Divya Himachal Logo Feb 24th, 2017

कम्पीटीशन रिव्यू


बच्चों के नैतिक विकास में विद्यालय और परिवार की भूमिका

वीआर राणा, नवाही

व्यक्ति समाज का अभिन्न अंग है और इसी में उसका अस्तित्व निहित है। यह सर्वविदित है कि व्यक्ति और समाज एक-दूसरे के पूरक हैं। ऐसी स्थिति में समाज में हर व्यक्ति का कर्त्तव्य है कि वह समाज को आदर्श एवं सुव्यवस्थित रखने में मदद करता रहे। इसी संदर्भ में नैतिकता का विकास अत्यंत आवश्यक है। वर्तमान परिवेश में व्यक्ति के चारित्रिक विकास में कमी आई है, इसलिए आवश्यक है कि विद्यार्थियों में आरंभ से नैतिकता उत्पन्न करने के लिए प्रयत्न किए जाएं। इस संकल्प को साकार करने के लिए शिक्षा प्रदान करने में शिक्षकों की भूमिका महत्त्वपूर्ण हो जाती है, परंतु इस क्रम में पारिवारिक सहयोग भी नितांत आवश्यक रहता है। विद्यार्थियों को नैतिक शिक्षा प्रदान करने के लिए पाठ्य विषयों की भूमिका को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। इसलिए शिक्षकों और अभभावकों को भी अपने सद्व्यवहार से छात्रों को प्रभावित करने के लिए सजग रहना चाहिए। मात्र उपदेश देकर अपेक्षित सफलता हासिल नहीं की जा सकती। विद्यार्थियों को नैतिक शिक्षा प्रदान करने के लिए उसे आत्मसात करवाना अनिवार्य होता है और धीरे-धीरे वह व्यक्तित्व का अंग बन जाती है। विद्यार्थी जीवन में गलती होना स्वाभाविक ही होता है, परंतु नैतिक शिक्षा प्रदान करने पर उसका विवेक जागृत हो जाता है, उसमें अकलमंदी और बेवकूफी, अच्छे और बुरे, सौम्यता और अश्लीलता के बीच चुनाव करने की काबिलीयत आ जाती है। विद्यार्थियों को नैतिक दृष्टि से श्रेष्ठ बनाने के लिए अनुशासन बहुत ही जरूरी है। अनुशासन का अर्थ स्वयं पर अंकुश लगाकर मर्यादित रहने से है।

किसी भी सिस्टम में कुछ नीति नियम होते हैं। इनका अनुसरण करना ही अनुशासन है। अकसर यह देखा गया है कि जो बच्चे अनुशासन के माहौल में पलते हैं, वे ज्यादा आदर करने वाले और कानून का पालन करने वाले नागरिक बनते हैं। इसलिए परिवार और विद्यालयों में ऐसा प्रयास किया जाना चाहिए कि वे अपने आचरण और व्यवहार से बच्चों के सामने आदर्श प्रस्तुत करें। अभिभावकों और शिक्षकों की करनी और कथनी में अंतर रहेगा तो विद्यार्थियों पर उनकी नसीहतों का असर नहीं पड़ेगा। अनुशासन में रहकर एक विद्यार्थी आजीवन चारित्रिक रूप से दृढ़ रहेगा। देश की लोकतांत्रिक प्रणाली के लिए अनुशासित नागरिकों की महत्त्वपूर्ण भूमिका रहती है।

जे. एडगर हूबर के कथनानुसार यदि हर घर में अनुशासन का पालन किया जाए, तो युवाओं द्वारा किए गए अपराधों में 95 प्रतिशत तक की कमी आ जाएगी। नैतिक शिक्षा के संदर्भ में परोपकार भाव का महत्त्व भी अद्वितीय है, जिस मन में परोपकार की भावना बलवती है, वह सदा मुस्कराता है। परिवार और विद्यालयों, दोनों स्तरों पर परोपकार की भावना का विकास आवश्यक है। यदि परिवार के सदस्य एक-दूसरे के साथ मिलकर रहें और आस-पड़ोस में सहयोग दें, जरूरतमंदों की मदद करें तो बच्चों में एक-दूसरे की भलाई करने के लिए तत्परता बढ़ेगी। परोपकार की भावना के लिए प्रकृति भी प्रेरणा हर पल देती है, लेकिन फिर भी हम इसके शिक्षण से अनजान रहते हैं। प्यासे को पानी पिलाना, बीमार या घायल को अस्पताल ले जाना, वृद्धों व अपाहिजों को बस में सीट देना, अंधों को सड़क पार करवाना, भूखे को रोटी आदि परोपकार के रूप हैं, जिनसे विद्यार्थियों को अवगत करवाना आवश्यक रहता है। विद्यार्थियों में नैतिक मूल्यों के समावेश करने के क्रम में समय के महत्त्व से अवगत करवाना भी जरूरी है। एक अच्छा विद्यार्थी कभी भी अपना समय व्यर्थ नहीं गंवाता। समय का सही तरीके से सदुपयोग करने वाले के घर में किसी प्रकार की समस्या नहीं होती है।

परिवार के सदस्य निर्धारित सभी काम समय पर करें। स्कूल में शिक्षक नियत समय पर कक्षा में जाए और सुनिश्चित करे कि स्कूल में सभी गतिविधियां समय पर संपन्न हों, तो इनका प्रभाव विद्यार्थियों पर अवश्य ही पड़ेगा और वे समय के मूल्यों को पहचान कर उसके अनुरूप कार्य करने लगेंगे। विद्यार्थियों में नैतिक बोध करवाने के लिए जरूरी है कि उनमें सहनशीलता का भाव उत्पन्न किया जाए। इस क्रम में विद्यार्थियों को सभी धर्मों के रीति- रिवाजों से परिचय करवाना अनिवार्य है। स्कूलों में ऐसे आयोजन करवाए जाएं, जिनमें सर्वधर्म समन्वय का भाव उभरता हो।

यदि विद्यार्थियों में उपरोक्त गुणों का समाहार किया जाए तो अन्य गुण संभवतः अपने आप समाविष्ट हो जाएंगे। निष्कर्ष में समाज को उन्नत करने के लिए विद्यार्थियों में नैतिकता का होना आवश्यक है, इसके लिए पारिवारिक और विद्यालय स्तर पर निरंतर प्रयास करना जरूरी है, जिसमें अभिभावकों और शिक्षकों को अपने व्यक्तित्व के माध्यम से विद्यार्थियों में वांछित गुणों को समाहित करें।

February 22nd, 2017

 
 

ऋग्वेद में वर्णित शुतुद्रि ही वर्तमान में है सतलुज नदी

ऋग्वेद में वर्णित सरिता शुतुद्रि ही वर्तमान सतलुज है। अविभाजित पंजाब के नामकरण में जिन पांच नदियों का योगदान रहा है, उनमें सतलुज के अतिरिक्त अन्य चार नदियां वर्तमान में ब्यास, रावी, चिनाब तथा जेहलम के नाम से जानी जाती हैं… हिमाचल की नदियां सतलुज […] विस्तृत....

February 22nd, 2017

 

महासू देवता के नाम से पड़ा महासू जिले का नाम

हो सकता है कि महासू, सिरमौर, जौनसार-बाबर और गढ़वाल में पूजा जाने वाला देवता सिंधु सभ्यता वालों का महेश, महाशिव और महायोगी रहा हो। इसी महासू देवता के नाम पर महासू जिला का नाम भी पड़ा है… प्रागैतिहासिक हिमाचल सर जॉन मार्शल, जिन्होंने इस सभ्यता […] विस्तृत....

February 22nd, 2017

 

आज भी रुला देती है बिलासपुर की मोहणा गाथा

मोहणा बिलासपुर के गीतों में अपना अलग स्थान रखता है। इस घटना प्रधान गाथा को गाते समय अब भी लोग प्रायः रो पड़ते हैं। बिलासपुर के राजा विजय चंद के पास मोहन का भाई नौकर था। ये लोग मोरसिंगी गांव के रहने वाले थे… प्रसिद्ध […] विस्तृत....

February 22nd, 2017

 

कैरियर रिसोर्स

हिमाचल प्रदेश एसएससी हिमाचल प्रदेश एसएससी में निम्न पदों के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं। पद – क्लर्क, रिक्तियां – 119. शैक्षणिक और अन्य योग्यता – बारहवीं पास एवं कम्प्यूटर पर अंग्रेजी टाइपिंग में 25 शब्द/मिनट की गति या हिंदी टाइपिंग में 20 शब्द/मिनट आवेदन […] विस्तृत....

February 22nd, 2017

 

क्‍या आप जानते हैं

1 वैदिक काल में ‘ अरजिकया ’ किस नदी का नाम था? (क) ब्यास               (ख) सतलुज (ग) चिनाब              (घ) रावी 2 हिमाचल प्रदेश में स्थित सबसे ऊंची(ऊंचाई- 7025 मीटर) चोटी कौन सी है? (क) लियो पारजिल      (ख) मुलकिला (ग) शिला                 (घ) ग्योपांग 3 ‘ बल्ह […] विस्तृत....

February 22nd, 2017

 

बाजीगर लड़की के श्राप से नष्ट हुआ सिरमौरी ताल

1905 ई. में तरल से तीन किलोमीटर दूर राजबन को स्टेट की राजधानी बनाया गया था। वहां गहरे छिद्र वाला एक पत्थर देखा जा सकता है, जिसको बांधकर बाजीगर लड़की के गिरि नदी को पार करने की कहानी प्रचलित है, जिसके श्राप से यह नगर […] विस्तृत....

February 22nd, 2017

 

बागबानी विश्वविद्यालय नौणी, हिमाचल प्रदेश

बागबानी विश्वविद्यालय नौणी, हिमाचल प्रदेशजेएन शर्मा, डीन, बागबानी विभाग बागबानी विश्वविद्यालय में कुल  एक हजार छात्र शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। विश्वविद्यालय में प्रवेश की प्रक्रिया मैरिट के आधार पर की जाती है। इस विश्वविद्यालय से शिक्षा प्राप्त करने के बाद छात्र देश के विभिन्न राज्यों में अपनी सेवाएं […] विस्तृत....

February 15th, 2017

 

समसामयिकी

समसामयिकीइंटरसेप्टर मिसाइल का सफल परीक्षण ओडिशा के अब्दुल कलाम द्वीप से भारत ने इंटरसेप्टर मिसाइल का सफल परीक्षण करते हुए मिसाइल तकनीक की दिशा में एक बड़ी सफलता हासिल कर ली। यह बैलिस्टिक मिसाइल दुश्मन के मिसाइल हमले का जवाब आसमान में ही देने में […] विस्तृत....

February 15th, 2017

 

हिमाचली पुरुषार्थ

हिमाचली पुरुषार्थबिना खनन के खनिज खोजते रवि आनंद हिमाचल प्रदेश जिला कांगड़ा के परौर निवासी साइंटिस्ट रवि आनंद की जीवन यात्रा जैसे-जैसे मिट्टी का स्पर्श करती गई, वैसे-वैसे उस पर अनुभवों की सुनहरी परत चढ़ती गई… हिमाचल के परौर से आस्ट्रेलिया के पर्थ तक हिमाचली वैज्ञानिक […] विस्तृत....

February 15th, 2017

 
Page 2 of 47512345...102030...Last »

पोल

क्या हिमाचल में बस अड्डों के नाम बदले जाने चाहिएं?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates