भीष्म को मृत्यु शैया पर देख क्यों हंसने लगी थी द्रौपदी

महाभारत में कुछ ऐसी घटनाएं घटित हुईं जो दिलचस्प से ज्यादा रहस्य से परिपूर्ण हैं। जैसे शकुनि का प्रतिशोध, भीष्म को मिला इच्छा मृत्यु का वरदान, शांतनु का गंगा से विवाह, अंबा का श्राप और शिखंडी का जीवन... महाभारत की कहानी काफी रोचक है, इसकी…

दादी मां के नुस्खे

*  लिवर की सूजन और कमजोरी को दूर करने के लिए  हर रोज सुबह-शाम एक गिलास पानी में एक चम्मच शहद और एक चम्मच सेब का सिरका मिलाकर पिएं। *   चेहरे के मुंहासे हटाने के लिए  नीम के पत्तों को पानी में उबाल कर, इस पानी से चेहरे को धोएं। पत्तों को…

त्रिपुरसुंदरी कल्याणी स्तोत्रम का महत्त्व

निम्नलिखित स्तोत्र भगवती त्रिपुरसुंदरी का महाशक्तिशाली तथा सिद्धिदायक स्तोत्र है। इसके पाठ से साधक को भगवती श्रीविद्या की कृपा सहज ही प्राप्त हो जाती है तथा भगवती सदा उस पर कृपालु बनी रहती हैं... -गतांक से आगे... हन्तुः पुरामधिगलम…

विष्णु पुराण

शुद्धःसेल्लक्ष्यते भ्रांत्या गुणवानिवयोऽगुणः। तमात्मरूपिण देवं नताः स्म पुरुषौत्तमम्।। आविकारमज शुद्ध निर्गुण यन्निरंजनम्। नताः स्म तत्पर ब्रह्म विष्णोर्यत्परम पदम्।। अदीर्धहृस्वमस्थूलमनण्वश्यामलोहितम। अस्नेहच्छायमतनुमसक्तमशरीरिणम।।…

अनमोल वचन

* शिक्षक और सड़क दोनों एक जैसे होते हैं, खुद जहां हंै वहीं पर रहते हैं, पर दूसरों को उनकी मंजिल तक  पहुंचा ही देते हैं * इज्जत और तारीफ   मांगी नहीं जाती, कमाई जाती है, नेत्र केवल दृष्टि प्रदान करते हंै परंतु हम कहां क्या देखते हैं यह…

चौसर ने  किया महादेव  और  नारायण का अनिष्ट   

जब माता पार्वती अपना सब कुछ हार गईं, तब महादेव ने हंसते हुए इसका रहस्य बताया। हालांकि भगवान शिव ने माता पार्वती के साथ यूं ही ठिठोली की थी, किंतु देवी पार्वती को बड़ा क्रोध आया। उन्होंने क्रोधित होते हुए भगवान शिव से कहा कि आप हमेशा अपने…

ऐसे करें त्‍वजा की देखभाल

मौसम बदलता है, तो त्वचा की देखभाल के तरीके में भी बदलाव लाने पड़ते हैं। गर्मियों में त्वचा में रूखापन, मुंहासे, मुरझायापन और टैनिंग जैसी समस्याएं आम हैं। इस मौसम में त्वचा तैलीय हो जाती है। अच्छी बात यह है कि आपको त्वचा की देखभाल का पूरा…

शिवजी : अध्यात्म के किसी अजूबे से कम नहीं

शिव अपने इस स्वरूप द्वारा पूर्ण सृष्टि का भरण-पोषण करते हैं। इसी स्वरूप द्वारा परमात्मा ने अपने ओज व ऊष्णता की शक्ति से सभी ग्रहों को एकत्रित कर रखा है। परमात्मा का यह स्वरूप अत्यंत ही कल्याणकारी माना जाता है... शिवजी या महादेव हिंदू धर्म…

कलाई में दर्द के उपाय

यदि आप सूजन से पीडि़त हैं, तो प्रभावित क्षेत्र पर रक्त के अतिरिक्त दबाव को कम करने से सूजन घटाई जा सकती है। इसके लिए आपको चाहिए कि सूजन व दर्द वाले हिस्से पर बर्फ  के कुछ टुकड़े लगाएं। इसके अलावा कपड़े की साफ  पट्टी में उबले आलू मैश करके…

मर्यादा की रामनवमी

राम अपने भाई को राजा और स्वयं तपस्वी बने रहने में अपनी प्रसन्नता व्यक्त करते हैं। सुविधाओं से भरे जीवन की अपेक्षा परमार्थ प्रयोजनों के लिए कष्ट- कठिनाई सहना श्रेयस्कर मानते हैं... भगवान् के अवतार सदा अधर्म के विनाश और धर्म की स्थापना,…

चामुंडा देवी शक्तिपीठ

सावार्णि मन्वंतर में जब देवासुर संग्राम हुआ था तो देवी कौशिकी ने अपनी भृकुटी से चंडिका उत्पन्न की और चंड- मुंड दैत्यों के साथ घोर संग्राम कर उनका वध कर दिया। देवी चंडिका उन दोनों दैत्यों के सिरों को काट कर भगवती कौशिकी के पास ले कर आई।…

शिव के सिर पर आधा चांद क्यों ?

सोम का अर्थ है चंद्रमा या कोई नशीला रूप। सोम रेखा का अर्थ है तृतीया के दिन यानी तीसरे दिन के चंद्रमा के मार्ग को रेखांकित (जमीन पर बनाना) करना। भारत में यह कथा है कि समुद्र मंथन से अमृत और विष निकला, शिव ने विष पी लिया और बाकी सभी लोग अमृत…

कालिका सहस्रनाम

-गतांक से आगे... आज्ञा प्रज्ञा-पूर्ण-मनाश्चंद्र-मुख्यानुवूलिनी। वावदूका निम्न-नाभिः सत्या संध्या दृढ़-व्रता।। 71।। आन्वीक्षिकी दंड-नीतिस्त्रयी त्रि-दिव-सुंदरी। ज्वलिनी ज्वालिनी शैल-तनया विंध्य-वासिनी।। 72।। अमेया खेचरी धैर्या…

भक्ति आत्मिक है

बाबा हरदेव तत्त्व ज्ञानियों का मत है कि नैतिकता अकारण है, इसमें वासना नहीं होती, मानो नैतिकता अखंड चेतना की श्वास है। नैतिकता अतर्क्य है, यह होती है तो होती है, नहीं होती है, तो नहीं होती, कोई चेष्ट करके नैतिकता नहीं ला सकता। नैतिकता कोई…

आध्यात्मिक शक्ति

स्वामी विवेकानंद गतांक से आगे... मनुष्य चकित बोला, ‘आप यह क्या सिखा रहे हैं।’ मैंने उसे कहा, ‘क्या इस दीवार ने कभी चोरी की है? क्या इस दीवार ने कभी शराब पी है?’ ‘जी, नहीं।’ मनुष्य चोरी करता है और वह शराब पीता है और ईश्वर बन जाता है। मैं…