Divya Himachal Logo Jan 22nd, 2017

विचार


स्वर्णिम उम्मीदों का धर्मशाला खेल छात्रावास

newsभूपिंदर सिंह

लेखक, राष्ट्रीय एथलेटिक प्रशिक्षक हैं

धर्मशाला खेल छात्रावास में कई प्रतिभावान धाविकाएं प्रशिक्षण प्राप्त कर रही हैं, जो भविष्य में राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अच्छा प्रदर्शन कर सकती हैं। आने वाले वर्षों में ये धाविकाएं ईमानदारी से अपना प्रशिक्षण जारी रखती हैं, तो अगले ओलंपिक, राष्ट्रमंडल व एशियाई खेलों में ये भारत का प्रतिनिधित्व कर देश को पदक दिला सकती हैं…

हिमाचल प्रदेश में भारतीय खेल प्राधिकरण के दो खेल छात्रावास हैं। लड़कों के लिए बिलासपुर में और लड़कियों के लिए धर्मशाला में प्रशिक्षण कार्यक्रम कुछ चुनिंदा खेलों में साई दे रही है। धर्मशाला खेल छात्रावास को सबसे पहले राष्ट्रीय पटल पर पहचान दिलाने का श्रेय प्रशिक्षक केहर सिंह पटियाल की ट्रेनी मंजु कुमारी को जाता है, जब डेढ़ दशक पूर्व उसने राष्ट्रीय स्कूली एथलेटिक्स प्रतियोगिता में हिमाचल के लिए स्वर्ण पदक जीता था। उसके बाद हिमाचल को इस प्रशिक्षक ने कई बार राष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रतियोगिता में पदक तालिका में जगह दिलाई। इसी के शुरुआती प्रशिक्षण में राष्ट्रीय भाला प्रक्षेपक संजो देवी ने स्कूली तथा कनिष्ठ राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में हिमाचल के लिए पदक जीते थे। आशा कुमारी ने भी अखिल भारतीय अंतर विश्वविद्यालय खेलों में दस हजार मीटर में स्वर्ण तथा पांच हजार मीटर दौड़ में रजत पदक जीतकर 2005 विणावेली अंतर विश्वविद्यालय एथलेटिक्स प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ धाविका का ताज भी पहना था।

यह धाविका दो बार अखिल भारतीय अंतर विश्वविद्यालय एथलेटिक्स क्रॉस कंट्री प्रतियोगिता, 2005 तथा 2006 में व्यक्तिगत स्पर्धा में स्वर्ण पदक विजेता भी रही थी। टीम स्पर्धा में हिमाचल को उपविजेता ट्रॉफी मिली थी। 2008 में प्रशिक्षक केहर सिंह का तबादला धर्मशाला से बिलासपुर हो गया तथा धीरे-धीरे यह प्रशिक्षण केंद्र एथलेटिक्स में पिछड़ता चला गया। एक समय ऐसा भी आ गया, जब इस प्रशिक्षण केंद्र की धाविकाओं को राज्य स्तर पर पदक प्राप्त करना भी कठिन हो गया था। भारतीय खेल प्राधिकरण इस केंद्र से एथलेटिक्स को बंद करने ही जा रहा था, उस समय फिर केहर सिंह धर्मशाला नियुक्त हुए और पिछले तीन वर्षों में एक बार फिर यह केंद्र एथलेटिक्स में अपनी चमक बिखेर रहा है। इस केंद्र की धाविका हरमिलन कौर ने बीते वर्ष कनिष्ठ राष्ट्रीय एथलेटिक्स में रिकार्ड क्वालिफाई समय में रजत पदक 1500 मीटर दौड़ में जीतकर विश्व कनिष्ठ एथलेटिक्स प्रतियोगिता में हिस्सेदारी की तथा एशियाई कनिष्ठ प्रतियोगिता में कांस्य पदक भी जीता है। बीते वर्ष ही राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित हुए सभी एथलेटिक्स प्रतियोगिताओं में प्रशिक्षक केहर सिंह पटियाल की शिष्यों ने बेहतर प्रदर्शन करते हुए हिमाचल के लिए पदक जीते हैं।

फेडरेशन कप में हिना ठाकुर ने 5000 मीटर में स्वर्ण पदक जीता। इसी धाविका ने अखिल भारतीय अंतर विश्वविद्यालय एथलेटिक्स में हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के लिए 5000 मीटर की दौड़ में कांस्य पदक जीता है। वर्ष 2012-13 के बाद हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय को यह पदक मिला है। 2012-13 में हमीरपुर महाविद्यालय की ज्योति ने 400 मीटर में कांस्य पदक जीता था। ज्योति के प्रशिक्षण की शुरुआत भी प्रशिक्षक केहर सिंह के द्वारा ही हुई है। स्कूली राष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रतियोगिता में इस वर्ष धर्मशाला खेल छात्रावास की सीमा ने 5000 मीटर की दौड़ में रजत पदक जीता है। हिमाचल स्कूल को भी यही एकमात्र पदक इस प्रतियोगिता में मिला है। राष्ट्रीय क्रॉस कंट्री प्रतियोगिता में इसी खेल छात्रावास की धाविका कनिजों ने जूनियर वर्ग में व्यक्तिगत रजत पदक हिमाचल के लिए जीता है। इस प्रतियोगिता में भी हिमाचल को केवल यही एकमात्र पदक मिला है। प्रशिक्षक पटियाल एक बहुत ही कर्मठ और पेशे के प्रति ईमानदार प्रशिक्षक हैं। रविवार व राष्ट्रीय छुट्टियों में भी इस प्रशिक्षक को धर्मशाला के सिंथेटिक ट्रैक पर प्रशिक्षण करवाते देखा जा सकता है। इन पदक विजेता धाविकाओं के साथ-साथ इस प्रशिक्षण केंद्र में और कई प्रतिभावान धाविकाएं प्रशिक्षण प्राप्त कर रही हैं, जो निकट भविष्य में राष्ट्रीय  व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बहुत अच्छा प्रदर्शन कर सकती हैं। अगर ईमानदारी ने अगले चार वर्षों तक ये धाविकाएं अपना प्रशिक्षण जारी रखती हैं, तो 2020 के ओलंपिक तथा 2022 के राष्ट्रमंडल व एशियाई खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व कर देश को पदक दिला सकती हैं। इन बड़ी प्रतियोगिताओं में यदि ऐसी सफलता मिलती है, तो यह भारत के साथ-साथ पहाड़ी राज्य हिमाचल के लिए भी गौरव का विषय होगा। प्रदेश के अन्य एथलेटिक्स प्रशिक्षकों को भी इस प्रशिक्षक से प्रेरणा लेकर राज्य की एथलेटिक्स को ऊपर उठाने का प्रयत्न करना चाहिए। राज्य खेल विभाग बिलासपुर में लड़कियों तथा ऊना में लड़कों के लिए खेल छात्रावास चला रहा है। पिछले एक दशक से भी अधिक समय से चल रहे इन दोनों खेल छात्रावासों से एक भी धावक या धाविका राज्य को पदक दिलाने में नाकामयाब रहे हैं।

इस सब के लिए वहां लगे प्रशिक्षक अपनी जिम्मेदारी से नहीं छूट सकते हैं। हालांकि अभी भी कुछ ज्यादा नहीं बिगड़ा है। इन दोनों ही छात्रावासों के धावकों तथा उनके प्रशिक्षकों को चुनौती लेकर प्रशिक्षण कार्यक्रम जारी रखना होगा, ताकि आगामी वर्षों में यहां से भी राज्य को पदक मिल सके। प्रशिक्षक केहर सिंह पटियाल को खत्म हुए सत्र में भारी सफलता के लिए खेल जगत बधाई देता है तथा आगामी वर्ष के प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

ई-मेल : penaltycorner007@rediffmail.com

January 20th, 2017

 
 

रोेडरेज की बढ़ती घटनाएं

(डा. राजेंद्र प्रसाद शर्मा, जयपुर (ई-पेपर के मार्फत)) बीच चौराहों पर रोडरेज की घटनाएं न केवल चिंतनीय हैं, बल्कि आज के युवाओं की संवेदनहीन मानसिकता को दर्शाती हैं। जरा सी बात पर एक-दूसरे की जान तक ले लेना आम होता जा रहा है। आखिर यह […] विस्तृत....

January 20th, 2017

 

दूर हुआ क्लेश

(डा. सत्येंद्र शर्मा, चिंबलहार, पालमपुर) साइकिल की चाबी मिली, नाच रहे अखिलेश, छीना-झपटी खत्म हुई अब, दूर हुआ क्लेश। साइकिल औड्डी बन गई, लगे सुनहरे पंख, अब चुनाव का बज गया, यह पंचजन्य शंख। बूढ़ा शेर पटक दिया, चाचू का है यह खोट, चुंबक लेकर […] विस्तृत....

January 20th, 2017

 

बैंक खातों की पड़ताल

(रूप सिंह नेगी, सोलन) सरकार ने नोटबंदी के बाद बैंकों में विमुद्रीकृत नोटों के जमा राशियों में से काले धन की अलगसे पहचान करने के लिए जो फार्मूला तैयार  किया गया है, वह सराहनीय है। लेकिन विभिन्न व्यवसायों, गैर सरकारी संगठनों, सरकारी विभागों और  राजनीतिक […] विस्तृत....

January 20th, 2017

 

शीतकालीन राजधानी के शिलालेख

शिमला की बर्फबारी के बीच सरकार के कांगड़ा प्रवास पर होना अपने आप में किसी राजधानी के सबब से कम नहीं, फिर भी मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने पत्ते खोलते हुए धर्मशाला में अपने मुकाम को नया नाम दिया। प्रतीकात्मकता का प्रभाव जीवन के हर पहलू […] विस्तृत....

January 20th, 2017

 

‘मोदी कांग्रेस’ में परिवारवाद !

बुजुर्ग कांग्रेसी नेता नारायण दत्त तिवारी भाजपा में शामिल हुए। यह जितनी बड़ी खबर थी, उतनी ही हास्यास्पद और सवालिया भी। लेकिन मीडिया में छीछालेदर के बाद सूत्रों के जरिए खबर आई कि तिवारी नहीं, उनके बेटे रोहित शेखर भाजपा में शामिल हुए हैं। अलबत्ता […] विस्तृत....

January 20th, 2017

 

सिद्धू की नई पिच

लगातार मुलाकातों और अटकलों के बाद अंततः नवजोत सिंह सिद्धू कांग्रेस में शामिल हो गए। बीते चार-पांच दिनों में उनकी कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकातें हुईं और राहुल ने माला पहनाकर सिद्धू को कांग्रेस का हिस्सा बना दिया। दरअसल सिद्धू सोच-विचार के स्तर पर […] विस्तृत....

January 19th, 2017

 

गठबंधन के सहारे अखिलेश

गठबंधन के सहारे अखिलेशपीके खुराना ( पीके खुराना लेखक, वरिष्ठ जनसंपर्क सलाहकार और विचारक हैं ) अखिलेश सत्ता में हैं। पार्टी पर उनका वर्चस्व बन गया है। वह परिपक्व राजनीतिज्ञ की छवि में आ चुके हैं और पार्टी ने उन्हें सफलतापूर्वक विकास के प्रतीक के रूप में पेश […] विस्तृत....

January 19th, 2017

 

कांग्रेसी रगड़ की चिंगारियां

हिमाचली राजनीति के जिस छोर पर कांग्रेस खड़ी है, वहां नायक और नेतृत्व में वजन तोला जा रहा है। हालांकि यह पहला अवसर नहीं है कि अपने ही रक्त में कांग्रेसी पहचान के कतरों को विभाजित करके देखा गया हो, इससे पूर्व भी सत्ता के […] विस्तृत....

January 19th, 2017

 

बर्फबारी से सामने आए नाकामियों के निशान

बर्फबारी से सामने आए नाकामियों के निशान( कर्म सिंह ठाकुर  लेखक, सुंदरनगर, मंडी से हैं ) टूरिज्म को बढ़ावा देना तो दूर की बात, जो विरासत में मिला है, यह उसके दोहन में भी नाकाम साबित हुआ है। विभाग वर्ष भर कंगणा रणौत की ब्रांड एंबेसेडर बनने की मिन्नतें करता रहा, […] विस्तृत....

January 19th, 2017

 
Page 2 of 1,97512345...102030...Last »

पोल

क्या भाजपा व कांग्रेस के युवा नेताओं को प्रदेश का नेतृत्व करना चाहिए?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates