Divya Himachal Logo Mar 30th, 2017

प्रतिबिम्ब


ये गैर हिमाचली सशक्त अभिनेत्री

प्रिया राजवंश का जन्म 1937 में शिमला में हुआ। उनके पिता फॉरेस्ट डिपार्टमेंट में कंजरवेटर थे । प्रिया की शिक्षा शिमला के ऑकलैंड हाउस,कानवेंट ऑफ जीसस एंड मैरी, शिमला में हुई। सेंटबीड्स कॉलेज में भी उन्होंने पढ़ाई की। उसी दौरान उन्होंने गेयटी थिएटर में कई नाटकों में अभिनय किया। इसके बाद उनके पिता यूएन एसाइनमेंट पर गए । इसलिए ग्रेजुएशन के बाद प्रिया ने रॉयल अकादमीऑफ ड्रामेटिक आर्ट लंदन में ट्रेनिंग ली। लंदन से वह हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में आईं। उनकी पहली फिल्म हकीकत थी । इसी दौरान उनके चेतनआनंद से संबंध बने जो अपनी पत्नी से अलग हो चुके थे। आगे चल कर उन्होंने चेतनआनंद के फिल्मनिर्माण में पूरा सहयोग दिया। फिल्म हकीकत,हीर-रांझा,हंसते जख्म,हिंदुस्तान की कसम,कुदरत और हाथ की लकीरें उनकी महत्वपूर्ण फिल्में थीं। 27 मार्च 2000 को चेतनआनंद के बेटों ने जायदाद की लालच में उनकी हत्या कर दी।

January 3rd, 2011

 
 

ताल भर सूरज

(शलभ श्रीराम सिंह) बहुत दिनों के बाद देखा आज हमने और चुपके से उठा लाए जाल भर सूरज दृष्टियों में बिंब भर आकाश छाती से लगाए घाट घास पलाश… तटपर खड़ी वेला निर्वसन चुपचाप हाथों से झुकाए डाल भर सूरज ताल भर सूरज विस्तृत....

January 3rd, 2011

 

आज के अश’आर

तुम भी तो थे  सजा हमें ही क्यों मिली तुम भी तो थे बेशक सच्चा प्यार हमने ही किया था मगर झूठा प्यार करने वाले तुम भी तो थे इल्जाम हम पर ही क्यों लगे हकदार तुम भी तो थे यह सच है कि आज […] विस्तृत....

January 3rd, 2011

 

मधुरता की विरासत

( सुनीता तिवारी) कहते हैं कि गीत कितने भी गा लिए जाएं और संगीत अपने आप में कितना ही परिवर्तन कर ले परंतु परंपरा का वजूद अपनी जगह है। हिमाचली पारंपरिक गीतों की लयबद्धता ,सुरों का सुंदर प्रवाह और पारंपरिक मिठास का संयोजन उन्हें अद्भुत बना […] विस्तृत....

January 3rd, 2011

 

पर्यावरणके लिए समर्पित

सरदार लाभ सिंह पुरी, के पूर्वज, पाकिस्तान से स्थान परिवर्तन की मन्शा लेकर सोलन आए थे तथा यहां की सरकार के विभिन्न पदों पर कार्यरत रहे। उन्हीं की संतान हैं दुर्लभ सिंह पुरी, जिनका जन्म 27 जनवरी 1955 को सोलन में हुआ। उनकी शिक्षा सोलन […] विस्तृत....

January 3rd, 2011

 

यह जाता हुआ साल…

-फीचर डेस्क सा ल की शुरुआत ही थी जब हैती में बहुत बड़ा भूकंप आया 7.3 रिक्टर स्केल पर। टीवी पर स्तब्ध कर देने वाला नजारा था । लोग मर रहे थे… चीखें, कराहें और रोते हुए लोग। चारों ओर तबाही के अलावा कुछ नहीं […] विस्तृत....

December 27th, 2010

 

अलविदा फुसफुसे साहित्यिक वर्ष 2010

-पुष्पांजलि, राजपुर (पालमपुर) 176061 हिमाचल प्रदेश में साहित्य का सृजन एवं प्रकाशन किन्हीं मूलभूत प्रेरणाओं से जुड़ा रहा है। कभी सरकारी खरीद के लालच में प्रकाशक हिमाचल के लेखकों को चूसते हैं और कभी अपनी अन्य प्रकाशित पुस्तकों की खपत के लिए वे सत्तासीन प्रभावशाली […] विस्तृत....

December 27th, 2010

 

आजादी

(प्रदीप गुप्ता, बिलासपुर) नील गगन, जल स्थल के हम  मूक प्राणी  जिन्हें स्वच्छंद विचरना  सुहाता है  सदियों से हमें मानव  अपने शौक के लिए  क्यों सताता है।  मानव स्वयं तो हर क्षेत्र में  अपनी आजादी के लिए  हर किस्म के हथ कंडे  व जाल फैलाता […] विस्तृत....

December 27th, 2010

 

प्रगति की ओर हिमाचली युवा रचनाशीलता..

-भारती स्कूल ढालपुर, कुल्लू प्रगति की ओर हिमाचली युवा रचनाशीलता.. जो कुछ हमारे आस-पास घट रहा है, उसमें से सच की परतें उघाड़ते हुए नए सत्यों का प्रतिपादन करना और आभासी सत्यों पर से पर्दा उठाकर नए तरीके से सोचने का नजरिया पाठक के सामने […] विस्तृत....

December 27th, 2010

 

सुलग रही फूलों की घाटी

सुलग रही फूलों की घाटी प्यासी हिरनी सम्मुख मृगजल कंपित पग,पथराया मन है बहुत उदास आज दर्पण है नीलकंठ के पंख नोच कर मस्त बाज कर रहे किलोलें सहमी-सहमी सी गौरैया छुपी-छुपी शाखों पर डोलें कोटर पर नागों का पहरा नींद दूर है,दूर सपन हैं […] विस्तृत....

December 20th, 2010

 
Page 152 of 159« First...102030...150151152153154...Last »

पोल

क्या भोरंज विधानसभा क्षेत्र में पुनः परिवारवाद ही जीतेगा?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates