himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

खुदा मैंने तुझे दिलों में उतरते देखा है

फूलों में हो तुम डालों में तुम। अंधेरों में तुम उजालों में तुम।। भंवरों को मैंने फूलों से लिपटते देखा है। खुदा मैंने तुझे दिलों में उतरते देखा है।। प्रकृति के कण- कण में तू है समाया। अपनी महक से तूने ये संसार है महकाया।। कच्ची उम्र में अकसर…

जीवंत परंपराओं का प्रतीक ‘शांत महायज्ञ’

महिषासुर का वध करने के बाद महाशक्ति का रूप इतना विकराल हो गया कि उनके उस रूप के आगे मानव तो क्या देवगण भी ठहर नहीं पा रहे थे। मां की रक्त पिपासा इतनी अधिक बढ़ गई थी कि उन्होंने सृष्टि का नाश करना आरंभ कर दिया। चारों ओर हाहाकार मच गया...…

सुंदरता किसने उजाड़ी?

हैं कितने मूर्ख लोग अपने कश्मीर को उजाड़ रहे हैं, कुछ सिक्कों के लालच में अपनी तकदीर को फाड़ रहे हैं। लगता है सभी अंधे हो गए हैं पराये धन से स्कूल जला रहे हैं, ताकि यहां का कोई बच्चा पढ़ न सके स्वर्ग को नरक बना रहे हैं। जो लोग दूसरों को…

चित्तरंजन दास

चित्तरंजन दास एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे, जिनका जीवन भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में युगांतकारी था। चितरंजन दास को प्यार से देशबंधु(देश के मित्र) कहा जाता था। वह महान राष्ट्रवादी तथा प्रसिद्ध विधि-शास्त्री थे। चित्तरंजन दास अलीपुर षड्यंत्र…

परदे पर भाषायी द्वंद्व

‘हिंदी मीडियम’ ने यह साबित कर दिया है कि हिंदी मात्र भाषा नही है। यह एक जीवन-पद्धति है। इसमें एक-दूसरे के प्रति  सुख-दुख बांटने और सहानुभूति दिखाने की ही बात नहीं है, अपितु   एक-दूसरे के लिए जान तक दांव पर लगाने की प्रबलतम भावना विद्यमान…

नए मीडियम में हिंदी का प्रवेश

‘हिंदी मीडियम’ ने भाषा से जुड़ी मानसिकता को बखूबी चित्रित किया है और इस दृष्टि से लेखक की सृजन क्षमता अपने जमीर पर टिकी है। भाषा अपने भीतर के भाव में किसे, कहां तक समेट सकती है, इसका जिक्र कोई फिल्म कितना करेगी, लेकिन जिस चौराहे पर लाकर इस…

अंग्रेजी की पढ़ाई : बच्चों की तबाही

जाब के सरकारी स्कूलों में सबसे ज्यादा बच्चे अंग्रेजी में फेल होते हैं। हर विषय में 60-65 प्रतिशत नंबर लानेवाले बच्चे अंग्रेजी में 15-20 नंबर भी नहीं ला पाते। अंग्रेजी का रट्टा लगाने में अन्य विषयों की पढ़ाई भी ठीक से नहीं हो पाती। अंग्रेजी…

बिरसा मुंडा

बिरसा मुंडा एक आदिवासी नेता और लोकनायक थे। वह 19वीं सदी में बिरसा भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के इतिहास में एक मुख्य कड़ी साबित हुए। ये मुंडा जाति से संबंधित थे। बिरसा मुंडा का जन्म 1875 ई. में झारखंड राज्य के रांची में हुआ था। उन्होंने कुछ…

अहिल्याबाई होल्कर

अहिल्याबाई का जन्म 31 मई, सन् 1725 में हुआ था। अहिल्याबाई के पिता मानकोजी शिंदे एक मामूली किंतु संस्कारवान आदमी थे। इन्होंने घाट बनवाए,कुओं और बावडि़यों का निर्माण करवाया, मार्ग बनवाए, भूखों के लिए सदाव्रत (अन्नक्षेत्र ) खोले, प्यासों के…

कलम का सिपाही बनाम सिपाही की कलम

किसी कारणवश, समाचार पत्रों  में ऐसी गंभीर अकादमिक रूप से अच्छे स्तर की सामग्री नहीं छप रही है, जिसे रोजमर्रा पढ़कर आप प्रतियोगी परीक्षाओं में उपयोग कर सकें। याद करें कुछ वर्ष पूर्व की ही बात, जब मां-बाप अपना पेट काटकर अतिरिक्त अखबार या पहला…

गज़ल

कश्ती में छेद कर डुबाने की साजिश किस की थी आप शामिल नहीं उसमें तो फिर साजिश किस की थी। अपने ही तो थे सवार कोई गैर न था, फिर हमें अलग करने की साजिश किस की थी। जानती हो फिर भी न जाने क्यों चुप हो, कि घर ढहाने की पुरजोर साजिश किस की थी। दिल…

खूबसूरत जिंदगी

फूलों को छूकर देखो पंखुडि़यों को सहलाओ हरी पत्तियों को जी भर कर चूमो सुगंध को दामन में भरकर खुशियों के गीत गुनगुनाओ। झरनों के पानी में जीवन के सुमधुर तराने सुनो उमड़ते-घुमड़ते जलंधरों के साथ-साथ सृजन के सपने बुनो मिट्टी की महक में घुलमिल…

कविता

बेटियां क्या सच में घर का शृंगार हैं बेटियां, फिर समाज में क्यों दिखती आज भी लाचार हैं बेटियां माना कि पापा की लाड़ली, मां की दुलारी हैं बेटियां, पर सड़क पर आज भी वहशी दरिंदों की शिकार हैं बेटियां । नवरात्रों में देवी और घर की लक्ष्मी हैं…

नर्मदा की इतिहास-यात्रा

युद्ध में दुर्गावती साक्षात दुर्गा की तरह लड़ी और मुगल सेना हतप्रभ रह गई। प्रकृति ने भी दुर्गावती का साथ नहीं दिया। गोंड सेना के पीछे गौर नदी में बाढ़ आ गई और रानी नदी और मुगल सेना की बाढ़ के मध्य फंस गई। एक तीर रानी की आंख में लगा और जब…

कविताएं

समर्पण आत्मा हैं हम रचयिता हमारे तुम परमात्मा। तन, तुम्हारा उपहार मन, तुम्हारी कठपुतली गुण, तुम्हारे आशीर्वाद दोष तुम्हारे श्राप बुद्धि, तुम्हारी देन सब कुछ तुम्हारा, तुमने ही दिया, तुम ही लो, श्रेय- हमारी उपलब्धियां का, उत्तरदायित्व विजय-…
?>