई महिला को तलाक देने से इनकार कर दिया जाता है और इस कारण वह अपने पहले पति के पास नहीं लौट सकती। शाहबानो प्रकरण के समय भी तीन तलाक और मानवाधिकार के मुद्दे को लेकर काफी चर्चा हुई थी, लेकिन तब उच्चतम न्यायालय के एक महत्त्वपूर्ण निर्णय को संसद में उलट दिया गया था और इसके कारण महिलाओं की आवाज भी मंद पड़ गई थी। सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की सुनवाई और सरकार की सक्रियता के कारण मुस्लिम महिलाएं फिर से सक्रिय हुई हैं। पूरे देश में इसके विरोध को लेकर नए-नए तरीके अपनाए जा रहे हैं। ऐसा ही एक रोचक उदाहरण राजस्थान के जोधपुर में देखने को मिला।  जोधपुर से थोड़ी दूरी पर स्थित फलोदी कस्बे की एक मुस्लिम लड़की ने हिम्मत कर तीन तलाक के विरोध का ऐसा तरीका अपनाया, जिससे कई कट्टर मुस्लिमों को दिक्कत होगी। इस लड़की ने हिंदू लड़के से शादी की है। तस्लीमा नाम की इस लड़की ने हिंदू रीति-रिवाज के साथ मंदिर में एक हिंदू लड़के से शादी की है। मुस्लिम लड़की बोली कि हिंदू धर्म में जीवनभर अपनी पत्नी के अलावा दूसरी महिलाओं को बहन- बेटी की नजर से देखा जाता है। विवाहित लड़की ने कहा कि मुस्लिम समाज में लड़की की मर्जी पूछे बगैर ही उसकी शादी कर दी जाती है, तस्लीमा के इस कदम से राजस्थान के अलावा पूरे देश में यह शादी चर्चा का विषय बन गई है। इस विषय को लेकर राजनीति भी चरम पर पहुंच गई है। कोलकाता में कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने ममता बनर्जी की तीन तलाक के जरिए घेरेबंदी करने की कोशिश की।  उन्होंने कहा कि मैं उस राज्य में हूं, जहां एक महिला मुख्यमंत्री हैं। जब हम न्याय की बात कर रहे हैं तो मैं जानना चाहूंगी कि ममता दीदी का ट्रिपल तलाक पर क्या कहना है। हालांकि बनर्जी ने इस मुद्दे पर अपनी राय सामने नहीं रखी है, ईरानी का यह सवाल बीजेपी के ममता बनर्जी पर लगाए जाने वाले अल्पसंख्यक तुष्टिकरण की तरफ इशारा करता है। उत्तर प्रदेश के चुनावों में मायावती ने तीन तलाक के मुद्दे को सांप्रदायिक बताया था जबकि अन्य पार्टियां मुस्लिम महिलाओं का रुख देखते हुए अभी तक संयमित रवैया अपनाए हुए हैं।  अन्य भारतीय पंथों में भी महिलाओं के प्रति दृष्टिकोण सीमित रहा है, लेकिन सभी पंथों ने समय के साथ बदलाव को स्वीकार किया। इसके कारण सार्वजनिक जीवन में महिलाओं के लिए स्पेस बढ़ा और वह हर क्षेत्र में पुरुषों के कंधा से कंधा मिलाकर कार्य कर रही हैं। इस परिप्रेक्ष्य में देखें तो तीन-तलाक का मुस्लिम महिलाओं की मुख्यधारा में प्रवेश और सशक्तिकरण से जुड़ा एक अहम मुद्दा है। इस मुद्दे को सशक्तिकरण से जोड़कर देखने पर सांप्रदायिक वैमनस्य भी नहीं फैलेगा और एक बड़े तबके को मूलभूत अधिकार भी प्राप्त हो सकेंगे।

 

April 23rd, 2017

 
 

फिल्म समीक्षा

फिल्म समीक्षाअच्छी नॉवेल पर बनी कमजोर कहानी है नूर फिल्म का नामः नूर डायरेक्टरःसुनहिल सिप्पी स्टार कास्टः सोनाक्षी सिन्हा, कनन गिल, मनीष चौधरी, पूरब कोहली, शिबानी दांडेकर, स्मिता ताम्बे साल 2014 में पाकिस्तानी जर्नलिस्ट-राइटर सबा सैयद ने ‘कराची यू आर कीलिंग मीं’ नामक नॉवेल लिखा जो […] विस्तृत....

April 23rd, 2017

 

तैमूर का हालीवुड से है तगड़ा कनेक्शन

तैमूर का हालीवुड से है तगड़ा कनेक्शनबालीवुड सेलेब्रिटी किड तैमूर एक बार फिर से चर्चा में और इस बार उसका नाम हालीवुड तक छाया हुआ है। हुआ यूं कि करीना कपूर खान और हालीवुड की एक्ट्रेस कैथरीन हेग्ल के बीच का कनेक्शन। जी हां, इन दोनों ही स्टार्स को अपने बच्चों […] विस्तृत....

April 23rd, 2017

 

गर्मी का मौसम आंखों में सनग्‍लासेस

गर्मी का मौसम आंखों में सनग्‍लासेसगर्मी में सनग्लासेस आंखों की बहुत बड़ी जरूरत होते हैं, जो हमें धूप से बचाते हैं। सनग्लासेस आंखों को सुरक्षा देने के साथ-साथ एक स्टाइल स्टेटमेंट भी बनते जा रहे हैं। यही वजह है कि फैशन इंडस्ट्री सनग्लासेस की नई लुक और रेंज पर हर […] विस्तृत....

April 23rd, 2017

 

अंजुम के निशाने पर ओलंपिक

अंजुम के निशाने पर ओलंपिककन्या शिशु लिंग अनुपात में गिरावट के चलते देश भर के 100 जिलों में शुमार जिला ऊना की एक और बेटी ने सफलता के झंडे गाड़े हैं। जिला के धुसाड़ा गांव की बेटी अंजुम मोदगिल (23)ने रायफल शूटिंग में अंतरराष्ट्रीय ख्याति हासिल कर प्रदेश का […] विस्तृत....

April 23rd, 2017

 

सिनेमा के 100 साल

सिनेमा के 100 सालमासूमियत ने इंदिरा को मौसमी बना दिया चौदह साल की उम्र में इंदिरा बालिका वधू बन गई, लेकिन उन्हें अपना नाम बदलना पड़ा। तरुण मजूमदार ने कहा था कि इंदिरा से ज्यादा उन पर मौसमी नाम सूट करेगा और इस तरह मौसमी चटर्जी फिल्मी दुनिया […] विस्तृत....

April 23rd, 2017

 

बालिका बधू ने तोड़ी चुप्‍पी

बालिका बधू ने तोड़ी चुप्‍पीएक्टर मनीष राय सिंहानिया और ‘बालिका वधू’ की छोटी आनंदी यानी अविका गौर ने जब से सीरियल ‘ससुराल सिमर का’ में जोड़ी के रूप में एक साथ अभिनय किया है, तब से उनके फैन्स उनके रिलेशनशिप के बारे में अटकलें लगा रहे हैं…. बता दें […] विस्तृत....

April 23rd, 2017

 

केयर ऑफ ऑयली स्‍किन

केयर ऑफ ऑयली स्‍किनभारती तनेजा   डायरेक्टर ऑफ एल्पस  ब्यूटी जब गर्मियों ने अपनी दस्तक दे दी, तो ऑयली स्किन वालों के अच्छे दिन कहीं डूबते से नजर आ रहे हैं, तो क्या करें ऑयली स्किन वाले इस मौसम में। ऐसी त्वचा की तेल ग्रंथियां ज्यादा प्रभावशील होती […] विस्तृत....

April 23rd, 2017

 

‘नागिन’ बदल गई शो की पूरी टीम

‘नागिन’ बदल गई शो की पूरी टीमकलर्स का शो ‘नागिन 2’ लोगों के बीच काफी फेमस है और टीआरपी की रेस में हर बार यह शो सबसे आगे रहता है, लेकिन नागिन के फैन्स के लिए एक बुरी खबर है। ‘नागिन 2’ जल्द खत्म होने वाला है। नागिन की पॉपुलेरिटी को […] विस्तृत....

April 23rd, 2017

 

कर्नाटक में ‘बाहुबली- 2’ का विरोध

कर्नाटक में ‘बाहुबली- 2’ का विरोधफिल्म ‘बाहुबली-2’ को लेकर कर्नाटक में विरोध जारी है और अब इस मामले को बढ़ता देख अभिनेता सत्यराज ने माफी मांगते हुए एक वीडियो जारी किया है जिसमें वह कर्नाटक के लोगों से माफी मांग रहे हैं। फिल्म ‘बाहुबली-2’ का दर्शकों लंबे समय से इंतजार […] विस्तृत....

April 23rd, 2017

 
Page 1 of 47512345...102030...Last »

पोल

हिमाचल में यात्रा के लिए कौन सी बसें सुरक्षित हैं?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates