himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

नाइट शिफ्ट में महिलाओं में बढ़ता है कैंसर का खतरा

आज का समय बदल रहा है, आज हर महिलाएं जिंदगी की रेस में शामिल होना चाहती हैं और जीतना भी चाहती हैं, पर आपको इस बात का ख्याल रखना जरूरी है कि ये भागती- दौड़ती जिंदगी कहीं आपकी सेहत को भारी नुकसान न पहुंचा दें। दुनियाभर में बहुत से संस्थान ऐसे…

दादी मां के नुस्खे

* गले में टांसिल्स और छाले होने पर आधा लीटर पानी में 20 ग्राम मेथी दाना डालकर धीमी आंच पर पकाएं। पानी ठंडा होंने पर इसे छान कर नमक मिलाकर पांच से दस मिनट तक गरारे करें। इस उपाय को दिन में दो-तीन बार करने से टांसिल्स से होने वाला दर्द कम…

ग्लूटेन एलर्जी के लक्षण

इनसान सदियों से रोटी खाता आ रहा है इसलिए यह सोचना भी मुश्किल है कि किसी को रोटी से एलर्जी हो सकती है। बहुत से लोग गेहूं में मिलने वाले प्रोटीन ग्लूटेन को पचा नहीं सकते। जानिए ग्लूटेन एलर्जी के लक्षणों के बारे में। पाचन में दिक्कत किसी को…

सर्दियों के लिए हेयर केयर

सर्दियों में त्वचा के साथ-साथ बाल भी रूखे और बेजान हो जाते हैं। इससे न सिर्फ  डैंड्रफ बल्कि खुजली जैसी कई परेशानियां हो जाती हैं। ढेरों शैम्पू और हेयर प्रोडक्ट्स भी इस परेशानी से निजात नहीं दिला पाते, ऐसे में जरूरी है कि एक्सपर्ट की सलाह ली…

विष्णु पुराण

भो-भो राजन श्रुणुष्व त्व यद्वदाम महीपते। राज्यदेहोकोपकारय प्रचानां च हित परम।। दीर्घसत्रेण देवेशं सर्वयज्ञेश्वर हरिम। पूजजिष्याम भद्वं ते तस्यांशस्ते भविष्यति।। यज्ञेन यज्ञपुरुष विष्णु संप्राणिता नृप। अस्माभिभवतः कामांसर्वानेद प्रदास्यति।।…

शिवलिंग और शालिग्राम का रहस्य

गतांक से आगे... शिवलिंग को भगवान शिव का प्रतीक माना जाता है, तो जलाधारी को माता पार्वती का प्रतीक। निराकार रूप में भगवान शिव को शिवलिंग के रूप में पूजा जाता है। ‘ॐ नमः शिवाय’ यह भगवान का पंचाक्षरी मंत्र है। इसका जप करते हुए शिवलिंग का पूजन…

अद्वैत वेदांत के प्रणेता

विवेक चूड़ामणि स्वामी शंकराचार्य जी का लगभग दो हजार वर्ष पूर्व लिखा गया उनके सभी ग्रंथों में एक प्रधान गं्रथ है। यह ग्रंथ मोक्षाभिलाषी एवं स्वाध्याय प्रेमियों के लिए महत्त्वपूर्ण गं्रथ है। इसका लाभ तभी हो सकता है जब कि हम वैदिक त्रैतवाद के…

आत्म पुराण

समाधान- हे जनक! यह मन आत्मा को प्रकाश में लाता है, इस विचार में श्रुति ने इसको ज्योति नहीं माना है, वरन घट, पर आदि बाह्य पदार्थों को प्रकाशित करने में यह अपनी आतंरिक वृत्ति द्वारा सहायक होता है। इससे श्रुति ने इसे ज्योति कह दिया है। शंका-…

श्री विश्वकर्मा पुराण

ब्रह्मा- विष्णु तथा महेश्वर वगैरह के स्वरूप को धारण करके अनेक प्रकार से सुप्रसिद्ध हुई महान शक्ति की उत्पत्ति के मूल में भी वह प्रभु रहे हैं। जिनके एक हाथ में गज है दूसरे में सूत्र धारण किए हुए हैं, तीसरे हाथ में जल पात्र तथा चौथे में…

वासना और मृत्यु

बाबा हरदेव मृत्यु करती क्या है? महात्माओं का कथन है कि मृत्यु मनुष्य से समय छीन लेती है मानों मृत्यु भविष्य का दरवाजा बंद कर देती है और मौका नहीं देती कि आगे और समय है। चुनांचे जो कल को मिटा दे उसी को तत्त्वज्ञानी काल यानी मृत्यु कहते हैं।…

व्रत एवं त्योहार

21 जनवरी रविवार, माघ, शुक्लपक्ष. चतुर्थी 22 जनवरी सोमवार, माघ, शुक्लपक्ष, पंचमी, वसंत पंचमी 23 जनवरी मंगलवार, माघ,  शुक्लपक्ष, षष्ठी 24 जनवरी बुधवार,  माघ, शुक्लपक्ष, सप्तमी, पंचक समाप्त 25 जनवरी बृहस्पतिवार, माघ, शुक्लपक्ष, अष्टमी,…

गीता रहस्य

वेद मंत्रों के व्याख्यान द्वारा ही यह समझ में आता है कि मनुष्य जाति का जन्म वेद विद्या के विद्वानों के संग में रहकर यज्ञ करना है और ऐसे विद्वानों की सेवा से विषय विकारों का नाश करके अज्ञान का नाश करना है। पुनः वेद मंत्रों द्वारा ही समझ आएगा…

कालिका सहस्रनाम

— गतांक से आगे... करालास्य कराली च कुल-कांतापराजिता। उग्रा उग्र-प्रभा दीप्ता विप्र-चित्ता महा-बला।। 7।। नीला घना मेघ-नाद्रा मात्रा मुद्रा मिताऽमिता। ब्राह्मी नारायणी भद्रा सुभद्रा भक्त-वत्सला।। 8।। माहेश्वरी च चामुंडा वाराही नारसिंहिका।…

वसंत पंचमी पूजन विधि

भगवती सरस्वती के उपासक को माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को प्रातःकाल में भगवती सरस्वती की पूजा करनी चाहिए। इसके एक दिन पूर्व अर्थात माघ शुक्ल चतुर्थी को वागुपासक संयम, नियम का पालन करें। इसके बाद माघ शुक्ल पंचमी को प्रातःकाल उठकर घट…

ईश्वर की उपासना

स्वामी विवेकानंद गतांक से आगे...  ऐसे ईश्वर की उपासना कैसे की जा सकती है? हम अभी समझ लेंगे कि  कोई आत्मा किस प्रकार वास्तव में भीषण की उपासना करना सीख सकती है, तब उस आत्मा को शांति प्राप्त होगी। क्या तुम्हें शांति मिली? क्या तुम चिंतामुक्त…
?>