Divya Himachal Logo Mar 30th, 2017

कम्पीटीशन रिव्यू


संस्कृति और धरोहरों की जानकारी जरूरी

संस्कृति और धरोहरों की जानकारी जरूरीडा. अरुण के सिंह प्रोफेसर, इतिहास विभाग, हिमाचल प्रदेश विवि, शिमला

आर्कियोलॉजी में करियर संबंधित विस्तृत जानकारी प्राप्त करने के लिए हमने डा. अरुण के सिंह से बातचीत की। प्रस्तुत हैं बातचीत के प्रमुख अंश…

विस्तार से आर्कियोलॉजी का क्या अर्थ है?

आर्कियोलॉजी एक रोमांच से भरा करियर है। पृथ्वी के गर्भ में छिपी प्राचीनकालीन धरोहरों को सहेजने और उनकी मदद से अतीत की कडि़यों को जोड़ने का ज्ञान इसी विषय के तहत आता है। पुरातत्व प्रबंधन द्वारा पुरातात्विक स्थलों की खुदाई का कार्य संचालित किया जाता है तथा इस दौरान मिलने वाली वस्तुओं को संरक्षित कर उनकी उपयोगिता का निर्धारण किया जाता है। इनकी सहायता से घटनाओं के समय और क्रम के बारे में जरूरी निष्कर्ष निकाले जाते हैं। यह पूरी कवायद अपने आपमें बड़ी रोमांचपूर्ण होती है। इस तरह प्राप्त जानकारियां आगे चलकर ऐतिहासिक साक्ष्य बनती हैं, जो सांख्य दुर्लभ पांडुलिपियों, प्राचीन सिक्कों,  मंदिरों और मूर्तियों आदि के रूप में सामने आते हैं। इनसे यह जानने में मदद मिलती है कि मोहनजोदड़ो, हड़प्पा आदि गुजरी हुई सभ्यताओं का सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक व सांस्कृतिक ढांचा कैसा था और समय बीतने के साथ इसमें क्या बदलाव आए। उसका श्रेय इतिहास और इससे संबंधित ज्ञान के क्षेत्रों जैसे आर्कियोलॉजी को जाता है।

आर्कियोलॉजी में वर्तमान दौर में करियर की क्या संभावनाएं है?

आर्कियोलॉजी में अगर वर्तमान दौर में करियर की संभावनाओं की बात की जाए, तो इसमें अवसरों की भरमार है। रोजगार के विकल्प आर्कियोलॉजी में विशेषज्ञता प्राप्त करने के बाद भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग, नई दिल्ली और राज्यों में स्थित इसके क्षेत्रीय केंद्र, विभिन्न संग्राहलय, कला दीर्घाएं, एनजीओ और विश्वविद्यालय, विदेश मंत्रालय की हिस्टोरिकल डिवीजन, इंडियन काउंसिल ऑफ हिस्टोरिकल रिसर्च, शिक्षा मंत्रालय, पर्यटन मंत्रालय, फिल्म मंत्रालय,भारतीय राष्ट्रीय अभिलेखागार आदि जगहों पर इस क्षेत्र में रोजगार के अच्छे अवसर हैं। सरकारी क्षेत्र के साथ-साथ निजी क्षेत्र में संभावनाओं के अलावा विदेशों में भी काफी स्कोप हैं। इसके साथ कालेजों, विश्वविद्यालयों में भी शिक्षक के रूप में अपनी सेवाएं दे सकते हैं।

इस फील्ड में करियर के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता क्या होती है?

आर्कियोलॉजी की फील्ड में आने के लिए छात्र जमा दो के स्तर पर हिस्ट्री विषय पढ़ा होना चाहिए। इसके साथ ही विश्वविद्यालयों में आर्कियोलॉजी की पढ़ाई इतिहास विभाग के अंतर्गत  ही होती है। विशेषकर परास्नातक स्तर पर ही इस विषय की पढ़ाई होती है। यानी पुरातत्त्वविद बनने के लिए स्नातक की डिग्री का होना आवश्यक है। अगर स्नातक इतिहास, समाजशास्त्र और मानव विज्ञान से किया है, तो परास्नातक स्तर पर पुरातत्त्व विज्ञान को समझने में आसानी होती है। इसके साथ ही साइंस विषय से जुड़े छात्र भी आर्कियोलॉजी में प्रवेश कर सकते है। आर्कियोलॉजी में एमए के बाद छात्र डिप्लोमा कोर्स भी कर सकते है।

आर्कियोलॉजी में करियर बनाने के लिए पढ़ाई के दौरान किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

आर्कियोलॉजी में करियर बनाने के लिए इस विषय की पढ़ाई कर रहे छात्रों को अपने प्रदेश के सुनहरे इतिहास और संस्कृति के प्रति जागरूक होना बेहद जरूरी है। आर्कियोलॉजी में छात्र अपना करियर तभी बना सकता है अगर वह अपने देश और प्रदेश के इतिहास में रुचि रखता हो।

आरंभिक आय इस फील्ड में कितनी होती है?

आर्कियोलॉजी में जहां तक बात की जाए वेतन की, तो यह क्षेत्र और पद पर निर्भर करता है। अगर आप राज्य के आर्कियोलॉजी डिपार्टमेंट में और लेक्चररशिप में जाते हैं, तो इस फील्ड में वेतन 25 से 50 हजार या इससे अधिक भी हो सकता है।

जो युवा इस क्षेत्र में आना चाह रहे हैं, उनके लिए क्या प्रेरणा संदेश है?

मेरा संदेश यही है कि इस फील्ड में वही व्यक्ति आए, जिसकी ऐतिहासिक और सांस्कृतिक खोजों में रुचि है। जुनूनी लोग ही इस करियर में पदार्पण करें,क्योंकि इस फील्ड में कई घंटों से लेकर कई दिनों तक खदानों और ऊबड़-खाबड़ क्षेत्रों में टैंट लगाकर रहना पड़ता है। यानी प्रतिकूल परिस्थितियों में रह सकने वाला ही इस करियर में कामयाब हो सकता है।

-भावना शर्मा, शिमला   

March 15th, 2017

 
 

निबंध प्रतियोगिता

आपके द्वारा भेजे गए निबंधों में से निम्न तीन को श्रेष्ठ चुना गया है, हमारा विषय था क्या मोदी बजट में हिमाचल को इनसाफ मिला प्रथम मुनीष कुमार घियाणा कलां, कांगड़ा नोटबंदी की मुश्किल झेलने के बाद पूरे भारत के साथ हिमाचल के लोगों की […] विस्तृत....

March 15th, 2017

 

करियर रिसोर्स

क्रिमिनोलॉजी और फोरेंसिक साइंस पाठ्यक्रम करने के बाद रोजगार की क्या संभावनाएं हैं? —रमन  कुमार पंडित, मनाली फोरेंसिक साइंस की सभी शाखाओं में इसके विशेषज्ञों की हमेशा मांग रहती है। केंद्रीय व राज्य सरकारों द्वारा चलाई जा रही 24 फोरेंसिक लैब में विशेषज्ञों की भर्ती […] विस्तृत....

March 15th, 2017

 

भारत का इतिहास

भारतीय स्वतंत्रता अधिनियम- 1947 माउंटबेटन योजना के आधार पर ब्रिटिश संसद ने 18 जुलाई, 1947 को भारतीय स्वतंत्रता अधिनियम, 1947 पास किया। इस अधिनियम के मुख्य उपबंध इस प्रकार थेः (1) 15 अगस्त, 1947 से भारत में भारत आर पाकिस्तान नामक दो डोमीनियनों की स्थापना […] विस्तृत....

March 15th, 2017

 

अच्छे वक्ता बनने से पहले अच्छे श्रोता बनें

एक अच्छे वक्ता से पहले एक बेहतरीन श्रोता बनें। अपने विश्वास पर अडिग रहें। इसके साथ ही दूसरे के विश्वास की कद्र जरूर करें। अपना खुद का विश्वास किसी के कहने पर न खोएं।… जिंदगी में सफलता कतनी, कैसी और कब हो, इसका कोई  पैमाना […] विस्तृत....

March 15th, 2017

 

राजा मान सिंह ने 1700 ई. में बनाया गोंदला किला

गोंदला का मुख्य आकर्षण गोंदला के ठाकुर का घर है, जिसे गोंदला गढ़ या किला कहा गया है। जिला के गजटीयर के अनुसार इसका निर्माण कुल्लू के राजा मान सिंह द्वारा 1700 ई. में किया गया था, जिसका प्रभाव बारालाचा-ला से परे लिंगती के मैदानों […] विस्तृत....

March 15th, 2017

 

सतलुज की बड़ी सहायक नदी है बास्पा नदी

शोङठोङ के स्थान पर बारङ खड्ड के सतलुज में मिलने के बाद करछम में इसके बाएं तट पर बास्पा नदी इसमें मिलती है। बासपा सतलुज की वह बड़ी सहायक नदी है, जो किन्नौर की खूबसूरत बास्पा, सांगला उपत्यका में बहती हुई यहां पहुंचती है… हिमाचल […] विस्तृत....

March 15th, 2017

 

खेतीबाड़ी के कारण स्थायी निवास की परंपरा पड़ी

खेतीबाड़ी के आरंभ हो जाने पर वे लोग एक स्थान पर रहने लगे और उनका पारिवारिक जीवन स्थायी होने लगा। इसी प्रकार धीरे-धीरे सामूहिक निवास अथवा समाज की बुनियाद पड़ी। हिम देश में रहने के कारण उनको कठिन शीत से  बचने के लिए विशेष प्रकार […] विस्तृत....

March 15th, 2017

 

भस्मासुर रथ के फटे कपड़े को रखते हैं पूजा घर में

लोग रथ पर टूट पड़ते हैं और उसे तोड़ देते हैं। इसके बाद रथ के चारों ओर लपेटा सफेद कपड़ा लूट लेते हैं। कपड़े को लूटने, चीरने व फाड़ने का दृश्य देखते  ही बनता है। लूटे गए वस्त्र को लोग प्रसाद रूप में घर ले […] विस्तृत....

March 15th, 2017

 

कैरियर रिसोर्स

स्वर्ण पब्लिक सीनियर सेकेंडरी स्कूल नगरोटा बगवां स्वर्ण पब्लिक सीनियर सेकेंडरी स्कूल में प्रशिक्षित और अनुभवी महिला और पुरुष अध्यापकों के लिए निम्न पदों के लिए आवेदन आमंत्रित हैं। टीजीटी- कला, विज्ञान(मेडिकल, नॉन मेडिकल), प्रवक्ता (गणित, वाणिज्य, अंग्रेजी, इतिहास, भौतिक विज्ञान, केमिस्ट्री, संस्कृत) सी एंड […] विस्तृत....

March 15th, 2017

 
Page 5 of 483« First...34567...102030...Last »

पोल

क्या भोरंज विधानसभा क्षेत्र में पुनः परिवारवाद ही जीतेगा?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates