Divya Himachal Logo Sep 25th, 2017

आस्था


श्री विश्वकर्मा पुराण

विश्वकर्मा अपनी रची हुई सृष्टि के किसी भी जीव को इस समारोह से वंचित नहीं रखना चाहते थे। इससे उन्होंने सृष्टि के सभी जीवों को निमंत्रण भेजा। इस निमंत्रण को पाकर असंख्य जीवात्माओं के टोल के टोल रात और दिन आने लगे। भगवान की आज्ञा से आने वाले इन सबका स्वागत भी बहुत ही अच्छी प्रकार से हो रहा था…

इस कार्य में आपकी तथा आपके पुत्र की सहमति लेने के लिए प्रभु ने हमको आपके पास भेजा है, इसलिए प्रभु की इच्छा समझकर आप योग्य उत्तर देने की कृपा करो। प्रभु की इस मांग को कश्यप ने हसंते हुए स्वीकार कर लिया तथा उत्तम मुहूर्त में बृहस्पति ने सूर्यनारायण तथा रत्नादेवी का बागदान विधिपूर्वक कर दिया। इसके बाद वह कश्यप को विवाह मुहर्त बताकर वहां से वापस इलाचल पर आए। उनके जाने के बाद कश्यप मुनि भी अपने पुत्र के विवाह की धूमधाम से सब व्यवस्था करने में लग गए। समस्त जगत को प्रकाश देने वाले सूर्य नारायण की किरणों से ही जल की गति होती है और वह जल प्रकाश के संयोग से पृथ्वी स्वयं ग्रहण किए हुए बीज को अनेक गुना करके वापस देती है। ऐसे प्रखर प्रभाव वाले तथा प्राणी मात्र के जीवन स्वरूप तथा रात और दिन रूपी अनेक नामों से गिने जाने वाले काल का प्रत्येक छोटे भागों का भी नियंत्रण करने वाले ऐसे सूर्य नारायण का इलाचल के ऊपर रह रहे श्री विश्वकर्मा की मानस पुत्री के साथ होने वाले लगन की बात, देखते-देखते सारी सृष्टि के कोने-कोने में फैल गई। कश्यप की तरफ से तथा विश्वकर्मा की तरफ से लगन में आए आमंत्रण मिलते ही सारी सृष्टि के जीव अद्भुत समारोह में भाग लेने के लिए इलाचल की तरफ जाने लगे। विश्वकर्मा अपनी रची हुई सृष्टि के किसी भी जीव को इस समारोह से वंचित नहीं रखना चाहते थे। इससे उन्होंने सृष्टि के सभी जीवों को निमंत्रण भेजा। इस निमंत्रण को पाकर असंख्य जीवात्माओं के टोल के टोल रात और दिन आने लगे। भगवान की आज्ञा से आने वाले इन सबका स्वागत भी बहुत ही अच्छी प्रकार से हो रहा था। कहीं किसी प्रकार की कमी न थी, जिसको जो कुछ भी चाहिए वह सब सामान मिल रहा था। निरंतर इलाचल की तरफ जाते हुए जीवों को देखकर प्रभु विश्वकर्मा के पुत्रों को चिंता होती कि इस इतने छोटे इलाचल के ऊपर सब मानव तथा सजीव और निर्जीव सृष्टि किस तरह रह सकेगी। जैसे-जैसे मनुष्यों की संख्या बढ़ने लगी, ऐसे ही इलाचल की काया भी वृद्धि को पाने लगी। इस तरह प्रभु की कृपा से वहां आने वाले हर किसी के लिए उत्तम व्यवस्था की गई। देव, मानव, यक्ष, गंधर्व, किन्नर, पन्नग, नाग, सुपर्ण, पित, अप्सरा, चरण, सिद्ध, ऋषि, मुनि तथा अनेक पशु, पक्षी कीट तथा पर्व नदी, समुद्र तीर्थ वगैरा तमाम स्थावर जंगम सृष्टि के लिए इलाचल के ऊपर छोटे-बड़े अनेक अलग-अलग निवास स्थानों की कल्पना करने में आए। इसके बाद हर एक को योग्य स्थान में ले जाकर उनका योग्य सत्कार किया गया। नित्य नवीन मिठाई तथा उपहारों से उन अतिथियों का सत्कार किया जाता था। समस्त जगत में प्रकाश को फैलाने वाले ऐसे तेजनिधि सूर्य नारायण ने अपना अति प्रकाशित ऐसा वह स्वरूप जहां था, वहीं रखकर अपनी एक मात्र कला से दूसरा स्वरूप धारण किया तथा माता-पिता को प्रणाम करके उनका आशीर्वाद लेकर उन्होंने भी लगन में जाने के लिए तैयारी की। उत्तम सुगंधी वाले तेल वगैरह का शरीर में लेप करके उन्होंने स्नान किया।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

August 19th, 2017

 
 

संन्यासी और गृहस्थ

स्वामी विवेकानंद गतांक से आगे… संन्यासी शब्द का अर्थ समझाते हुए, अमरीका के बोस्टन नगर में स्वामी जी ने अपने एक व्याख्यान के सिलसिले में कहा, मनुष्य जिस स्थिति में पैदा हुआ है, उसके कर्त्तव्य जब वह पूरे कर लेता है, जब उसकी आकांक्षाएं सांसारिक […] विस्तृत....

August 19th, 2017

 

क्यों आए भगवान कृष्ण और शिव आमने-सामने

दानवीर दैत्यराज बलि के सौ प्रतापी पुत्र थे, उनमें सबसे बड़ा बाणासुर था। बाणासुर  ने भगवान शंकर की बड़ी कठिन तपस्या की। शंकर जी ने उसके तप से प्रसन्न होकर उसे सहस्र बाहु तथा अपार बल दे दिया। उसके सहस्र बाहु और अपार बल के […] विस्तृत....

August 19th, 2017

 

जीवन केवल चेतना ही नहीं

श्रीश्री रवि शंकर जीवन की ऊंचाइयों को आध्यात्मिक ज्ञान के द्वारा ही समझा जा सकता है। इस ज्ञान के अभाव में जीवन उदासी, निर्भरता, अज्ञानता, तनाव व दुख से भरा महसूस होता है। आध्यात्मिक ज्ञान का दृष्टिकोण ही जीवन में उत्तरदायित्व, अपनापन व संपूर्ण मानव […] विस्तृत....

August 19th, 2017

 

तुरीय अवस्था

बाबा हरदेव जाग्रत, स्वप्न, सुषुप्ति, इन तीनों अवस्थाओं में एक चौथी अवस्था ‘तुरीय’ ऐसे ही पिरोई हुई है जैसे माला के मनको में धागा, मानो सोए हुए मनुष्य के भीतर कोई जागा हुआ है। स्वप्न देखते समय भी मनुष्य के भीतर कोई देखने वाला, स्वप्न […] विस्तृत....

August 19th, 2017

 

पूर्णता के परम प्रतीक हैं श्रीकृष्ण

पूर्णता के परम प्रतीक हैं  श्रीकृष्णजो गाय कामधेनु नहीं हो पाई, वह असल में ठीक अर्थों में गाय ही नहीं हो पाई है, वह अपने स्वभाव से च्युत हो गई है। श्री कृष्ण सिर्फ इतना ही कहते हैं कि मैं प्रत्येक स्वभाव की सिद्धि हूं। जो-जो हो सकता है चरम […] विस्तृत....

August 12th, 2017

 

प्रसिद्ध कृष्ण मंदिर

प्रसिद्ध कृष्ण मंदिरभगवान विष्णु के अवतारों में से भगवान कृष्ण सबसे ज्यादा पूजनीय अवतार हैं। पूरे विश्व में श्रीकृष्ण के भक्त हैं और उनके मंदिर भी मौजूद हैं, जहां उनके कई रूपों की पूजा की जाती है। यह सभी मंदिर भगवान कृष्ण से जुड़ी कथाओं, इतिहास और […] विस्तृत....

August 12th, 2017

 

पीरभ्याणू लखदाता

पीरभ्याणू लखदाताहिमाचल प्रदेश के जनपद बिलासपुर मुख्यालय  से चालीस किलोमीटर की दूरी पर समुद्र तल से एक हजार तीन सौ पचास मीटर की ऊंचाई पर  सरयून धार के आंचल में स्थित पीरभ्याणू लखदाता  मंदिर अनायास ही धार्मिक पर्यटकों की पहली पसंद बनता जा रहा है। मंदिर […] विस्तृत....

August 12th, 2017

 

सर्पदंश से मुक्ति दिलाते गुग्गा जाहरपीर

सर्पदंश से मुक्ति दिलाते गुग्गा जाहरपीरगुग्गा जी महाराज राजस्थान के लोक प्रिय देवता हैं। उन्हें जाहरपीर के नाम से भी जाना जाता है। राजस्थान में हनुमानगढ़ जिले का गोगामेड़ी शहर है। यहां भादों शुक्लपक्ष की नवमीं को गोगाजी का मेला लगता है। इन्हें सभी धर्मों के लोग पूजते हैं। वीर […] विस्तृत....

August 12th, 2017

 

परशुराम महादेव मंदिर

परशुराम महादेव मंदिरराजस्थान अरावली की सुरम्य पहाडि़यों में स्थित परशुराम महादेव गुफा मंदिर का निर्माण स्वयं परशुराम ने अपने फरसे से चट्टान को काटकर किया था। इस गुफा मंदिर तक जाने के लिए 500 सीढि़यों का सफर तय करना पड़ता है। इस गुफा मंदिर के अंदर एक […] विस्तृत....

August 12th, 2017

 
Page 20 of 484« First...10...1819202122...304050...Last »

पोल

क्या वीरभद्र सिंह के भ्रष्टाचार से जुड़े मामले हिमाचल विधानसभा चुनावों में बड़ा मुद्दा हैं?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates