Divya Himachal Logo Sep 22nd, 2017

उत्‍सव


पत्थर कुतर सकता है घोंघा

घोंघा एक तरह का कीड़ा है, जिसे मॉलस्क कहते हैं। मॉल्स्क एक लेटिन शब्द है जिसका अर्थ होता है ‘कोमल’। घोंघा एक अमेरुदंडीय प्राणी है, नींद के मामले में इसे निशाचर  कहा जा सकता है। घोंघे को चट्टानों या लकडि़यों के नीचे सुस्ताते हुए भी देखा जा सकता है। शारीरिक रूप से तो घोंघा बहुत ही नाजुक प्राणी हैं। किंतु यदि इसके दांतों की बात करें तो  दांतों के मामले में यह बहुत ही मजबूत है। इसके दांतों की मजबूती  का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि यह अपने दांतों से कठोर पत्थरों को भी कुतर सकता है। घोंघे के दांतों की मजबूती तो हैरान करने वाली है साथ ही इसके दांतों की संख्या भी कम आश्चर्यचकित  करने वाली नहीं है। इस छोटे से जीव के पास दो या चार नहीं बल्कि 14000 दांत होते हैं। बाग-बागीचे में पाए जाने घोंघों में तो इसके  दांतों की संख्या इससे भी अधिक देखी जा सकती है।  हाल ही में घोंघों के दांतों की मजबूती को लेकर किए गए परीक्षणों में ब्रिटेन के इंजीनियरों ने घोंघे के दांतों को सबसे मजबूत बताया है। ये पतले  खनिज फाइबर्स तथा प्रोटीन के मिश्रण से बने होते हैं जो मकड़ी के जाल से भी मजबूत होते हैं। इसके दांतों की मजबूती  के आगे मानव द्वारा निर्मित मजबूत  पदार्र्थ भी कमजोर हो जाते हैं। घोंघे के दांतों में छोटे-छोटे फाइबर रहते हैं, जिनकी डिजाइन के आधार पर हमें मजबूत संरचना तैयार करने में मदद  मिल सकती है। घोंघे के दांतों में जो खनिज पाए गए, वे लोहे  से बने हैं। इन्हें गेथाइट कहा जाता है। इस पदार्थ से एयरक्राफ्ट कार और जहाजों  जैसी चीजों को और मजबूत बनाने में मदद मिलती है।

September 17th, 2017

 
 

व्रत व्यंजन

आलू – दही की सब्जी आलू 4 उबले हुए, 2 हरी मिर्च बारीक कटी हुई, अदरक 1 छोटा टुकड़ा कद्दूकस किया हुआ, जीरा 1 छोटा चम्मच,भुनी मूंगफली का पाaउडर 1 बड़ा चम्मच,दही या छाछ, सेंधा नमक स्वादानुसार उबले आलू को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें। […] विस्तृत....

September 17th, 2017

 

चुटकुले

पत्नी (सीधी- सादी )पति से : अजी, यह हुक्का मत पिया करो। सुनती हूं कि यह बहुत नुकसानदेह है। पतिः तू बहुत भोली है। नहीं समझेगी। पत्नी : क्यों? पति : हुक्के में तीन देवताओं का वास होता है, नीचे जल देवता, बीच में पवन […] विस्तृत....

September 17th, 2017

 

प्रेगनेंसी के समय भी रहें फिट

डिलीवरी के समय वेट गेन होना यानी वजन का बढ़ना स्वाभाविक है। हर महिला 9 किलोग्राम से 11 किलोग्राम तक वेट गेन करती है। चूंकि इस समय फिजिकल एक्टिविटीज नहीं होती और घी, ड्राई फ्रूट्स आदि हाई कैलोरी वाली चीजों का सेवन ज्यादा किया जाता […] विस्तृत....

September 17th, 2017

 

घर में कहां, कैसे लगाएं घड़ी

घर की प्रत्येक वस्तु का हमारे जीवन में महत्त्व होता है, इन्हीं में से एक महत्त्वपूर्ण वस्तु है घड़ी। हम घर में हो या बाहर समय देखने के लिए घड़ी का प्रयोग करते हैं। घड़ी जहां हमें समय की सही जानकारी देती है वहीं इससे […] विस्तृत....

September 17th, 2017

 

केले के पत्ते पर खाना खाने का लाभ

केले का पेड़ बड़ा और लंबा होता है, जो कि एक पवित्र पेड़ माना जाता है और इसके बीच में लंबी धारी भी होती है। इसके अलावा भारत में लोग केले के पत्तों पर भोजन भी करते हैं। यह एक ऐसा पेड़ है जो कि […] विस्तृत....

September 17th, 2017

 

हफ्ते का खास दिन

सुनीता विलियम्स  19 सितंबर, 1965 सुनीता लिन पांड्या विलियम्स का जन्म 19 सितंबर,1965 को अमरीका के ओहियो राज्य में यूक्लिड नगर स्थित क्लीवलैंड में हुआ था। उनके पिता डा. दीपक एन पांड्या एक जाने-माने तंत्रिका विज्ञानी (एमडी) हैं, जिनका संबंध भारत के गुजरात राज्य से […] विस्तृत....

September 17th, 2017

 

कविता

मन्नत, हमीरपुर मम्मी मुझको बस्ता ले दो मैं भी स्कूल  जाऊंगी, ए ,बी, सी, पढूंगी मैं भी क ख ग भी पढ़ कर आऊंगी सीखूंगी बातें नई और आकर सब को बताऊंगी। मम्मी मुझको बस्ता ले दो मैं भी स्कूल में जाऊंगी। पढ़ लिख कर […] विस्तृत....

September 17th, 2017

 

पहेलियां

1. काले वन की रानी है, लाल-पानी पीती है। 2. अपनों के ही घर यह जाए तीन अक्षर का नाम बताए। शुरू के दो अति हो जाए अंतिम दो से तिथि बताए। 3. बीमार नहीं रहती फिर भी खाती है गोली। बच्चे  बूढ़े डर जाते […] विस्तृत....

September 17th, 2017

 

सोचो -समझो

अंग्रेज अपने नाम के आगे लॉर्ड क्यों लगाते हैं ? लॉर्ड एक सामंती युग का शब्द है, जिसका अर्थ स्वामी, प्रभु या मालिक होता है। इंग्लैंड में यह एक सम्मान का शब्द है इसलिए अंग्रेज अपने नाम के आगे इस शब्द का इस्तेमाल करते हैं। […] विस्तृत....

September 17th, 2017

 
Page 2 of 52812345...102030...Last »

पोल

क्या जीएस बाली हिमाचल में वीरभद्र सिंह का विकल्प हो सकते हैं?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates