himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

धर्मवीर भारती : विविधता के साहित्यकार

डॉ. धर्मवीर भारती (जन्म-25 दिसंबर, 1926 - मृत्यु-4 सितंबर, 1997) आधुनिक हिंदी साहित्य के प्रमुख लेखक, कवि, नाटककार और सामाजिक विचारक थे। वह साप्ताहिक पत्रिका धर्मयुग के प्रधान संपादक भी रहे। डॉ. धर्मवीर भारती को 1972 में पद्मश्री से…

कोई नहीं बचा पाया जीवन…

श्रद्धांजलि हमारे बहुप्रिय वरिष्ठ कवि तेजराम शर्मा जी अकस्मात यूं चुपचाप चले जाएंगे, किसी ने भी सोचा नहीं था। हमारी उनसे इस वर्ष आठ दिसंबर को चंडीगढ़ में बात हुई थी। नौ दिसंबर की गोष्ठी के लिए उनको निमंत्रण देना था...फोन उनकी अर्धांगिनी ने…

संघर्ष की लंबी गाथा लिखी है बद्री सिंह ने

ख्याति प्राप्त साहित्यकार बद्री सिंह भाटिया का जन्म जिला सोलन की अर्की तहसील के गांव ग्याणा में 4 जुलाई,1947 को औसत से नीचे एक किसान परिवार में हुआ। सात वर्ष की आयु में गांव से एक किलोमीटर दूर खुले प्राथमिक विद्यालय मांगू से पांचवीं, आठ…

चश्मा उतार कर ही सही समीक्षा होगी

हिमाचल का लेखक जगत अपने साहित्यिक परिवेश में जो जोड़ चुका है, उससे आगे निकलती जुस्तजू को समझने की कोशिश। समाज को बुनती इच्छाएं और टूटती सीमाओं के बंधन से मुक्त होती अभिव्यक्ति को समझने की कोशिश। जब शब्द दरगाह के मानिंद नजर आते हैं, तो किताब…

उपेंद्रनाथ अश्क : बहुविधावादी रचनाकार

उपेंद्रनाथ अश्क (जन्म-14 दिसंबर, 1910 - मृत्यु-19 जनवरी, 1996) उपन्यासकार, निबंधकार, लेखक, कहानीकार थे। अश्क जी ने आदर्शोन्मुख, कल्पनाप्रधान अथवा कोरी रोमानी रचनाएं की। उनका जन्म पंजाब प्रांत के जालंधर नगर में एक मध्यमवर्गीय ब्राह्मण परिवार…

पर्जन्य : हर भाव, हर रस की अभिव्यक्ति

पुस्तक समीक्षा * पुस्तक का नाम : पर्जन्य * लेखक का नाम : डॉ. आरके गुप्ता * कुल पृष्ठ : 80 * मूल्य : 150 रुपए * प्रकाशक : पार्वती प्रकाशन, इंदौर सुंदरनगर से संबंधित प्रतिष्ठित लेखक डॉ. आरके गुप्ता का कविता संग्रह ‘पर्जन्य’ प्रकाशित हुआ है।…

गजल देती है मन को शांति और चैन

गजल मन को शांति ही नहीं, बल्कि चैन भी देती है। हर पल कापी व पैन साथ में रहता है। जब भी कुछ शब्द याद आए, सहज ही पंक्तियां बनकर गजल में पिरो दी जाती हैं...यह कहना है बिलासपुर के लेखक अमरनाथ धीमान का। बिलासपुर जिला के अली खड्ड के किनारे दली…

शुद्धि पत्र

तीन दिसंबर के दिव्य हिमाचल के पृष्ठ आठ पर छपे प्रतिबिंब की सीरीज ‘लेखक के संदर्भ में किताब’ को लेकर हम पाठकों को सूचित करना चाहते हैं कि इसमें कुछ तकनीकी खामियां रह गई थीं। इस कारण इस सीरीज की किस्त नंबर पांच को खारिज समझा जाए। अमरनाथ धीमान…

सूचना से संवाद : मीडिया की कान खिंचाई

पुस्तक समीक्षा * पुस्तक का नाम : सूचना से संवाद (पत्रकारिता का भारतीय परिप्रेक्ष्य) * लेखक : डा. जयप्रकाश सिंह * प्रकाशक : वैदिक पब्लिशर्ज, नई दिल्ली * कुल पृष्ठ : 110 * मूल्य : रुपए 125/- (पेपर बैक), रुपए 240 (हार्ड कवर) क्या भारतीय मीडिया…

मर्यादा में रहकर होता है सृजन

लेखक के संदर्भ में किताब हिमाचल का लेखक जगत अपने साहित्यिक परिवेश में जो जोड़ चुका है, उससे आगे निकलती जुस्तजू को समझने की कोशिश। समाज को बुनती इच्छाएं और टूटती सीमाओं के बंधन से मुक्त होती अभिव्यक्ति को समझने की कोशिश। जब शब्द दरगाह के…

कवि प्रदीप : देश भक्ति के गाने लिखकर समृद्ध किया साहित्य

देशभक्ति के गाने लिखकर समृद्ध किया साहित्य कवि प्रदीप (जन्म : 6 फरवरी, 1915, उज्जैन, मध्य प्रदेश;  मृत्यु : 11 दिसंबर, 1998, मुंबई, महाराष्ट्र) का मूल नाम रामचंद्र नारायणजी द्विवेदी था। प्रदीप हिंदी साहित्य जगत् और हिंदी फिल्म जगत् के एक…

बालकृष्ण शर्मा : प्रगतिशीलता के कवि

बालकृष्ण शर्मा नवीन (जन्म - 8 दिसंबर, 1897 ई., भयाना ग्राम, ग्वालियर; मृत्यु - 29 अप्रैल, 1960) हिंदी जगत् के कवि, गद्यकार और अद्वितीय वक्ता थे। हिंदी साहित्य में प्रगतिशील लेखन के अग्रणी कवि पंडित बालकृष्ण शर्मा नवीन के पिता श्री जमनालाल…

पाठक का हाल पूछती हैं श्याम लाल की कहानियां

पुस्तक समीक्षा * पुस्तक का नाम : संवेदनाएं (कहानी संग्रह) * लेखक का नाम : श्याम लाल शर्मा * मूल्य : 235 रुपए * कुल कहानियां : 25 * कुल पृष्ठ : 187 * प्रकाशक : नोशन प्रेस, चेन्नई लेखक श्याम लाल शर्मा का कहानी संग्रह ‘संवेदनाएं’ समीक्षार्थ…

मैथिलीशरण गुप्त : राष्ट्रवाद के प्रखर साहित्यकार

मैथिलीशरण गुप्त (जन्म-3 अगस्त, 1886, झांसी; मृत्यु-12 दिसंबर, 1964, झांसी) खड़ी बोली के प्रथम महत्त्वपूर्ण कवि थे। महावीर प्रसाद द्विवेदी की प्रेरणा से उन्होंने खड़ी बोली को अपनी रचनाओं का माध्यम बनाया और अपनी कविता के द्वारा खड़ी बोली को…

लोक संस्कृति के उत्थान में

जुटे हैं अमरनाथ कुल गजलें : 22 कुल पुरस्कार : 04 मुख्य पुस्तकें : जिंदगी का सफर (हिंदी गजल संग्रह), प्रेरणा जन्म : 8 नवंबर 1964 जन्म स्थान : मैहरी-काथला शिक्षा : एमए, बीएड माता :      रूपां देवी पिता :   शेर सिंह धीमान गजलें सुकून ही नहीं…
?>