Divya Himachal Logo Aug 20th, 2017

उत्‍सव


जीडीपी को चाहिए शाकाहार

newsमांसाहार बनाम शाकाहार की बहस पुरानी होते हुए भी ताजी बनी रहती है। परंपरागत रूप में इस बहस में अपने पक्ष को ठीक साबित करने के लिए प्रायः धार्मिक तर्क दिए जाते रहे हैं। दया, करुणा जैसी भावनाएं इसके केंद्र में रही हैं, लेकिन अब विज्ञान की कसौटी पर भी यह बहस कसी जाने लगी है। शुरुआती दौर में पोषण के नाम पर विज्ञान ने कभी मांसाहार की खूब तरफदारी की थी, लेकिन हालिया शोधों ने वैज्ञानिकों को भी संशय में डाल दिया है। इन शोधों के कारण ही विज्ञान बेहतर स्वास्थ्य और बीमारियों से बचाव के नाम पर शाकाहार की अनुशंसा कर रहा है।

पिछले दो दशकों में जलवायु परिवर्तन की परिघटना के कारण भी शाकाहार बनाम मांसाहार की बहस फिर से तेज हो गई है। कई शोधों ने इस तथ्य को स्थापित किया है कि शाकाहार व्यक्ति के अलावा पृथ्वी के स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक है। ऑक्सफोर्ड मार्टिन स्कूल में हुए एक ताजा शोध के अनुसार यदि 2050 तक दुनिया शाकाहारी हो जाए, तो हर साल 70 लाख कम मौतें होंगी और अगर पशु से जुड़े उत्पाद बिलकुल नहीं खाए जाते हैं तो हर साल 80 लाख लोग कम मरेंगे। रिसर्चर मार्को स्प्रिंगमैन के मुताबिक इससे खाद्य सामग्रियों से जुड़े उत्सर्जन में 60 फीसदी की गिरावट आएगी। यह रेड मीट से मुक्ति के कारण होगा, क्योंकि रेड मीट मीथेन गैस उत्सर्जित करने वाले पशुओं से मिलता है। मांस की खपत नहीं होने की वजह से हृदय संबंधित बीमारियां, मधुमेह तथा कैंसर के विभिन्न प्रकारों पर व्यापक पैमाने पर रोक लगेगी। ऐसे में दुनिया भर की दो या तीन फीसदी जीडीपी की बचत हो पाएगी क्योंकि मेडिकल बिल में कटौती होगी। जलवायु परिवर्तन के लिहाज से देखें तो इससे जंगलों पर विपरीत प्रभाव कम पड़ेगा। खत्म हो रही जैव विविधता फिर से वापस आएगी। जंगल में एक किस्म का संतुलन बनेगा। इस शोध में शाकाहार के कारण पैदा होने वाली जटिल स्थितियों का भी आकलन किया गया है। पूर्ण शाकाहार के कारण उन देशों और लोगों पर विपरीत प्रभाव पड़ सकता है, जो पूरी तरह पशुपालन पर आश्रित हैं। इसके कारण एक देश से दूसरे देश में भारी संख्या में विस्थापन होगा और कई तरह की सामाजिक-सांस्कृतिक समस्याएं भी पैदा होंगी। जो पशुओं से जुड़ी इंडस्ट्री में लगे हैं, उन्हें अपने नए ठिकाने और करियर की तलाश करनी होगी।  अभी तक शाकाहार-मांसाहार संबंधित वैज्ञानिक शोध प्रायः कुछ सीमित पक्षों को लेकर होते रहे हैं। इसमें सांस्कृतिक-सामाजिक प्रभावों के आकलन का अभाव ही रहा है। ऑक्सफोर्ड मार्टिन स्कूल में हुआ यह नया शोध इस बात को साबित करता है कि अन्न का प्रभाव केवल मन पर ही नहीं पड़ता, यह सामाजिक और सांस्कृतिक जीवन को भी प्रभावित करता है।

— डा. जयप्रकाश सिंह

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

August 20th, 2017

 
 

फलों से सुंदरता

फलों से सुंदरताआपकी सुंदरता आपके खानपान पर काफी निर्भर करती है। ‘जैसा अन्न वैसा तन’ यह लोकोक्ति सदियों बाद आज भी चरितार्थ होती है। खानपान से त्वचा की रंगत बदलकर लाल तथा पीली हो जाती है तथा त्वचा में जबरदस्त आकर्षण पैदा होता है। आम : आम […] विस्तृत....

August 20th, 2017

 

हर तरफ छाई हरियाली

हर तरफ छाई हरियालीमेकअप की बात करें तो हरे रंग की नेल पॉलिश लगती है फैशनेबल व एलिगेंट, जबकि ग्रीन आई लाइनर देता है नाइट पार्टीज में ग्लैमरस लुक। वहीं होम डेकोर आइटम्स व एक्सेस्रीज में भी ग्रीन कलर है चलन में… बारिश की बूंदों के साथ ही […] विस्तृत....

August 20th, 2017

 

कड़क वर्दी में शालिनी की शालीनता

कड़क वर्दी में शालिनी की शालीनताकिसी की बस में कही बात शालिनी को ऐसी चुभी कि उसे मंजिल मिल गई। एक व्यक्ति ने बेटी और मां को खचाखच भरी बस में सभी के सामने तंज कसा था। बस में कसा तंज आज उस मुकाम तक कुल्लू की एसपी बनी शालिनी […] विस्तृत....

August 20th, 2017

 

नंदमुरी बालकृष्ण फिर अपने गुस्से की वजह बने

नंदमुरी बालकृष्ण फिर अपने गुस्से की वजह बनेमशहूर अभिनेता-राजनीतिज्ञ (नंदमुरी बालकृष्ण) ने एक बार फिर उनके साथ सेल्फी लेने की कोशिश में उनके नजदीक आ गए एक प्रशंसक के गाल पर थप्पड़ जड़ दिया। घटना बुधवार रात की है, जब वह उप चुनाव में सत्तारूढ़ तेलुगू देशम पार्टी के चुनाव प्रचार के […] विस्तृत....

August 20th, 2017

 

एक दीवाना था

एक दीवाना थासोनी टीवी जल्द ही एक नया शो लांच करने के लिए तैयार है, जिसका नाम होगा ‘एक दीवाना था’। यह शो एक रोमांटिक थ्रिलर होगा और दर्शकों के लिए एक नई दिलचस्प कहानी होगी। इस नए शो में अभिनेता नामिक पॉल ने एक  बार फिर […] विस्तृत....

August 20th, 2017

 

पहली कमाई से छुड़ा लाया था अम्मी के गिरवी जेवर

पहली कमाई से छुड़ा लाया था अम्मी के  गिरवी जेवरबालीवुड अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी इन दिनों अपनी फिल्म ‘बाबूमोशाय बन्दूकबाज’ के प्रोमोशन में जी-जान से जुटे हैं। उनसे  हुई खास बातचीत में नवाज ने अपनी फिल्म के अलावा भी कई सवालों के जवाब दिए। इस बातचीत में नवाज ने बताया कि वह अपनी पहली कमाई […] विस्तृत....

August 20th, 2017

 

‘ सास बिना ससुराल सीजन 2’

‘ सास बिना ससुराल सीजन 2’‘सास बिना ससुराल सीजन 2’ सोनी टीवी चैनल पर एक आगामी टीवी सीरियल है। यह शो विपिन डी शाह द्वारा ऑप्टिमस्टिक्स मनोरंजन के बैनर के तहत तैयार किया गया है। सास बिना ससुराल सीजन -1 का प्रीमियर 18 अक्तूबर, 2010 को हुआ और 6 सितंबर […] विस्तृत....

August 20th, 2017

 

इस हफ्ते की फिल्म

इस हफ्ते की फिल्मबरेली की बर्फी में कॉमेडी-रोमांस का स्वाद फिल्म का नाम : बरेली की बर्फी डायरेक्टर : अश्विनी अय्यर तिवारी दिव्य हिमाचल रेटिंग ***/5 एड एजेंसी के बैकग्राउंड में काम कर चुकीं अश्विनी अय्यर तिवारी की पहली फिल्म निल बटे सन्नाटा को ही काफी सराहा गया […] विस्तृत....

August 20th, 2017

 

फिल्म ‘जंगली’ ने जगाई सायरा बानो की किस्मत

फिल्म ‘जंगली’ ने जगाई सायरा बानो की किस्मतनाम :  सायरा बानो जन्म : 23 अगस्त,1944 पति : दिलीप कुमार ऐसे कई सितारे हैं जो बेशक बॉक्स आफिस के लिहाज से औसत हों, पर जब बात दर्शकों के बीच पैठ जमाने की हो तो वह सबसे आगे होते हैं। ऐसी ही एक अदाकारा […] विस्तृत....

August 20th, 2017

 
Page 1 of 51812345...102030...Last »

पोल

क्या कांग्रेस को विस चुनाव वीरभद्र सिंह के नेतृत्व में लड़ना चाहिए?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates