भारत में जिन्ना की प्रासंगिकता

कुलदीप नैयर लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं हिंदू व मुसलमानों के आपस में बंटे होने के बावजूद दोनों ने अंग्रेजों को कड़ी चुनौती दी। इसका मतलब यह है कि जब किसी तीसरे पक्ष का मामला आता है, तो उसे बाहर निकाल फेंकने के लिए दोनों हाथ मिला लेते थे।…

भारत-चीन के सुधरते संबंध

कुलदीप नैयर लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं ऐसा लगता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन-निर्देशित सीमा को स्वीकार कर लिया है। सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी तर्क कर सकती है कि उसने वह स्वीकार किया है जो कानूनी तौर पर वास्तव में है। जिसका…

महाभियोग के मामले में राजनीति खतरनाक

कुलदीप नैयर लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं महाभियोग वास्तव में एक गंभीर मसला है। इसका कभी भी राजनीतिकरण नहीं होना चाहिए। राहुल गांधी ने ऐसा कर दिया है। और उस हद तक उन्होंने न्यायपालिका को कमजोर किया है। चूंकि वह एक अखिल भारतीय दल का नेतृत्व…

पाक से वार्ता फिलहाल नामुमकिन

कुलदीप नैयर लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं हम पाकिस्तान में सर्जिकल स्ट्राइक भी कर चुके हैं। इसके बावजूद कोई लाभ मिलता नहीं लग रहा है। आज नहीं, तो कल दोनों देशों को अपने मसले सुलझाने के लिए बातचीत तो करनी ही होगी। भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा…

अब यह मोदी की भाजपा है!

कुलदीप नैयर लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारतीय जनता पार्टी में अब सर्वेसर्वा बन गए हैं। उन्होंने अपने नजदीकी साथी अमित शाह को पार्टी के अध्यक्ष पद पर प्रतिस्थापित कर दिया है। लेकिन चार साल के शासन के बाद भी यह पता…

कश्मीरी पंडितों का असमंजस

कुलदीप नैयर लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं मैं उनसे इस बात पर सहमत हूं क्योंकि यह कोई हिंदू-मुसलमान का सवाल नहीं है और न ही इसे इस तरह का सवाल बनाया जाना चाहिए। सभी राजनीतिक दलों को ऐसे कदम उठाने चाहिए जिससे कश्मीरी पंडितों की घाटी में वापसी…

क्या एक संघीय गठबंधन संभव है ?

कुलदीप नैयर लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं वास्तव में एक संघीय ढांचे की संभावना को देखने के लिए गैर भाजपा शासित राज्यों के कुछ नेता एक-दूसरे के संपर्क में हैं। अगर आप पीछे की ओर देखें, तो जनता पार्टी एक संघीय ढांचा था। यह पार्टी शासन की अपनी…

नए अवतार में राहुल गांधी

कुलदीप नैयर लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं कांग्रेस का हाल में जो अधिवेशन हुआ, उसमें पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने भाजपा को घेरने का कोई मौका नहीं छोड़ा। उन्होंने आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी सरकार अब केवल पूंजीपतियों की सरकार बनकर रह गई है।…

गैर जरूरी था आपरेशन ब्लू स्टार

कुलदीप नैयर लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं ब्लू स्टार आपरेशन की जांच के लिए जो कमेटी बनाई गई थी, उसमें मेरे अलावा जनरल जगजीत सिंह अरोड़ा, एयर मार्शल अर्जुन सिंह व बाद में प्रधानमंत्री बने इंद्र कुमार गुजराल भी शामिल थे। इस कमेटी का निष्कर्ष…

विभाजन को नेहरू-पटेल जिम्मेदार नहीं

कुलदीप नैयर लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं दुर्भाग्य से हिंदुओं में यह भावना पक्की होती जा रही है कि उनका देश में बहुमत है तथा ऐसी प्रणाली अपनाई जानी चाहिए जो हिंदुत्व को पोषित करे। कोई भी व्यक्ति राष्ट्रीय स्वतंत्रता संग्राम के पंथनिरपेक्ष…

हिंदुत्व के आगे पंथनिरपेक्षता कमजोर

कुलदीप नैयर लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं वास्तव में संघ को इस बात की आशंका है कि जाति व धर्म के नाम पर एक करके हिंदू वोटों को अपनी ओर करना मुश्किल हो सकता है, इसलिए अब केंद्र की नई आर्थिक नीतियों का सहारा भी साथ-साथ लिया जा रहा है। इन नई…

दबाव में बांग्लादेश की न्यायपालिका

कुलदीप नैयर लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं बांग्लादेश में न्यायाधीश दबाव महसूस कर रहे हैं, क्योंकि ऐसी सूचनाएं हैं कि प्रधानमंत्री शेख हसीना उन पर हेकड़ी जमा रही हैं। एक न्यायाधीश विदेश चला गया है, परंतु उसके लौटने की संभावनाएं कम ही हैं…

बुलंद हौसले वाली अस्मां की विदाई

कुलदीप नैयर लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं दयालु स्वभाव की अस्मां ने ताउम्र किसी भी तरह के भय की परवाह किए बगैर कार्य किया, फिर चाहे उन्हें कट्टरपंथी समूहों की धमकियां ही क्यों न मिलती रही हों। दुनिया भर में एक कार्यकर्ता के तौर पर मशहूर…

आतंकी लपटों में झुलसता जम्मू-कश्मीर

कुलदीप नैयर लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं हिंसा से थक चुके आम लोग केवल विकास चाहते हैं। अगर वहां विकास हुआ होता तो कुछ युवा आतंकवाद की ओर आकर्षित न हुए होते। कश्मीरी चाहते हैं कि घाटी में फिर खूब सैलानी आएं, तभी वहां विकास आ पाएगा। आम…

बजट के बहाने ग्रामीण वोटबैंक पर निशाना

कुलदीप नैयर लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं केंद्रीय बजट ग्रामीण भारत पर केंद्रित है, जहां देश के लगभग 70 फीसदी मतदाता रहते हैं। वित्त मंत्री अरुण जेटली को अर्थशास्त्र के साथ राजनीति की मिलावट में कोई पछतावा नहीं है। पहले भी, जब बजट को चुनावों…