Divya Himachal Logo Feb 24th, 2017

विचार


और यह भी…

( सुरेश कुमार, योल )

सरकार को महज दस महीने बचे हैं। अब वक्त भी नहीं है और बजट भी नहीं। इसलिए परिवहन मंत्री और कुछ नहीं, तो बस अड्डों का नाम बदलने का काम ही करने लग पड़े हैं। अब खाली बैठे भी क्या करना। बिना बजट के सुर्खियों में बने रहने के लिए यही एक तरीका है।

 

February 23rd, 2017

 
 

हिंदू, मुसलमान के नारे

यह कई सौ फीसदी हकीकत है कि भाजपा को हिंदुओं की लामबंदी चाहिए और सपा-कांग्रेस, बसपा को मुसलमानों का फिक्र है। नतीजतन उत्तर प्रदेश में चौथे चरण के मतदान से पूर्व हिंदू, हिंदू और मुसलमान के जुमले सुनाई देने लगे हैं। इन नारों में कौन […] विस्तृत....

February 23rd, 2017

 

आजादी से अब तक

( बाल मुकुंद ओझा, जयपुर (ई-पेपर के मार्फत) ) आजादी के 70 वर्षों बाद आज हमारा देश अपने देशवासियों की अंतरात्मा को झकझोर रहा है। एक वह भी वक्त था, जब देश की समृद्धि को कई उपमाएं दी गई थीं। जिस देश में दूध-दही की […] विस्तृत....

February 23rd, 2017

 

नायक हुए बेचैन

( डा. सत्येंद्र शर्मा, चिंबलहार, पालमपुर ) ईवीएम में कैद है, नेता की तकदीर, करवट, मर्जी ऊंट की, धुंधली है तस्वीर। अंदर से टूटे हुए, बाहर से मुस्कान, जैसे-जैसे दिन घटे, निकली जाए जान। नींद रात की उड़ गई, उड़ गया दिन का चैन, दिल […] विस्तृत....

February 23rd, 2017

 

लुटेरों पर नकेल

( जयेश राणे, मुंबई, महाराष्ट्र ) चीन के सर्वोच्च न्यायालय ने 67.3 लाख डिफाल्टरों को काली सूची में डाल दिया है। इस प्रकार न्यायालय ने देश से भाग जाने की उनकी हर कोशिश को नाकामयाब कर दिया है। डिफाल्टरों के साथ कैसे बर्ताव करना चाहिए, […] विस्तृत....

February 23rd, 2017

 

दुष्प्रचार से बचें

( डा. शिल्पा जैन, वंरगल (तेलंगाना) ) कुछ दिन पहले व्हाट्सऐप पर एक मैसेज बहुत शेयर किया गया। इसमें दो महिलाओं के स्कैच बने हुए थे, साथ में यह संदेश पुलिस की तरफ से था कि उक्त दोनों महिलाएं बच्चा चोर हैं। अतः लोग उनसे […] विस्तृत....

February 22nd, 2017

 

बारूद के पैरोकारों से शांति की आशा

बारूद के पैरोकारों से शांति की आशा( भारत डोगरा लेखक, पर्यावरणीय मामलों के जानकार हैं ) संयुक्त राष्ट्र संघ की सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्यों को बहुत महत्त्वपूर्ण अधिकार दिए गए हैं। उनसे उम्मीद की जाती है कि वे विश्व शांति के प्रति विशेष जिम्मेदारी का परिचय देंगे, पर कड़वी […] विस्तृत....

February 22nd, 2017

 

भुट्टिको बना हिमाचली ब्रांड

भुट्टिको के उत्पादों को राष्ट्रीय हैंडलूम टैग का मिलना प्रदेश की हस्ती में भी इजाफे जैसा है। ये सहकारिता आंदोलन की हिमाचली बनावट के आदर्श हैं, जो राष्ट्रीय पहचान में शरीक हो रहे हैं। जाहिर तौर पर अब कुल्लू की शाल को प्रदर्शन का बड़ा […] विस्तृत....

February 22nd, 2017

 

बसपा की ‘सोशल’ रणनीति !

बसपा के संस्थापक नेता कांशीराम प्रेस, मीडिया को ‘मनुवादी’ मानते थे। उनकी दलील थी कि बसपा की सोच और बहसों को मीडिया तोड़-मरोड़ कर छापता है। उस दौर में बसपा प्रेस के किसी भी विमर्श में हिस्सा नहीं लेती थी और सोशल मीडिया तो तब […] विस्तृत....

February 22nd, 2017

 

हताशा से भरी भाषा

( रूप सिंह नेगी, सोलन ) इसमें दो राय नहीं कि हाल के कुछ समय से देश के नेताओं ने भाषा के स्तर को न्यूनतम पायदान पर पहुंचा दिया है। इसे दुर्भाग्यपूर्ण और भारतीय मूल्यों के विपरीत ही कहा जा सकता है। उत्तर प्रदेश की […] विस्तृत....

February 22nd, 2017

 
Page 2 of 1,99912345...102030...Last »

पोल

क्या हिमाचल में बस अड्डों के नाम बदले जाने चाहिएं?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates