Divya Himachal Logo Feb 24th, 2017

कम्पीटीशन रिव्यू


क्या आप में है वो बात?

अपने व्यवहार और गतिविधियों से अपने आपको दूसरों के सामने आकर्षक तरीके से प्रस्तुत करना ही पर्सनेलिटी का पहला गुण है। जब बात कैरियर की आती है, तो पर्सनेलिटी में ऐसी बात होनी जरूरी है, जो दूसरों को अपनी ओर आकर्षित करे…

वो दिन अब लद गए, जब किताबी ज्ञान के दम पर छात्र शानदार कैरियर बना लिया करते थे। आजकल कैरियर के जितने भी नए एवेन्यूज सामने आ रहे हैं, उन सभी में योग्यता के साथ-साथ शानदार पर्सनेलिटी का होना भी बेहद जरूरी है। जाहिर है किताबी ज्ञान बढ़ाने के साथ- साथ छात्रों को अपनी ग्रूमिंग पर भी विशेष ध्यान देना चाहिए। %दुनिया पीछे चलती है, चलाने वाला चाहिए% गलत नहीं है यह बात। आपके भीतर ही छिपे होते हैं वे गुण, जो आपको औरों से अलग खड़ा करते हैं। अपने व्यवहार और गतिविधियों से अपने आपको दूसरों के सामने आकर्षक तरीके से प्रस्तुत करना ही पर्सनेलिटी का पहला गुण है। जब बात कैरियर की आती है, तो पर्सनेलिटी में ऐसी बात होना जरूरी है, जो दूसरे को अपनी ओर आकर्षित करे। इसके लिए जरूरी है, अच्छा सेंस ऑफ ह्यूमर, व्यवहार कुशलता, अपने आसपास होने वाली गतिविधियों की जानकारी, हाजिरजवाबी और तुरंत निर्णय लेने की क्षमता। आपके हावभाव, ड्रेस, हेयर स्टाइल, फैशन एक्सेसरीज, बातचीत का तरीका ही वे चीजें हैं, जो पहली नजर में दूसरों को प्रभावित करते हैं।

अट्रैक्टिव कम्युनिकेशनः अच्छे कैरियर के लिए अच्छा कम्युनिकेशन स्किल होना बेहद जरूरी है। अगर आप इंटरव्यू देने जा रहे हैं, तो आपको वन-टू-वन कम्युनिकेशन, ग्रुप कम्युनिकेशन और स्पीच कम्युनिकेशन में महारत हासिल होनी चाहिए। किस मौके पर किस तरह बातचीत की जानी चाहिए, इस बात का खास ध्यान रखें। जब ग्रुप में बात कर रहे हों, तो याद रखें कि दूसरों  को बोलने का पूरा मौका दें। अपनी योग्यता को दिखाने के चक्कर में कुछ ज्यादा बोलना आपके लिए नेगेटिव प्वाइंट साबित हो सकता है। इस बात का ध्यान रखें कि अच्छा कम्युनिकेटर बनने के लिए अच्छा लिसनर होना भी जरूरी है।

व्यवस्थित रहेः अकसर आपने अपने आसपास ऐसे लोगों को जरूर देखा होगा, जो एक-एक फाइल को खोजने में घंटों लगा देते हैं। दरअसल, ऐसी स्थिति इसलिए पैदा होती है, क्योंकि ये लोग अपने कामों को व्यवस्थित और योजनाबद्ध तरीके से नहीं करते। अगर आप व्यवस्थित नहीं हैं, तो ज्यादातर समय उलझनों और दुविधा में ही फंसे रहेंगे। अगर अकसर आप भूल जाते हैं कि आपने कौन सा सामान कहां रखा है, तो लिखने की आदत डालें। कैरियर में आगे बढ़ने के लिए जरूरी है, समय का ध्यान रखना। किसी भी काम को पूरा करने का एक समय होता है और अगर आप उस समय के अंदर उस काम को निपटा देते हैं, तो यह आपकी सफलता का पहला कदम है।

पाजिटिव एप्टिट्यूडः कैरियर के लिए यह बहुत मायने रखता है कि आप बात को किस तरीके से लेते हैं। कुछ लोगों की आदत होती है कि उन्हें कोई भी काम बता दें, वे उसका पाजिटिव कम, नेगेटिव एंगल ज्यादा सोचने लगते हैं। एक सर्वे के आधार पर यह बात साबित हो चुकी है कि अगर आपकी सोच काम के प्रति पाजिटिव रहती है, तो आपकी मंजिल तक पहुंचने के चांस 50 प्रतिशत बढ़ जाते हैं। अगर आपकी सोच नेगेटिव है, तो आपको यही लगता रहेगा कि आपकी किस्मत आपका साथ नहीं दे रही है। पर्सनल ही नहीं, प्रोफेशनल लाइफ में भी सफलता की सीढि़यां चढ़ना चाहते हैं, तो आपको अपने नजरिए में बदलाव लाना होगा।

जरूरी है आत्मनिरीक्षणः वैसे तो अपना मूल्यांकन खुद करना मुश्किल होता है, लेकिन आप अपने बारे में गंभीरता से सोचें कि आपके अंदर क्या कमी है। उसे दूर करने के उपाय तलाशें। इस बारे में दूसरों से भी अपने बारे में जानकारी ले सकते हैं।

December 11th, 2010

 
 

चार्टर्ड अकाउंटेंट बनना हिमाचली युवाओं की पहली पसंद

चार्टर्ड अकाउंटेंट बनना हिमाचली युवाओं की पहली पसंदचार्टर्ड अकाउंटेंसी का क्षेत्र युवाओं के लिए बेहतर विकल्प है। युवाओं के रुझान का पता इसी से लगाया जा सकता है कि भारत में वर्ष 2007 में जहां 2.7 लाख स्टूडेंट्स इसकी परीक्षा में शामिल हुए थे, वहीं यह संख्या 2010 में 7.65 लाख हो […] विस्तृत....

December 4th, 2010

 

अच्छा ऑप्शन है चार्टर्ड अकाउंटेंसी

अच्छा ऑप्शन है चार्टर्ड अकाउंटेंसीचार्टर्ड अकाउंटेंट को कैरियर के तौर पर चुनना बेहतर विकल्प है। इस क्षेत्र में प्रवेश पाने के लिए कड़ी मेहनत की आवश्यकता होती है। हिमाचली युवाओं के लिए यह क्षेत्र कितना फायदेमंद है, इस बारे में हमने नाहन के सीए व एचपी ब्रांच ऑफ  एनआईआरसी […] विस्तृत....

December 4th, 2010

 

हिमाचल के संस्थान-55

हिमाचल के संस्थान-55आईसीडीईओएल शिमला हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी ने स्थापना के बाद गंभीर कदम उठाते हुए डायरेक्टोरेट ऑफ कॉरेसपोंडेंस कोर्सों की शुरुआत की। यूनिवर्सिटी ने पोस्ट ग्रेजुएट स्तर के कोर्सों की शुरुआत करके एक उभरते हुए संस्थान के रूप में अपनी पहचान बनाई है। भारत में एचपीयू ऐसी […] विस्तृत....

December 4th, 2010

 

कैरियर गाइडेंस

कैरियर गाइडेंससोशल वर्क के जरिए सिर्फ समाज सेवा ही हो सकती है या बेहतरीन कैरियर का भी निर्माण संभव है? रमेश, सुंदरनगर सोशल वर्क का संबंध अब केवल समाज कल्याण से ही नहीं है, बल्कि इसके जरिए सरकारी विभागों और एनजीओ में आकर्षक नौकरियां पाना भी […] विस्तृत....

December 4th, 2010

 

रोजगार हेल्पलाइन

हिमाचल व आसपास के रिक्त स्थानों का संपूर्ण संकलन पाठकों की सुविधा के लिए प्रस्तुत करने का प्रयास किया गया है। कृपया नीचे दिया गया फार्म भर कर भेजें। विज्ञापनों में प्रकाशित तथ्यों की पाठक स्वयं जांच कर लें। प्रकाशित सामग्री के लिए दिव्य हिमाचल […] विस्तृत....

December 4th, 2010

 

हिमाचल एक नजर में

1. स्पीति घाटी का अंतिम गांव लोसर है। 2. भागसूनाग जल प्रपात जिला कांगड़ा में है। 3. हिमाचल प्रदेश का कांगड़ा जिला पंजाब की सीमा को छूता है। 4. चंबा व लाहुल-स्पीति की सीमाएं जम्मू व कश्मीर के साथ लगती हैं। 5. सोलन तथा सिरमौर […] विस्तृत....

December 4th, 2010

 

पर्यटन स्थल

जिला कुल्लू बिजली महादेवः इसकी समुद्रतल से ऊंचाई 2460 मीटर है। कुल्लू से इसकी दूरी दस किलोमीटर है। 60 फुट ऊंचा महादेव का लिंग चांदी की तरह चमकता है। भादों मास में इस पर बिजली गिरती है और इसके दो भाग हो जाते हैं, लेकिन […] विस्तृत....

December 4th, 2010

 

प्रदेश की मिट्टियां

इस मिट्टी को तीन श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है- 1. कांप मिट्टीः इस प्रकार की मिट्टी नदियों द्वारा बहाकर लाए हुए पदार्थ से बनती है। 2. टिल मिट्टीः यह मिट्टी हिम-प्रवाह के प्रदेशों में पाई जाती है। इसके कण बड़े, मोटे और कड़े […] विस्तृत....

December 4th, 2010

 

मंडी के तीर्थ स्थल

कुछ धर्मशालाएं भी यहां हैं। वांहदी गांव के पुरानी शैली के बहुमंजिले मकान भी पुरातन संस्कृति के प्रतीक हैं। इसी तरह उत्तरशाल के दूसरे भंडार शूरहन से भी जन्मोत्सव के अवसर पर ऋषि पराशर की यात्रा निकलती है। वांहदी में देवता पराशर के पांच मोहरे […] विस्तृत....

December 4th, 2010

 
Page 464 of 475« First...102030...462463464465466...470...Last »

पोल

क्या हिमाचल में बस अड्डों के नाम बदले जाने चाहिएं?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates