Divya Himachal Logo Jan 22nd, 2017

कम्पीटीशन रिव्यू


संगीत के लिए रियाज जरूरी

cereerजीत राम शर्मा प्रोफेसर, संगीत विभाग, एपीयू, शिमला

संगीत में करियर संबंधित विस्तृत जानकारी प्राप्त करने के लिए हमने जीत राम शर्मा से बातचीत की। प्रस्तुत हैं बातचीत के प्रमुख अंश…

संगीत विषय में करियर को लेकर क्या स्कोप है?

संगीत में करियर का क्षेत्र वर्तमान समय में बढ़ता जा रहा है। इस विषय में सरकारी क्षेत्र में रोजगार के साथ-साथ स्वरोजगार के ज्यादा अवसर छात्रों को मिलते हैं। संगीत विषय पढ़ने वाला छात्र स्कूल, कालेज और विवि स्तर पर शिक्षक और लेक्चरर बनने के साथ ही फिल्मी जगत में प्लेबैक सिंगर के रूप में अपनी आवाज का जादू बिखेर कर विख्यात हो सकता है। इसके अलावा दूरदर्शन रेडियो पर वह अपने गीतों की प्रस्तुति देने के साथ ही अपनी पहाड़ी और लोक गीतों पर आधारित एलबम निकाल कर रोजगार के अवसर तलाश सकता है।

इस क्षेत्र में आने के लिए शैक्षणिक योग्यता क्या होनी चाहिए?

संगीत के क्षेत्र में आने के लिए छात्र को दसवीं, जमा दो और यूजी स्तर पर संगीत विषय को पढ़ना आवश्यक है।

हिमाचल में संगीत विषय का प्रशिक्षण कहां दिया जा रहा है?

हिमाचल की जहां तक बात की जाए, तो यहां एचपीयू में संगीत विभाग में म्यूजिक में एमए, एमफिल, पीएचडी तक की शिक्षा दी जा रही है। इसके अलावा इसी से जुड़ा महाविद्यालय फाइन आर्ट्स कालेज शिमला के चौड़ा मैदान में तथा प्रदेश के कुछ स्कूलों सहित कालेजों में म्यूजिक विषय पढ़ाया जाता है।

संगीत के क्षेत्र में आमदनी कितनी रहती है?

सरकारी क्षेत्र में स्कूल, कालेज और विवि स्तर पर आमदनी की शुरुआत सरकारी नियमों पर ही होती है। इसमें 20 से 80-90 हजार से ऊपर की आय प्रतिमाह होती है। वहीं निजी क्षेत्र में आमदनी योग्यता पर निर्भर करती है। किस तरह का परफार्मेंस स्टेज शो संगीतकार द्वारा किया जा रहा है, उसी के आधार पर अच्छा पैसा कमाया जा सकता है।

इस फील्ड में आने वाले युवाओं को किन चुनौतियों का सामना करना पड़ता है?

युवाओं को संगीत के क्षेत्र में किस तरह से अपना करियर बनाना है उसे लेकर जागरूकता नहीं है। स्कूल स्तर पर भी संगीत शिक्षकों की नियुक्तियां नहीं की जा रही हैं।

वर्तमान में कानफाडू संगीत और प्राचीन संगीत के बारे में आपकी प्रतिक्रिया?

आज संगीत में प्रोफेशनलिज्म ज्यादा हो गया है, जो कि बेहतर आमदनी के लिए जरूरी है। संगीत प्राचीन संगीत से भिन्न और लाउड हो गया है, जो समय के बदलाव को देखते हुए सही है, लेकिन संगीत चाहे कैसा भी हो उसमें मूल संगीत को जिंदा रखना बहुत आवश्यक है।

इस क्षेत्र में आने वाले युवाओं को आप क्या संदेश देना चाहते है?

संगीत की बारीकियां सीखने के लिए रियाज करना जरूरी है, जितना अधिक रियाज उतनी अधिक महारत संगीत में हासिल की जा सकती है।

-भावना शर्मा, शिमला

December 14th, 2016

 
 

न्याय का नया चेहरा : जगदीश सिंह खेहर

न्याय का नया चेहरा : जगदीश सिंह खेहरजगदीश सिंह खेहर वर्तमान में सुप्रीम कोर्ट के जज हैं। वह 4 जनवरी, 2017 को सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश टीएस ठाकुर के सेवानिवृत्त होने के बाद सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश होंगे। सिख समुदाय से जगदीश सिंह खेहर सुप्रीम कोर्ट के पहले मुख्य न्यायाधीश […] विस्तृत....

December 14th, 2016

 

करियर रिसोर्स

मैं जनसंपर्क में करियर बनाना चाहती हूं। इसके बारे में जानकारी दें। — रेखा परमार, डलहौजी जनसंपर्क में डिप्लोमा, पीजी डिप्लोमा और मास्टर डिग्री की सुविधा कई शिक्षण संस्थानों में उपलब्ध है। इन पाठ्यक्रमों में प्रवेश स्नातक परीक्षा के उपरांत लिखित चयन परीक्षा उत्तीर्ण करने […] विस्तृत....

December 14th, 2016

 

असफलता के बीच से निकलती है सफलता की राह

किसी ने सच कहा है कि असफलता के बीच से ही सफलता का रास्ता निकलता है, यह अलग बात है कि हम असफलता के बाद ही इतना परेशान हो जाते हैं कि अगली बार कुछ भी पाने की कोशिश नहीं करते हैं, जिसके कारण हमारी […] विस्तृत....

December 14th, 2016

 

कठिन नृत्य माना जाता है छट्टी का नृत्य

छट्टी का नृत्य अन्य लोक नृत्यों की अपेक्षा कुछ कठिन है। इसके लिए काफी पूर्वाभ्यास की आवश्यकता होती है। यह नृत्य भी प्रायः पुरुष ही करते हैं, इसलिए साधारण लोक नर्तक इस नृत्य को ठीक से नहीं नाच पाते। इस नृत्य के लिए दक्ष नर्तक […] विस्तृत....

December 14th, 2016

 

साप्ताहिक घटनाक्रम

* भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ खेली जा रही 5 टेस्ट मैचों की सीरीज का चौथा टेस्ट भी अपने नाम कर लिया। मुंबई में खेले गए इस मैच में टीम इंडिया ने इंग्लैंड को 36 रन और पारी से हार का मजा चखाया। इस जीत […] विस्तृत....

December 14th, 2016

 

भारत का इतिहास

भारतीय भारतीयों के लिए संविधान बनाएं मिशन ने इस बात पर  जोर दिया है कि उसका उद्देश्य  यह नहीं था कि उक्त आधारों पर संविधान का विवरण तैयार कर दिया जाए। उसका लक्ष्य तो उस तंत्र का शुभारंभ करना था, जिसके द्वारा भारतीय भारतीयों के […] विस्तृत....

December 14th, 2016

 

मंडी में हैं तैरते हुए टापुओं की झीलें

मंडी की झीलों में से रिवालसर (1330 मीटर की ऊंचाई पर) और पराशर (समुद्र तल से 3000 मीटर की ऊंचाई पर) झीलों में नलों व मिट्टी के टिब्बे तैरते रहते हैं, ये झीलें तैरते हुए टापू के लिए भी प्रसिद्ध हैं… प्रसिद्ध झीलें जनश्रुति के […] विस्तृत....

December 14th, 2016

 

कैरियर रिसोर्स

इंडियन बैंक इंडियन बैंक में निम्न पदों के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं। पद – प्रोबेशनरी अफसर। रिक्तियां- 324. शैक्षणिक योग्यता – न्यूनतम 60 प्रतिशत के साथ स्नातक डिग्री। आयु सीमा – 20 से 28 वर्ष (1 जुलाई, 2016 से मान्य)। आवेदन  एवं शुल्क जमा […] विस्तृत....

December 14th, 2016

 

‘बारालाचा-ला’ के शिखर पर मिलती हैं सड़कें

बारालाचा नाम का अर्थ है ‘एक दर्रा जिसके शिखर पर चारों ओर से सड़कें आती हों। इसके सिरे लद्दाख, स्पीति और लाहुल से सड़कें आ मिलती हैं। स्पीति में कोई सड़क नहीं है, मात्र एक रास्ता है। यह दर्रा चंद्रा, भागा और यूनाम नदियों का […] विस्तृत....

December 14th, 2016

 
Page 10 of 466« First...89101112...203040...Last »

पोल

क्या भाजपा व कांग्रेस के युवा नेताओं को प्रदेश का नेतृत्व करना चाहिए?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates