Divya Himachal Logo Jun 29th, 2017

कम्पीटीशन रिव्यू


खुद रोल मॉडल बन प्रेरणा दें

खुद रोल मॉडल बन प्रेरणा देंडा. तिलक राज भारद्वाज

एसोसिएट प्रोफेसर राजकीय अध्यापक शिक्षा महाविद्यालय, धर्मशाला

अध्यापन में करियर संबंधित विस्तृत जानकारी प्राप्त करने के लिए हमने तिलक राज भारद्वाज से बातचीत की। प्रस्तुत हैं बातचीत के प्रमुख अंश…

शिक्षण के क्षेत्र में युवाओं के लिए कैरियर का क्या स्कोप है?

शिक्षण और शिक्षा का कार्य प्राचीन काल से ही चलता आ रहा है। आज और भविष्य में भी बेहतरीन शिक्षकों की समाज के हर वर्ग को आवश्यकता है। ऐसे में शिक्षण के कार्य में सभी तरह के विकल्प युवाओं के लिए खुले हुए हैं।

इस क्षेत्र में करियर के लिए शैक्षणिक योग्यता क्या होती है?

बेसिक टीचर एजुकेशन के लिए जमा दो जबकि उच्च शिक्षण पद प्राप्त करने के लिए किसी भी स्ट्रीम में स्नातक होना अनिवार्य होता है।

कौन-कौन से विशेषज्ञ कोर्स करने के बाद इस फील्ड में उतरा जा सकता है?

शिक्षण का कार्य किसी एक कार्य क्षेत्र में बंधा हुआ नहीं है। यह अथाह ज्ञान का सागर है, ऐसे में किसी भी विषय में विशेषज्ञ कोर्स करने के बाद उम्मीदवार अध्यापन का कार्य आसानी से कर सकता है।

हिमाचल में कौन-कौन से संस्थान हैं, जो अध्यापन के क्षेत्र में जाने वालों को प्रशिक्षण देते हैं?

प्रदेश में हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय शिमला, बीएड कालेज धर्मशाला, प्रदेश के 12 जिलों में शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान (डाईट) और प्राइवेट संस्थान अध्यापन का प्रशिक्षण प्रदान कर रहे हैं।

रोजगार के अवसर किन-किन क्षेत्रों में उपलब्ध होते हैं?

अध्यापन का कार्य कभी न समाप्त होने वाला और हर एक शख्स के जीवन में अनिवार्य हिस्सा है। शिक्षण में सरकारी स्कूल, कालेज, प्राइवेट स्कूल और शिक्षण शिक्षा महाविद्यालय सहित अन्य सेक्टरों में भी रोजगार उपलब्ध होता है।

स्कूल और कालेज में अध्यापन के लिए क्या-क्या टेस्ट पास होने जरूरी हंै?

अध्यापक बनने के लिए उम्मीदवार को शिक्षण महाविद्यालय की पात्रता, टीचर एलिजिबिलिटी

टेस्ट (टेट) , कमीशन क्वालिफाइड और पर्सनल इंटरव्यू में भी पास होना अनिवार्य होता है। जबकि कालेज के लिए स्टेट एलिजिबिलिटी टेस्ट (सेट) और नेशनल एलिजिबिलिटी टेस्ट (नेट) होना भी अनिवार्य होता है।

इस क्षेत्र में आरंभिक आय कितनी होती है?

अध्यापन कार्य में आरंभिक आय 10 हजार से 15 और 20 हजार तक हो सकती है।

अध्यापन को करियर के रूप में अपनाने पर युवाओं को किन चुनौतियों का सामना करना पड़ता है?

आज के समय में अध्यापन की शिक्षा जोर-जबरदस्ती से रोजगार प्राप्त करने के लिए की जा रही है। जबकि अपनी स्वेच्छा और रुचि के अनुसार इस फील्ड में आने पर सही तरीके से कार्य करने में संतुष्टि मिलेगी। अच्छा अध्यापक बनने के लिए यह अति अवश्यक है कि आपकी रुचि इसमें होनी चाहिए।

अध्यापन को करियर के रूप में अपनाने वाले युवा में क्या खास व्यक्तिगत गुण होने चाहिए?

अध्यापन में करियर बनाने के लिए व्यक्ति को मानवीय गुणों के साथ-साथ सेवा की भावना से ओत-प्रोत होना चाहिए। अध्यापक को खुद रोल मॉडल बनकर दूसरों के लिए प्रेरणा स्रोत के रूप में साबित करने के लिए तैयार होना होगा।

जो युवा इस क्षेत्र में पदार्पण करना चाहते हैं, उनके लिए कोई प्रेरणा संदेश दें।

टीचर का कार्य प्रेरित करने वाला पवित्र कार्य है। अध्यापन के कार्य से संतुष्टि, समाज का सम्मान और सही रोजगार भी मिलता है। लेकिन सदियों से चले आ रहे शिक्षण कार्य में अपनी रुचि और लगन से ही समाज को तैयार करने के लिए खुद को तैयार करना होगा।

-नरेन कुमार, धर्मशाला

March 1st, 2017

 
 

हिमाचली पुरुषार्थ

हिमाचली पुरुषार्थबहुआयामी सफलता के अविनाश पहली कक्षा से लेकर सुपर चाइल्ड स्पेशलिस्ट बनने तक के सफर में कभी दूसरा स्थान देखा ही नहीं। संस्कृति के श्लोक बोलने की प्रतियोगिता में पहला स्थान हासिल कर राष्ट्रपति से सम्मान हासिल है, वहीं संगीत के क्षेत्र में एक ऐसा […] विस्तृत....

March 1st, 2017

 

ई-शिक्षा

ई-शिक्षाई-शिक्षा (ई-लर्निंग) को सभी प्रकार के इलेक्ट्रॉनिक समर्थित शिक्षा और अध्यापन के रूप में परिभाषित किया जाता है, जो स्वाभाविक तौर पर क्रियात्मक होतीे है और जिनका उद्देश्य शिक्षार्थी के व्यक्तिगत अनुभव, अभ्यास और ज्ञान के संदर्भ में ज्ञान के निर्माण को प्रभावित करना है। […] विस्तृत....

March 1st, 2017

 

हिमाचल में शिप्की नामक स्थान से प्रवेश करती है सतलुज

समुद्र तल से 3050 मीटर की ऊंचाई पर हिमाचल प्रदेश के शिप्की क्षेत्र से प्रवेश करती है। यहां पहुंचने तक यह पश्चिमी तिब्बती हिमालय में 450 किलोमीटर की लंबी यात्रा तय करती है। शिप्की से यह जिस क्षेत्र में प्रवेश करती है, उसे किन्नौर कहा […] विस्तृत....

March 1st, 2017

 

कैरियर रिसोर्स

हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय में निम्न पदों के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं। पद – जूनियर स्केल स्टैनोग्राफर। शैक्षणिक योग्यता – स्नातक होने के साथ-साथ स्टैनो- टाइपिस्ट या जूनियर स्केल स्टैनोग्राफर के तौर पर तीन वर्ष का अनुभव होना जरूरी है। […] विस्तृत....

March 1st, 2017

 

क्‍या आप जानते हैं

हिमाचल प्रदेश के किस जिले में ‘बीस महोत्सव’ मनाया जाता है ? (क) किन्नौर              (ख) सोलन (ग) शिमला              (घ) मंडी ‘ राक्षस पूजा ’ कहां पर आम प्रथा के रूप में पाई जाती है? (क) मंडी में              (ख) कांगड़ा में (ग) किन्नौर में            (घ) सोलन […] विस्तृत....

March 1st, 2017

 

शिव को ही माना गया सृष्टि का आदिकर्ता

हिमाचल के धार्मिक गीतों में जो गीत शिव संबंधी हैं, उनमें शिव को ही सृष्टि का आदिकर्ता कहा गया है। इसके अनुसार सृष्टि के आरंभ में न धरती थी, न आकाश, न जल, न वायु और न ही सूर्य और चंद्र थे। केवल शिव ही […] विस्तृत....

March 1st, 2017

 

भारत का इतिहास

मुस्लिम लीग के साथ ब्रिटिश सरकार  की सहानुभूति पाकिस्तान के सैनिक शासकों ने एक पूरी जाति को नष्ट करने का प्रयास किया। इस्लाम की एकता के नारों को भूलकर, मुसलमानों ने मुसलमानों के साथ तरह-तरह के अमानुषिक, कुत्सित और वीभत्स अत्याचार किए। इन सबसे भी […] विस्तृत....

March 1st, 2017

 

निरपराधी मोहन को राजा ने फांसी पर लटकाया

भाइयों ने कहा हम राजा से प्रार्थना करके तुम्हें छुड़वा लेंगे, किंतु यदि हम यह कह दें कि खून हमने किया है तो हमें छुड़वाने वाला कोई नहीं होगा। भोला मोहन को फांसी की सजा सुना दी। गांव के लोग निरपराध को फांसी पर लटकते […] विस्तृत....

March 1st, 2017

 

करियर रिसोर्स

डबिंग के क्षेत्र में किस तरह का भविष्य बनाया जा सकता है? — राजबीर सिंह, चंबा एनिमेशन फिल्मों, अंग्रेजी फिल्मों और कार्टून आदि फिल्मों में वॉयस ओवर या डबिंग की जरूरत पड़ती है। डबिंग से मतलब है कार्टून चरित्रों को आवाज देना। इसी तरह अंग्रेजी […] विस्तृत....

March 1st, 2017

 
Page 30 of 505« First...1020...2829303132...405060...Last »

पोल

क्रिकेट विवाद के लिए कौन जिम्मेदार है?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates