himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

मंगल वर्षा

पी के फूटे आज प्यार के पानी बरसा री हरियाली छा गई, हमारे सावन सरसा री बादल छाए आसमान में, धरती फूली री भरी सुहागिन, आज मांग में भूली-भूली री बिजली चमकी भाग सरीखी, दादुर बोले री अंध प्रान-सी बही, उड़े पंछी अनमोले री छिन-छिन उठी हिलोर मगन-मन…

देवकीनंदन खत्री

देवकीनंदन खत्री  हिंदी के प्रथम तिलिस्मी लेखक थे। उन्होंने ‘चंद्रकांता’, ‘चंद्रकांता संतति’, काजर की कोठरी’, ‘नरेंद्र-मोहिनी’, ‘कुसुम कुमारी’, ‘वीरेंद्र वीर’, , ‘कटोरा भर’ और ‘भूतनाथ’ जैसी रचनाएं कीं। ‘भूतनाथ’ को उनके पुत्र ‘दुर्गा प्रसाद…

विस्थापन के बीच शब्दों की खेती

कुलदीप चंदेल, अतिथि संपादकविस्थापन प्रायः विवशताओं से उपजता है। बाध्यताओं के कारण शरीर तो एक जगह से दूसरी जगह चला जाता है, लेकिन स्मृतियां अपनी जड़ों में उलझी रहती हैं। वे बार-बार उस परिवेश की तरफ लौटना चाहती हैं, जिसने उन्हें गढ़ा है। यह…

विस्थापन का दौर यूं कब तक

मैं हूं एक ऐसी पौध जो अपनी ही जमीन से उखाड़ कर बेदखली के रूप रोपित कर दी गई पराई जमीन पर हवा, पानी, खाद भी जिंदा न रख पाई मुझे क्योंकि  अपनी ही जड़ों से कटी तलाशती रही ताउम्र अपनी पुश्तैनी जड़ें बिन पुष्पित, पल्लवित ढूंढ बन रह गई, एक पेड़…

विस्थापितों के हक पर गैर विस्थापितों का कब्जा

विस्थापित शब्द आजकल प्रायः हर रोज पढ़ने और सुनने को मिलता है। इसका सरलार्थ है कि सरकार द्वारा किसी व्यक्ति अथवा व्यक्तियों के समूह की संपत्ति (भवन-भूमि आदि) का सार्वजनिक हित में मुआवजा राशि देकर अधिग्रहण करना। कल्याणकारी राज्य होने के नाते…

एक शहर पुराना सा

मंदिरों, शिवालयों, कुओं, स्नानागारों और बाग- बागीचों वाला बड़ा अद्भुत था वह एक शहर पुराना सा। पंछी थे कलरव करते बूढ़े पेड़ों पर, बांसों के बीहड़ों पर बच्चे थे खेला करते गोहर, पोखर, गलियां-गलियां बड़ा अद्भुत था, वह एक शहर पुराना सा। खाखी शाह…

लाभांश में मिले हिस्सा

जनहित तथा विकास के लिए सरकार सड़कें, फोरलेन फ्लाईओवर तथा हाइड्रो प्रोजेक्ट बनाती-लगाती है। इसके लिए सरकार लोगों की मिलकीयत भूमि, घर, दुकानें क्षतिपूर्ति की रकम या मुआवजा देकर हासिल कर लेती है। इसका परिणाम यह होता है कि सैकड़ों की संख्या में…

नदी में अठखेलियां

ब्यास नदी में उतरा मन ऊपर आकाश में डोलता पैराग्लाइडर। पहाड़ की चोटियां झाड़ती बर्फ जिस ओर देखें सब बुलाती अपनी तरफ। स्वच्छ धारा और मचलती लहरें उछल-उछल कर कहती हम से हैं बहारें। बाहें पसार स्वागतरत डोलता, तैरता राफ्ट अभिमंत्रित करती…

एक बेहतर दुनिया बनाएं

आओ पेड़ों के साथ कुछ सुख-दुख सांझे करें हवाओं से एक रिश्ता बनाएं बादलों से प्यार करें बारिश में भीगें धूप से शिकायत करें पर्वतों से गूढ़ बातें करें नदियों से दोस्ती गांठें जंगलों से भाईचारा निभाएं पंछियों के साथ-साथ चहकें, उड़ें फूलों सा…

लोक संपृक्ति के कथाकार अरुण भारती का जाना

‘भेडि़ए’ शीर्षक से ही वर्ष 1990 में अरुण भारती का पहला कहानी संग्रह प्रकाशित हुआ। उस संग्रह की कहानियों-कब्र, टावर, स्वांग और शून्य से शून्य तक के अख्तर, नत्थू, चैतिया और ज्ञानी जैसे पात्र आज भी याद आते हैं। अरुण भारती का दूसरा कहानी संग्रह…

जीवंत परंपराओं का प्रतीक ‘शांत महायज्ञ’

‘शांत महायज्ञ’ तीन दिनों तक मनाया जाने वाला महायज्ञ है। पहले दिन मेजबान देवता द्वारा आमंत्रित देवता अपने-अपने क्षेत्रों से पालकी में अपने-अपने खूंदो एवं ग्रामवासियों के साथ अस्त्र-शस्त्रों (तलवारें, दराट, लाठियां, भाले, खुरपी एवं बंदूकों)…

ओंकारनाथ ठाकुर

ओंकारनाथ ठाकुर  भारत के प्रसिद्ध संगीतज्ञ एवं हिंदुस्तानी शास्त्रीय गायक थे। ओंकारनाथ के दादा महाशंकर जी और पिता गौरीशंकर जी नाना साहब पेशवा की सेना के वीर योद्धा थे। एक बार उनके पिता का संपर्क अलोनीबाबा के नाम से विख्यात एक योगी से हुआ। इन…

अरुण भारती जी का यूं चले जाना

प्रदेश के प्रतिष्ठित कहानीकार और साहित्यकार अरुण भारती जी का यूं अचानक चले जाना साहित्य जगत के लिए अपूर्णीय क्षति है। मुझे वह दिन याद आता है जब पुस्तक मेले के दौरान साहित्यक कार्यक्रमों के अंतर्गत, साहित्य अकादमी और भाषा संस्कृति विभाग के…

इतिहास के झरोखे में नर्मदा

सन् 1857 की क्रांति के बाद नर्मदा की धारा मानो स्वाधीनता की चेतना को सिंचित और पल्लवित करने वाली प्रेरणा रेखा बन गई। नर्मदा किनारे के आश्रम ज्ञात-अज्ञात क्रांतिकारियों के शरणस्थल ही नहीं बनें, बल्कि योजनाओं और उन्हें क्रियान्वित करने की रूप…

गेयटी थियेटर में खिले इंद्रधनुषी रंग

पिछले दिनों  गेयटी थियेटर माल रोड शिमला में पुस्तक मेला लगा। साथ ही साथ विभिन्न विभागों के सहयोग से सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए गए। इसका यहां के स्थानीय लोगों के साथ स्कूलों के बच्चों, बाहर से आए पर्यटकों ने भी भरपूर आनंद उठाया और फायदा…
?>