Divya Himachal Logo Aug 19th, 2017

कम्पीटीशन रिव्यू


आधुनिकता के कारण खत्म हो रही जनेऊ की परंपरा

रजस्वला होने के कारण स्त्रियों को जनेऊ का अधिकार नहीं है। आधुनिकता के प्रभाव में यज्ञोपवीत परंपरा खो रही है। जनेऊ धारण करने की प्रवृत्ति में हो रही कमी का प्रमुख कारण आधुनिकता तथा इस संस्कार से जुड़े नियमों की कठोरता है…

 रीति-रिवाज व संस्कार

मुंडन : (पटबाल) जन्म से तीसरे या पांचवें वर्ष में बाल का मुंडन करने का विधान है। कई बार प्रथम वर्ष में या नवरात्रों में भी इस संस्कार को संपन्न किया जाता है। मुंडन मुहूर्त से पूर्व रात्रि को बालक की 10 जडूली (बालों की बांधना) की जाती है। सिर के दायीं ओर से बाल तीन भागों में मौली से बांधना उनमें हरिद्रा, सरसों वस्त्र में डालकर पोटली बांधना इसी प्रकार तीन बायीं और, तीन पीछे, बीच में एक शिखा का विधान है। द्वितीय दिन पिता पूजन के बाद उनको कैंची से काटता है, फिर नाई बालक का मुंडन करता है। कहीं प्रथम बार उतरे केश गंगा में प्रवाहित करने तथा कही देवी मंदिर में चढ़ाने की प्रथा भी है। कई ज्वालाजी जाकर मान्यतानुसार मुंडन संस्कार करवाते हैं।

अक्षरारंभ : देवज्ञा से दिन निकलवा कर देव पूजन के बाद तख्ती पर बालू या मिट्टी बिछाकर बालक की अंगुली से उस पर वर्णमाला का अभ्यास करवाया जाता है। पांचवें वर्ष में उत्तरायण में इसे करने का विधान है। इस प्रथा से पता चलता है कि हमारी प्राचीन परंपरा कितनी सही थी कि बालक को पांच वर्ष से पूर्व अक्षर ज्ञान नहीं करवाया जाता था। आजकल माता-पिता की व्यस्तता के कारण दो या तीन वर्ष  के बच्चे को भी स्कूल डाला जाता है, जिससे बच्चे पर बौद्धिक भार पड़ने से शारीरिक विकास रुक जाता है। अक्षरारंभ की सही अवस्था पांच वर्ष ही है, इससे प्रतीत होता है। आधुनिक शिक्षा पद्धति में बच्चों पर धीरे-धीरे शिक्षा बोझ बढ़ता जा रहा है।

यज्ञोपवीत : पहले यह संस्कार तीनों वर्गों में संपन्न होता था। आजकल केवल ब्राह्मणों में ही इस संस्कार को करवाने का विधान है। बालक को 16 वर्ष तक यज्ञोपवीत (जनेऊ) डालने की प्रथा है। क्षत्रिय और वैश्यों में और कहीं-कहीं ब्राह्मणों में भी विवाह के अवसर पर ही जनेऊ डालने की परंपरा है। इसके साथ ही समावर्त्तन और वेदारम्य भी होता है, जिसमें बालक को सावित्री दान (गायत्री मंत्र) पिता द्वारा देने की प्रथा है, तथा वेदों की ऋचाओं को पढ़ाया जाता है। यज्ञोपवीत (जनेऊ) में तीन धागे होते हैं। जो देव ऋण, ऋषि ऋण और पितृऋण की याद दिलाते रहते हैं। देव ऋण देवपूजन से, पितृ ऋण पूर्वजों द्वारा दिखाए गए सन्मार्ग पर चलने से श्राद्धादि करने से, ऋषि ऋण ऋषियों की चलाई गई श्रेष्ठ परंपराओं का पालन करने से पूर्ण होते हैं। अन्य तीन धागे (यज्ञोपवीत 6 धागों का होता है) पत्नी के प्रतिनिधित्व में पति पहनता है। रजस्वला होने के कारण स्त्रियों को जनेऊ का अधिकार नहीं है। आधुनिकता के प्रभाव में यज्ञोपवीत परंपरा खो रही है। जनेऊ धारण करने की प्रवृत्ति में हो रही कमी का प्रमुख कारण आधुनिकता तथा इस संस्कार से जुड़े नियमों की कठोरता है।

April 19th, 2017

 
 

समसामयिकी

समसामयिकीरेल विकास प्राधिकरण केंद्रीय मंत्रिमंडल ने रेलवे में बड़े सुधार की शुरुआत करते हुए रेल विकास प्राधिकरण के गठन को मंजूरी दे दी। इससे पहले सरकार ने पिछले वित्त वर्ष में रेल बजट का आम बजट में विलय कर दिया था।  उम्मीद है कि एक […] विस्तृत....

April 12th, 2017

 

साहित्य की समझ जरूरी

साहित्य की समझ जरूरीसीमा शर्मा संस्थापक, हिमाचल संस्कृति शोध संस्थान एवं नाट्य रंगमंडल, मंडी रंगमंच में करियर संबंधित विस्तृत जानकारी प्राप्त करने के लिए हमने सीमा शर्मा से बातचीत की। प्रस्तुत हैं बातचीत के प्रमुख अंश… रंगमंच में करियर का क्या स्कोप है? रंगमंच से ही फिल्म, टेलीविजन, […] विस्तृत....

April 12th, 2017

 

साप्ताहिक घटनाक्रम

साप्ताहिक घटनाक्रम* 07 अप्रैल, 2017 को फिल्म समारोह निदेशालय द्वारा 64वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा की गई। निर्देशक सुमित्रा भावे और सुनील सुकथनकर द्वारा निर्देशित मराठी फिल्म ‘कसाव’ को सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म के लिए स्वर्ण कमल प्रदान किए जाने की घोषणा की नई। अभिनेता अक्षय […] विस्तृत....

April 12th, 2017

 

सरोकारी सिनेमा के चंद्र प्रकाश

सरोकारी सिनेमा के चंद्र प्रकाशचंद्र प्रकाश द्विवेदी हिंदी सिनेमा के जाने- माने निर्देशक और पटकथा लेखक हैं। चंद्र प्रकाश द्विवेदी का जन्म सन् 1960 में राजस्थान के दोदुआ सिरोही गांव में हुआ। वर्ष 1991 में दूरदर्शन पर प्रसारित होने वाले धारावाहिक ‘चाणक्य’ से उन्हें पहचान मिली। इस धारावाहिक में […] विस्तृत....

April 12th, 2017

 

नाट्यशास्त्र

नाट्यशास्त्रनाट्यशास्त्र नाट्य कला पर व्यापक ग्रंथ एवं टीका, जिसमें शास्त्रीय संस्कृत रंगमंच के सभी पहलुओं का वर्णन है। माना जाता है कि इसे तीसरी शताब्दी से पहले भरत मुनि ने लिखा था। इसके कई अध्यायों में नृत्य, संगीत, कविता एवं सामान्य सौंदर्यशास्त्र सहित नाटक की […] विस्तृत....

April 12th, 2017

 

सफलता का रंगमंच

सफलता का रंगमंचचंद साल पहले थियेटर फुल टाइम प्रोफेशन के तौर पर सोचना भी मुश्किल था, लेकिन अब थियेटर कई मौकों के साथ मेन स्ट्रीम करियर बन चुका है। अगर आपके व्यक्तित्व में रचनात्मक अभिव्यक्ति से दूसरों को आकर्षित करने का हुनर है, अभिनय में रुचि और […] विस्तृत....

April 12th, 2017

 

हिमाचली पुरुषार्थ : पिचों के पारखी सुनील चौहान

हिमाचली पुरुषार्थ : पिचों के पारखी सुनील चौहानउन्होंने जीवन के संघर्ष के दौरान एक खेल और रेडीमेड कपड़ों की दुकान भी चलाई, लेकिन उन्होंने व्यापार को आगे बढ़ाने की बजाय मैदान की तरफ भागने में अधिक दिलचस्पी दिखाई। अपनी दूसरी पारी शुरू करते हुए चौहान ने अपने गृह नगर में बिलासपुर क्रिकेट […] विस्तृत....

April 12th, 2017

 

भारत का इतिहास

मोती लाल नेहरू की अध्यक्षता में समिति का गठन प्रस्ताव भारी बहुमत से सरकार की इच्छा के विरुद्ध पास हो गया। प्रस्ताव के पास हो जाने पर सरकार ने 1919 के अधिनियम के कार्यकरण की जांच करने तथा  वर्तमान कमियों को दूर करने की दृष्टि […] विस्तृत....

April 12th, 2017

 

करियर रिसोर्स

एनिमेशन कार्टूनिंग का कोर्स करवाने वाले संस्थानों बारे जानकारी दें। — प्रवीण  कुमार, कुल्लू एनिमेशन कार्टूनिंग में युवाओं के लिए करियर के अच्छे स्कोप हैं। एनिमेशन कार्टूनिंग का कोर्स कराने वाले प्रमुख संस्थान हैं दिल्ली कालेज ऑफ  आर्ट, तिलक मार्ग, नई दिल्ली, सर जेजे स्कूल […] विस्तृत....

April 12th, 2017

 
Page 30 of 516« First...1020...2829303132...405060...Last »

पोल

क्या मुख्यमंत्री ने सचमुच गद्दी समुदाय का अपमान किया है?

  • हां (50%, 175 Votes)
  • नहीं (42%, 147 Votes)
  • पता नहीं (7%, 25 Votes)

Total Voters: 347

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates