himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

शिवरात्रि महोत्सव मंडी

यह धार्मिक उत्सव मंडी शहर में बड़े  उत्साह से सैकड़ों वर्षों से मनाया जा रहा है। अंतरराष्ट्रीय शिवरात्रि मोहत्सव में इस बार 216 देवी-देवता शिरकत करेंगे। अंतरराष्ट्रीय शिवरात्रि महोत्सव के लिए देवता सजने शुरू हो गए हैं। गांव में न केवल उत्सव…

सत्यभामा मंदिर

विश्वभर में श्रीकृष्ण के कई मंदिर हैं, जहां वो राधा रानी के साथ विराजित हैं, लेकिन भगवान कृष्ण के कुछ ऐसे मंदिर हैं, जहां वो अपनी पत्नियों के साथ विराजमान हैं। जिनमें से एक आंध्र प्रदेश के पुट्टपर्थी में है, जहां वो अपनी पत्नी सत्यभामा के…

श्रीविश्वकर्मा पुराण

इस प्रकार प्रभु की आराधना करने से मनुष्य सब दुखों से मुक्त होता है तथा उसके सिर पर चाहे कैसी भी मुसीबत हो, वह सब दूर होती है  तथा मनुष्य अनेक तरह के उत्तम सुख भोगकर भगवान की अनन्य कृपा को पाते हुए आखिरी में प्रभु के परमपद को पाता है...…

प्रकृति का परिणाम होता है बच्चा

गुरुओं, अवतारों, पैगंबरों, ऐतिहासिक पात्रों तथा कांगड़ा ब्राइड जैसे कलात्मक चित्रों के रचयिता सोभा सिंह पर लेखक डॉ. कुलवंत सिंह खोखर द्वारा लिखी किताब ‘सोल एंड प्रिंसिपल्स’ कई सामाजिक पहलुओं को उद्घाटित करती है। अंग्रेजी में लिखी इस किताब…

विष्णु पुराण

हस्ते तू दक्षिणे चक्रं दृष्टवा तस्य पितामहः। विष्णोरं शपृथुं मन्वा परितोषं पर ययौ।। विष्णु चक्रं करेचिन्ह सर्वेषा चक्रवर्तिनाम्। भवत्यव्याहतो यस्य प्रभाववस्त्रिदशैरपि।। महता राजराज्येन पृथुवेन्यः प्रतापवान। सोऽभिषिक्तौ महातेजा…

रामायण के पांच महान योद्धा

कथा पूरी होने के पहले ही माता पार्वती को नींद आ गई पर उस पक्षी ने पूरी कथा सुन ली। उसी पक्षी का पुनर्जन्म काकभुशुंडि के रूप में हुआ। काकभुशुंडि जी ने यह कथा गरुड़ जी को सुनाई। भगवान श्री शंकर के मुख से निकली श्रीराम की यह पवित्र कथा…

बहुत जटिल है नागा साधु बनने की प्रक्रिया

नागा साधु बनने की प्रक्रिया बहुत जटिल होती है। जो नागा साधु बनना चाहता है, उसे पहले 6 से 12 साल तक ब्रह्मचर्य का पालन करना होता है। इसके बाद ही गुरु उसको नागा बनने की दीक्षा देते हैं। इसी तरह जो महिलाएं नागा साधु बनना चाहती हैं, पहले उनका…

व्रत एवं त्योहार

11 फरवरी रविवार, माघ, कृष्णपक्ष. एकादशी, विजया एकादशी व्रत 12 फरवरी सोमवार, फाल्गुन, कृष्णपक्ष, द्वादशी, फाल्गुन संक्रांति 13 फरवरी मंगलवार, फाल्गुन,  कृष्णपक्ष, त्रयोदशी, महाशिवरात्रि व्रत 14 फरवरी बुधवार,  फाल्गुन, कृष्णपक्ष, चतुर्दशी,…

कुंडलिनी साधना में उद्घाटन कवच

चक्र मूलाधार में चक्र नायिका त्रिपुरा हैं, जबकि भय नृजन्म है। चक्र स्वाधिष्ठान में चक्र नायिका त्रिपुरेशिनी हैं, जबकि भय पशुबुद्धि है। मणिपूर चक्र में चक्र नायिका त्रिपुरेशी हैं, जबकि भय स्त्रीजन्म है। स्वस्तिक में चक्र नायिका त्रिपुरसुंदरी…

आदिकाल से रहस्य बना हुआ है कल्पवृक्ष

ओलिएसी कुल के इस वृक्ष का वैज्ञानिक नाम ओलिया कस्पीडाटा है। यह यूरोप के फ्रांस व इटली में बहुतायत मात्रा में पाया जाता है। यह दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया में भी पाया जाता है। भारत में इसका वानस्पतिक नाम बंबोकेसी है... कल्पवृक्ष स्वर्ग का…

चेतना के जगत में

ओशो हम वस्तुओं के जगत में रहते हैं। न तो हम पदार्थ के जगत में रहते हैं और न हम स्वर्ग के, चेतना के जगत में रहते हैं। अपने आसपास थोड़ी नजर डाल कर देखेंगे, तो समझ में आ सकेगा।  ऐसा नहीं कि आपके घर में फर्नीचर है, इसलिए आप वस्तुओं में रहते…

ऐसे बढ़ाएं इम्युनिटी

स्वस्थ रहने का सबसे अच्छा तरीका है, अपनी रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बनाए रखना और उसमें इजाफा करना। कुछ घरेलू टिप्स को अपनाकर आप कई बीमारियों से खुद को सुरक्षित रख सकते हैं और इम्युनिटी बढ़ा सकते हैं।  एंटीबायोटिक-  हममें से कई लोगों की आदत…

तनाव से मुक्त जीवन

श्रीश्री रविशंकर एक बार मुल्ला नसरुद्दीन के साथ दुर्घटना हुई और वे अस्पताल में थे। शरीर के हरेक अंग की कोई न कोई हड्डी टूटी थी। उनके सारे चेहरे पर पट्टियां बंधी हुई थीं। केवल उनकी आंखें दिख रही थीं। उनके एक मित्र उन्हें मिलने आए और उनसे…

आत्मिक आनंद

श्रीराम शर्मा आनंद अध्यात्म की एक महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। जो व्यक्ति इसे प्राप्त कर लेता है, उसकी अवस्था आध्यात्मिक दृष्टि से काफी उच्च मानी जाती है। यों बहिरंग की प्रफुल्लता सर्वसामान्य में भी देखी जाती है, पर वह भौतिकता से जुड़ी होने के…

संस्कृति एवं धर्म

महेश योगी व्यक्ति की संस्कृति को खोने से तात्पर्य प्रकृति के पोषणकारी नियमों के साथ संबंध को खोना है। संस्कृतियों को विश्वभर में संरक्षित किया जा सकता है, अजेय बनाया जा सकता है, उन्हें उनके मूल स्रोत से पुनः जोड़ कर ऐसा किया जा सकता है...…
?>