himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

मंजिल नहीं…बस सफर ही है पत्रकारिता

अपनी प्रखर लेखनी से सरकार की चूलें हिला देने वाला पत्रकार समाज को आईना दिखाकर सच से रू-ब-रू करवाता है। सरकार और आवाम के बीच की इस कड़ी को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ यूं ही नहीं कहते। यह वह सेतू है जो देश और समाज की तरक्की की दिशा और दशा तय करता…

काबिलीयत के लिए

काबिलीयत का निर्देशन या संचालन अगर नाकाबिल हो जाए, तो मानव संसाधन की दिशा को दुरुस्त करना कठिन है। इसी परिप्रेक्ष्य में हिमाचल सरकार को जो अहम फैसले करने हैं, उनमें स्कूल शिक्षा बोर्ड अध्यक्ष व शिमला विश्वविद्यालय के कुलपति का चयन निर्णायक…

आधी आबादी को अधूरा प्रतिनिधित्व

कंचन शर्मा लेखिका, शिमला से हैं 68 सदस्यीय हिमाचल विधानसभा में केवल तीन महिलाएं ही चुनी गईं। जब महिलाएं बढ़-चढ़कर प्रचार-प्रसार में हिस्सा ले रही हैं, तो टिकट आबंटन के वक्त महिलाओं को तवज्जो क्यों नहीं दी जाती? राजनीति में महिला भागीदारी का…

मौसम की मनमर्जी

पूजा, मटौर, कांगड़ा देश और प्रदेश में कुछ ऐसी घटनाएं हो रही हैं, जिनके बारे में हमारे बुजुर्ग कहते हैं कि क्या करना भाई, कलियुग है। लेकिन आजकल जो प्राकृतिक बदलाव आ रहे हैं, उनको भी कलियुग का प्रभाव माना जाएगा? मौसम भी अब अपनी मर्जी का मालिक…

मंजिल नहीं…बस सफर ही है पत्रकारिता

अपनी प्रखर लेखनी से सरकार की चूलें हिला देने वाला पत्रकार समाज को आईना दिखाकर सच से रू-ब-रू करवाता है। सरकार और आवाम के बीच की इस कड़ी को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ यूं ही नहीं कहते। यह वह सेतू है जो देश और समाज की तरक्की की दिशा और दशा तय करता…

कानून या ‘धमकी’ सेना !

देश के संविधान पर भरोसा नहीं है। सर्वोच्च न्यायालय का फैसला नहीं मानेंगे। सेंसर बोर्ड की औकात नहीं है। भाजपा सरकारें राजपूत वोटों के कारण खामोश हैं, लेकिन फिल्म ‘पद्मावत’ पर पाबंदी थोप दी थी, जो असंवैधानिक कर्म था। करणी सेना के कुछ चेहरे…

कीमती तोहफा है ‘वक्त’

रोमिल कौंडल, केंद्रीय विश्वविद्यालय, धर्मशाला आज के दौर में व्यक्ति के पास दूसरों के लिए ही नहीं, बल्कि खुद के लिए भी समय नहीं बचा है। व्यक्ति महंगे-महंगे तोहफे देकर दूसरों को खुश करने की चाह रखता है, पर उसे यह नहीं पता कि दूसरों के लिए…

बदलियों का एजेंडा

सुरेश कुमार, योल सोचा था सरकार बदल रही है, अब कुछ बदलेगा। पर यह क्या, सरकार तो कुछ और ही बदल रही है। कभी आईएएस, तो कभी आईपीएस की बदलियां और कभी दूसरे अधिकारियों के तबादले। हर सरकार ऐसी ही होती है, कुछ नया नहीं होता। राजनीति ढर्रे पर ही चलती…

पर्यावरणीय चिंताएं

डा. राजन मल्होत्रा, पालमपुर सर्दियां सिर्फ ठंड लेकर नहीं आतीं, बल्कि इसके साथ बर्फ की चादर में लिपटा एक पूरा पर्यटन सीजन हिमाचल में पेश होता है। लेकिन मौसम के बदले मिजाज के बीच पर्यटन संभावनाएं भी अब मुंह चिढ़ाने लगी हैं। जिस शिमला में कभी…

विवेकानंद : विश्व नेतृत्व को भारत के गुरु

प्रो. एनके सिंह लेखक, एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के पूर्व चेयरमैन हैं आज जरूरत इस बात की है कि हम स्वामी विवेकानंद के मूल्यों को अपनाएं और भारत की महानता के लिए उनके द्वारा सुझाए गए मार्ग को समझें। वह एक ऐसे आध्यात्मिक नेता हैं, जो भारत की…

रूसा की बाधा पार करने के करीब खेल

भूपिंदर सिंह लेखक, राष्ट्रीय एथलेटिक प्रशिक्षक हैं पहले अधिकतर खेल प्रतियोगिताएं अक्तूबर से जनवरी तक होती थीं। इसी वक्त पहले, तीसरे व पांचवें सेमेस्टर की परीक्षाएं भी आयोजित होती थीं। अब जब परीक्षा अपै्रल में एक बार होगी, तो विद्यार्थियों…

कब हल होगी बंदर के उजाड़ की समस्या

अभिषेक कुमार, केंद्रीय विश्वविद्यालय, धर्मशाला राजनीति में हमें कई ऐसे फेरबदल देखने को मिलते हैं, जिनमें राजनीतिज्ञ राजनीति करते दिखाई देते हैं। 2017 में हुए हिमाचल विधानसभा चुनाव से पहले हमेशा की तरह  कई विधायकों ने जनता का विश्वास पाने…

स्थानांतरण का सांप या सीढ़ी

सत्ता परिवर्तन का राजनीतिक-प्रशासनिक अंतर बेशक एक पद्धति सरीखा हो चुका है, लेकिन हिमाचल की इस रिवायत का हमेशा सुखद अनुभव ही होगा, कहा नहीं जा सकता। अपने सौ दिन के एजेंडा पर काम कर रही जयराम सरकार का सबसे आसान लक्ष्य लगातार हो रहे…

अब महाभारत का मिथक

महाभारत हजारों साल पहले समाप्त हो चुकी है। आज न तो पांडव और न ही कौरव बचे हैं, फिर भी जनता को ‘पांचाली’ (द्रोपदी) बनाने की कोशिश जारी है। ऐसा वक्तव्य प्रधानमंत्री मोदी ने लोकसभा में दिया था और हमारा विश्लेषण भी यही है। कौरव-पांडव की नई…

ईमान की कमाई से हज

नीरज मानिकटाहला, यमुनानगर अदालत के आदेश के मुताबिक केंद्र सरकार ने हज यात्रा पर मिलने वाली रियायत को खत्म करके ऐतिहासिक कदम उठाया है। वैसे खुद मुस्लिम धार्मिक संस्थाएं भी इस पवित्र यात्रा को अपनी ईमान की कमाई से ही करने में यकीन रखती हैं।…
?>