Divya Himachal Logo Apr 25th, 2017

विचार


अनुबंध कर्मचारियों के वारे-न्यारे

NEWSबचन सिंह घटवाल

लेखक, मस्सल, कांगड़ा से हैं

कर्मचारी वर्ग से अगर सही काम लेना है, तो जरूरी है कि उसके वेतन-भत्तों का ख्याल रखा जाए। अगर कर्मी अपनी आर्थिक उलझनों में ही उलझा रहेगा, तो  वह अपना पूरा ध्यान अपने काम पर नहीं लगा पाएगा। सरकार ने बेशक देरी से यह फैसला लिया है, पर कर्मचारी वर्ग इससे बड़ी राहत महसूस कर रहा है…

परिवर्तन की राह में सरकारी कर्मचारियों के भविष्य को संवारने का क्रम जारी रखते हुए वर्तमान कांगे्रस सरकार का एक अहम निर्णय, जिसमें अनुबंध से आहत कर्मियों का अनुबंध कार्यकाल तीन वर्ष तक रखने का ऐतिहासिक कदम प्रदेश सरकार ने उठाया है। पहले यह अनुबंध कार्यकाल आठ वर्ष था, फिर सरकार ने इसे पांच वर्ष तक कर दिया और अब सरकार ने अनुबंध कार्यकाल को तीन वर्ष कर दिया है। अनुबंध के नाम पर होने वाले शोषण से कर्मचारी लंबे अरसे से परेशान थे, जिसकी समय सीमा घटने से कर्मचारियों को सुखद भविष्य के प्रति विश्वास और आशा जग गई है। अनुबंध के कारण युवाओं में सरकारी नौकरी के प्रति आकर्षण घटा था, पर सरकार के इस फसले ने युवाओं में सरकारी नौकरी के प्रति आकर्षण को बढ़ाया है। अनुबंध के दीर्घ कार्यकाल से छटपटाता अनुबंध कर्मी हिमाचल दिवस के मौके पर प्रदेश सरकार के सबसे बड़े तोहफे से गदगद हो गया है। अनुबंध में पांच वर्ष की जगह अब तीन वर्ष का अनुबंध काल कर्मियों के लिए एक दिव्य वरदान की तरह प्रतीत हो रहा है। इस तथ्य को झुठलाया नहीं जा सकता कि अनुबंध शब्द सरकारी महकमों में एक तीक्ष्ण शूल की चुभन का एहसास मात्र देने का कार्य करता रहा है। पहले सरकार नौकरी लगने पर युवा को यह पता होता था कि आठ साल तक उसे अनुबंध पर रखा गया है और उसे उस काम के लिए एक बंधा-बंधाया वेतन ही मिलेगा और वही काम करने वाला उसका सहयोगी, जो रगुलर है, वह मोटी तनख्वाह और भत्ते इत्यादि भी लेता था। इससे उसके मोराल पर भी फर्क पड़ता था और वह अपना पूरा ध्यान काम पर नहीं लगा पाता था। आठ साल निकालते -निकालते उसके सारे सपने मंद पड़ जाते थे। अब तीन साल का अनुबंध होने से उसके सपने इतनी जल्दी नहीं दम तोड़ेंगे। अनुबंध की पीड़ा को हरने का काम वर्तमान प्रदेश सरकार ने कर्मियों के बेहतर कल के निर्माण हेतु किया है। इसमें संदेह नहीं है कि अनुबंध कर्मियों के सफल संगठन व योग्य नेतृत्व का अभूतपूर्व प्रयास आज अनुबंध कर्मियों के सुखद भविष्य हेतु खुशियों का अंबार लेकर आया है। निःसंदेह इस सुखद प्रयास को अविस्मरणीय सुनहरी अक्षरों में लिखा जाएगा, जो कि एक बहुत बड़ी उपलब्धि है। कर्मचारियों के मन की पीड़ा के एहसास को समझने वाली वर्तमान सरकार ने अपने कार्यकाल की उपलब्धियों में चरणबद्ध तरीके से सभी प्रकार के कर्मचारियों के दुखों को निवारण करने का अभूतपूर्व कार्य किया है, जिससे कर्मचारी वर्ग सरकार के प्रति समर्पित व अपने बेहतर कार्य के प्रदर्शन के लिए भी उत्साहित नजर आएगा। बेशक अनुबंध कार्यकाल शनैः शनैः अपनी लंबी अवधि से सिमटता हुआ तीन वर्ष की अवधि तक सिमटा है, जो कि आशा की किरण के रूप में भविष्य में बिलकुल समाप्त ही हो जाएगा। इसके कयास लगने शुरू हो गए हैं। जहां सीमित स्रोतों से घर की गाड़ी को धकेलता हुआ अनुबंध कर्मी हताश सा था, उसमें इस अभूतपूर्व घोषणा ने नवगति व बेहतर कल के एहसास का अंकुर प्रस्फुटित कर दिया है। आज अनुबंध कर्मचारियों के अलावा वे कर्मचारी भी उत्साहित नजर आ रहे हैं, जो सरकारी महकमों में चाहे पार्ट टाइम कर्मी हों या आउटसोर्स से सरकारी सेवा में शामिल हुए हैं।

हर जन की दृष्टि में सुखद चमक का दृष्टिगत होना प्रदेश सरकार की नवनीति व उत्थान के कार्यों के स्वागत के प्रतीक हैं। आज सुनहरे भविष्य को तलाशते सरकारी सेवा की इच्छा पाले हिमाचल के चाहे बेरोजगार युवक-युवतियां हों या शिक्षा ग्रहण कर रहे छात्र-छात्राएं, वे भी आशाओं के नवगुंजन में आशातीत परिवर्तन के सहभागी प्रतीत हो रहे हैं, क्योंकि रोजगार की दौड़भाग में रोजगार पाने पर लंबे अनुबंध काल के बजाय इस सीमित तीन वर्ष के अनुबंध का असर अवश्य आम जनमानस में भी सुकून की लौ जगाएगा। आज हिमाचल ही नहीं, बल्कि हर प्रदेश में निर्वाचित सरकारें अपने प्रदेश के नागरिकों के हित में कार्यरत उनकी आकांक्षाओं को पूर्ण करने के लिए प्रतिस्पर्धा में हैं। कल्याणकारी फैसलों का असर दूरगामी अवश्य होता है। हर व्यक्ति की चाह नौकरी पाना जरूर होता है। जब अनुबंध का कार्यकाल दीर्घगामी था, तब असंख्य व्यक्ति निराशा के जाल में उलझे हुए थे, परंतु यह नीतिगत बदलाव प्रदेश में उन्नति व खुशहाली का वाहक बनेगा। कर्मचारी वर्ग से अगर सही काम लेना है, तो जरूरी है कि उसके वेतन-भत्तों का ख्याल रखा जाए। अगर कर्मी अपनी आर्थिक उलझनों में ही उलझा रहेगा, तो  वह अपना पूरा ध्यान अपने काम पर नहीं लगा पाएगा। सरकार ने बेशक देरी से यह फैसला लिया है, पर कर्मचारी वर्ग इससे बड़ी राहत महसूस कर रहा है। सरकार की कुछ मजबूरियां रही होंगी, या बजट की कमी के कारण इस फैसले की देरी से घोषणा की गई, पर जो भी है सरकार ने हिमाचल दिवस पर दअपने कर्मचारियों को तोहफा दे दिया है। अब सरकार के कर्मचारियों का भी दायित्व बनता है कि वे अपने काम में निखार लाएं, सरकार की योजनाओं को बिना देरी किए आमजन तक पहुंचाएं। अगर सरकार ने अपने कर्मचारियों के बारे मेंसोचा है, तो कर्मचारियों को भी अपने काम से सरकार का सकारात्मक पक्ष पेश करना चाहिए।

April 24th, 2017

 
 

कूड़ा उठाने वाली वह लड़की

कूड़ा उठाने वाली वह नटखट सी लड़की, मुंह अंधेरे ही निकल पड़ती है काम पर…। वह बजाती है सीटी घर-घर से उठाती है कूड़ा और घसीट कर ले जाती है कूड़े से भरा बोरा…। पीछे से उसे पुकारती है उनींदी आंखें लिए बड़े घरों की […] विस्तृत....

April 24th, 2017

 

सपने अगर हों अपने

सपने अगर हों अपने और आंखें उधार की। करना नहीं ए दर्दे दिल उम्मीदें बहार की।। खुद चलानी सीख ले अपनी कश्तियां। वरना न पार होगी यह नदिया संसार की।। पालकी में बैठकर जो घूमते रहे। बयान क्या करेंगे वो पीड़ा कहार की।। जिनकी हरेक […] विस्तृत....

April 24th, 2017

 

‘युग-यथार्थ और हम-तुम’

निर्धनता के अंगारों पर गुजरते झुलसते कदम बेबस-लाचार-व्याकुल देखती-परखती आंखें भूख से सिसकती गोद देखती रही है बरसों से लहराते बैनर कदमताल करते आश्वासन झूठ की जमीन पे खड़े वादे अट्टालिकाओं के ऊंचे-ऊंचे दरवाजे बाहर बैठे रखवाली में पहरेदार सड़क पर हाथ पसारे लोगों का […] विस्तृत....

April 24th, 2017

 

विजन की परिभाषा में भाजपा

राजनीति की आंखें जितनी खुलेंगी, उतना ही विजन स्पष्ट होगा। विडंबना यह है कि संकीर्णता की सतह पर ही हिमाचली सियासत ने अपने दुर्ग चुनने की कोशिश की और विजन हारता रहा। कुछ नेता इससे हटकर चले, तो लोगों ने उन्हें सिर पर बैठा लिया, […] विस्तृत....

April 24th, 2017

 

भाजपा के मुसलमान !

वैसे तो यह सवाल ही बेतुका है, क्योंकि हकीकत सभी जानते हैं कि भाजपा (या आरएसएस) और मुसलमानों के आपसी समीकरण और संबंध कैसे हैं? लेकिन एक संदर्भ के जवाब में केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने जो कहा, उसके बाद एक और सांप्रदायिक शोर […] विस्तृत....

April 24th, 2017

 

पहाड़ी जलवायु का खेल प्रशिक्षण में लें लाभ

(डा मुनीश सिंह राणा (ई-मेल के मार्फत)) हिमाचल देवभूमि है। इसकी प्राकृतिक सुंदरता व शांतिप्रिय वातावरण ने इसे कई ऋषि-मुनियों की तप स्थली बनाया है। भौगोलिक दुरूहता के कारण खेलों के मैदान बनाने में भले ही प्रकृति अड़चन पैदा करती रही हो, इसके विपरीत इसकी […] विस्तृत....

April 24th, 2017

 

महादेवी वर्मा

महादेवी वर्मा  हिंदी भाषा की प्रख्यात कवयित्री हैं। महादेवी वर्मा की गिनती हिंदी कविता के छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभ सुमित्रानदन पंत, जयशंकर प्रसाद और सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’ के साथ की जाती है। आधुनिक हिंदी कविता में महादेवी वर्मा एक महत्त्वपूर्ण शक्ति के रूप […] विस्तृत....

April 24th, 2017

 

बात बराबरी की

(प्रेम चंद माहिल, हमीरपुर) स्त्री और पुरुष समाज रूपी रथ के पहियों के समान हैं, जिसमें एक भी पहिया थम जाए, तो रथ आगे नहीं बढ़ सकता। ठीक उसी प्रकार यदि समाज में स्त्री समाज की उपेक्षा होगी, तो संपूर्ण समाज के विकास की प्रक्रिया […] विस्तृत....

April 24th, 2017

 

कौटिल्य हीरोज में एंट्री को लड़ाएंगे जी-जान

कौटिल्य हीरोज में एंट्री को लड़ाएंगे जी-जानहिमाचल फोरम ‘दिव्य हिमाचल’ फुटबाल लीग को लेकर प्रदेश भर के युवाओं में खासा जोश है। मीडिया गु्रप की अनूठी पहल से जहां युवाओं को विश्व के नंबर वन खेल में अपनी पहचान बनाने का मौका मिलेगा, वहीं खेल से उनके अंदर छिपी प्रतिभा भी […] विस्तृत....

April 24th, 2017

 
Page 2 of 2,05212345...102030...Last »

पोल

हिमाचल में यात्रा के लिए कौन सी बसें सुरक्षित हैं?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates