Divya Himachal Logo Aug 20th, 2017

कम्पीटीशन रिव्यू


मृत्यु के दूसरे या तीसरे दिन होता है अस्थि प्रवाह

शव दाह के बाद सिर के टुकड़े (जले टुकड़े) तथा अन्य अस्थियां चुनकर सफेद कपड़े में रखकर हरिद्वार में गंगा जी में प्रवाहित किए जाते हैं। अस्तु शब्द अस्थि से अपभ्रंश होकर बना है। अस्तु प्रवाह मृत्यु के दूसरे या तीसरे दिन किए जाने की परंपरा हिमाचल में प्रचलित है…

लोक संस्कृति में संस्कार

धर्म घट स्थाना (धर्मोड़ा) धरमेड़ा : घर आकर स्नान कर इस बीच घर को भी धोया जाता है। वस्त्रादि भी साफ किए जाते हैं। मिट्टी का लोटकू (लोटा) लेकर उसमें सुराख कर सफेद वस्त्र सुराख में लटकाकर पात्र को हरे पेड़ की टहनी से बांध दिया जाता है। उसमें दूध, तिल और जल रोज डाला जाता है। जल धारा के नीचे गोमय पर कुशा से प्रेत भावना कर स्थापित किया जाता है। इसे दशाह के ब्रह्म मुहूर्त में जलाशय के पास फोड़ दिया जाता है।

अस्तु प्रवाह : शव दाह के बाद सिर के टुकड़े (जले टुकड़े) तथा अन्य अस्थियां चुनकर सफेद कपड़े में रखकर हरिद्वार गंगा जी में प्रवाहित किए जाते हैं। अस्तु शब्द अस्थि से अपभ्रंश होकर बना है। अस्तु प्रवाह मृत्यु के दूसरे या तीसरे दिन किए जाने की परंपरा हिमाचल में प्रचलित है।

दशनान : दस दिन तक प्रतिदिन चावल को पकाकर या घी में भुने चावल के आटे को पीसकर दैनिक पिंड दान सायं को दीपदान धर्मघट में जलदान करने का विधान है। दसवें दिन दस भोजन का संकल्प करके आचार्य जिस चार्ज (ब्राह्मणों का एक वर्ग) जो क्रिया तक सभी दान, अंत्येष्टि दान ग्रहण करते हैं, को भोजन करवाया जाता है। सारे वस्त्र आदि धोए जाते हैं। क्षौर कार्य हजामत आदि किया जाता है, जो लोग हरिद्वार में एकादशाह करते हैं वे नवम दिन हरिद्वार जाकर दशम दिन दशाह करके ग्याहरवें दिन क्रिया करके वापस घर आते हैं।

पातक : मृत्यु के दिन से मरणाशैच आरंभ हो जाता है, जिसमें सारे शुभ कर्म, पूजा पाठ, संध्या, देव पूजनादि वर्जित होते हैं। भोजन में परिवार काले उड़द की दली दाल बिना हल्दी, बिना तड़के के 11 दिन प्रयोग करते हैं। कर्मकर्ता का भोजन पात्र अलग होता है। वह भूमि शयन, एक समय भोजन तथा शस्त्र औजारादि स्पर्श नहीं करता। दस दिन तक गरूड़ पुराण का पाठ सुनने की भी परंपरा है, जो पुरोहित सायंकाल को करता है। गरूड़ पुराण का पाठ इन्हीं दिनों में किया जाता है।

किरया : हिमाचल में किरया अधिकतर लोग गांव में ही किसी जलाशय या मंदिर के पास या फिर घर पर ही करवाते हैं। इसमें दो-तीन जानकार विद्वान पुरोहित मिलकर इसे संपन्न करवाते हैं। गांव के सब लोग किरया के पास बैठने आते हैं। इसमें नारायण बलि जिससे शास्त्रों से आए चौसठ दुर्मरणों की शांति होती है तथा सपिंडी श्राद्ध जिससे प्रेत को पूर्वजों के पिंडों में मिलाने से पितृ स्वरूप माना जाता है। इसी से पातक की निवृत्ति होती है, ऐसी मान्यता है। सपिंडी के बाद ही दाल या सब्जी में तड़का (झौंक) लगाने या हल्दी डालने का विधान है। सूतक के दिनों में बिना हल्दी की सब्जी खाने की परंपरा है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

August 2nd, 2017

 
 

आदतों से व्यक्तित्व का और व्यक्तित्व से भविष्य का निर्धारण

यह सत्य ही है कि आपकी आदतों से ही आपके व्यक्तित्व का निर्माण होता है और व्यक्तित्व से ही आपके भविष्य का निर्धारण होता है… हम में से तमाम लोग ऐसे हैं जो अकसर यह सोचते हैं कि इस काम को कल कर लेंगे। अरे […] विस्तृत....

August 2nd, 2017

 

ब्यास नदी के दोनों किनारों पर बसा है कुल्लू

कुल्लू घाटी इस नदी के उत्तर से दक्षिण की ओर फैली है। यह घाटी 80 किलोमीटर लंबी है तथा इसका सबसे चौड़ा पाट 2 किलोमीटर का है। घाटी में श्रद्धा और भय से प्रेरणा देने वाली कंदराएं, तेज धारा के बहते हुए नाले तथा घुमावदार […] विस्तृत....

August 2nd, 2017

 

करियर रिसोर्स

मॉडलिंग के क्षेत्र में करियर बनाने के लिए क्या करना चाहिए? — रूबी शर्मा, डलहौजी मॉडलिंग के लिए आपका व्यक्तित्व, शारीरिक गठन और चेहरा काफी आकर्षक होना चाहिए। अगर आप में ये खूबियां हैं, तो आप सबसे पहले किसी प्रोफेशनल फोटोग्राफर से अपना एक फोटो […] विस्तृत....

August 2nd, 2017

 

क्या आप जानते हैं

भारत में तीनों सेनाओं का प्रमुख कौन होता है? (क) प्रधानमंत्री       (ख) अटार्नी जनरल (ग) राष्ट्रपति          (घ) मुख्य न्यायाधीश ‘ गीत-गोविंद ’ किस लेखक की रचना है? (क) चंदरबरदाई     (ख) जयदेव की (ग) सोमेश्वर         (घ) कृष्णमित्र ओडिशा स्थित कोर्णाक सूर्य मंदिर का निर्माण किस […] विस्तृत....

August 2nd, 2017

 

क्या आप जानते हैं

हिमाचल प्रदेश में छोटी काशी किसे कहा जाता है? (क) मंडी को         (ख) शिमला को (ग) सोलन को        (घ) कांगड़ा को वायसराय लॉर्ड एल्गिन आराम के लिए कहां पर ठहरते थे? (क) कुल्लू में         (ख) सोलन में (ग) धर्मशाला में      (घ) शिमला में […] विस्तृत....

August 2nd, 2017

 

कैरियर रिसोर्स

संघ लोक सेवा आयोग संघ लोक सेवा आयोग द्वारा निम्न पदों के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। पद – मार्केटिंग आफिसर, स्पेशलिस्ट ग्रेड-3 और असिस्टेंट केमिस्ट। शैक्षणिक योग्यता – संबंधित विषय में परास्नातक/एमबीबीएस डिग्री(पदानुसार), अन्य योग्यताएं व निर्धारित अनुभव। आयु सीमा – अधिकतम 30 […] विस्तृत....

August 2nd, 2017

 

औद्योगिक सभ्यता से बढ़ा पर्यावरण प्रदूषण

बढ़ती औद्योगिक सभ्यता की एक सबसे बड़ी कमी यह रही है कि इससे पर्यावरण प्रदूषण बढ़ा है। वर्तमान समय में कारखानों की चिमनियों से निरंतर निकलता धुआं, विभिन्न वाहन तथा ताप बिजलीघर वायुमंडल में भारी मात्रा में धुआं छोड़ते हैं… संसाधनों की कमी : पर्यावरण […] विस्तृत....

August 2nd, 2017

 

भौतिकी में उंची उड़ान

भौतिकी में उंची उड़ानभौतिकी में प्राकृत जगत और उसकी भीतरी क्रियाओं का अध्ययन किया जाता है। स्थान, काल, गति, द्रव्य, विद्युत, प्रकाश, ऊष्मा तथा ध्वनि इत्यादि अनेक विषय इसकी परिधि में आते हैं। यह विज्ञान का एक प्रमुख अंग है… भौतिक शास्त्र अथवा भौतिकी प्रकृति विज्ञान की एक […] विस्तृत....

July 26th, 2017

 

चाणक्य द गुरु अकेडमी, हमीरपुर

चाणक्य द गुरु अकेडमी, हमीरपुरडा. नवनीत शर्मा निदेशक चाणक्य द गुरू अकादमी कोचिंग के क्षेत्र में अपनी एक अलग छवि बना चुकी है। इसी का नतीजा है कि संस्थान युवाओं की पहली पसंद बनता जा रहा है। साल-दर- साल उत्कृष्ट परिणाम देने वाला संस्थान बुलंदियां छू रहा है। 17 […] विस्तृत....

July 26th, 2017

 
Page 4 of 516« First...23456...102030...Last »

पोल

क्या कांग्रेस को विस चुनाव वीरभद्र सिंह के नेतृत्व में लड़ना चाहिए?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates