himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

विरोधाभासों में घिरा रीयल इस्टेट एक्ट

डा. भरत झुनझुनवाला लेखक, आर्थिक विश्लेषक एवं टिप्पणीकार हैं बहरहाल इतना कहा जा सकता है कि रेरा के कारण प्रॉपर्टी बाजार का विस्तार होना जरूरी नहीं है। यह भी संभव है कि बड़े बिल्डरों द्वारा मुनाफाखोरी करने से प्रॉपर्टी बाजार का संकुचन हो जाए।…

पर्यटन संभावनाओं से दूर खडे़ प्रयास

डा. प्रदीप कुमार लेखक, केएलबी डीएवी गर्ल्ज कालेज, पालमपुर में प्रिंसीपल हैं तमाम उपाय किए जाने के पश्चात भी हिमाचल प्रदेश में पर्यटकों की संख्या में इतनी अधिक वृद्धि नहीं हुई, जितनी होनी चाहिए। इसका कारण यह है कि पर्यटन उद्योग में यात्रा…

महिला आरक्षण बिल पर मोदी से उम्मीदें

कुलदीप नैयर लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं मोदी ने पहली बार किसी महिला को देश का रक्षा मंत्री बनाया है। यह अब तक का सबसे बड़ा बदलाव है। यहां तक कि काफी शक्तिशाली इंदिरा गांधी ने भी अपने पास केवल विदेश मंत्रालय रखा था। अब रक्षा तथा विदेश, दोनों…

गऊ पालन को लाभकारी बनाइए

कुलभूषण उपमन्यु लेखक, हिमालय नीति अभियान के अध्यक्ष हैं किसी भी व्यवसाय को समाज आर्थिक लाभ के लिए ही करता है, इसलिए गोपालन को लाभकारी व्यवसाय बनाना होगा। खेती की पद्धति को धीरे-धीरे पशु आधारित बनाना होगा। रासायनिक खेती से दूर हटते हुए जैविक…

महाराजा हरि सिंह की घर वापसी

डा. कुलदीप चंद अग्निहोत्री लेखक, वरिष्ठ स्तंभकार हैं अंतिम दिनों में महाराजा हरि सिंह के लिए मुंबई ही रंगून बन गया था। वक्त के सत्ताधीशों ने उन्हें, उनके कू-ए-यार से निष्कासित कर दिया था। बहादुर शाह जफर शायरी से अपने आप को अभिव्यक्त करते…

पेट्रोल कीमतों ने बिगाड़ी बजट की चाल

विजय शर्मा लेखक, हमीरपुर से हैं तेल की घटी कीमतों का लाभ उपभोक्ताओं को न देकर सरकार उनसे छल कर रही है। अब तो सरकार के मंत्री खम ठोंककर कह रहे हैं कि गरीबों के लिए कल्याणकारी योजनाओं हेतु उनका ऐसा करना अनिवार्य है, लेकिन उन्हें यह नहीं मालूम…

मुसीबतें झेलता डिजिटलाइजेशन

प्रो. एनके सिंह लेखक, एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के पूर्व चेयरमैन हैं इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता कि डिजिटलाइजेशन का आरंभिक प्रस्तुतीकरण बड़े पैमाने पर नागरिकों के लिए असुविधा पैदा कर रहा है। सबसे पहले ब्रॉडबैंड इंटरनेट की उपलब्धता…

शारीरिक श्रम से कतराती युवा पीढ़ी

सुरेंद्र मिन्हास लेखक, बिलासपुर से हैं बच्चों में जहां रोग प्रतिरोधक क्षमता कम है, वहीं इनमें शारीरिक कार्य न करने से शरीर में जान भी नहीं है। आवश्यकता इस बात की है कि लोग अपने बच्चों को कृषि, बागबानी और पशुपालन कार्यों में अपने साथ लगाएं,…

बिहार में राजनीतिक कशमकश

पीके खुराना लेखक, वरिष्ठ जनसंपर्क सलाहकार और विचारक हैं भाजपा की रणनीति यह है कि उसे बिहार में भी किसी अन्य सहयोगी दल पर निर्भर न रहना पड़े। केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा भी कोरी हैं और वह शुरू से ही भाजपा के साथ हैं, लेकिन भाजपा की मंशा…

रोजगार एवं समाज सेवा का साधन एनजीओ

( अनुज कुमार आचार्य  लेखक, बैजनाथ  से हैं ) एनजीओज में काम करने के लिए पहली शर्त तो यही है कि युवा में सेवाभाव होना चाहिए। अगर आप में स्वार्थ रहित सेवाभाव का जज्बा है, तो किसी एनजीओ से जुड़ें। आपको रोजगार के साथ-साथ जीवन जीने का लक्ष्य भी…

जीएम फसलों का खतरनाक जाल

कुलभूषण उपमन्यु लेखक, हिमालयन नीति अभियान के अध्यक्ष हैं हाइब्रिड तकनीक से अच्छी उपज देने वाले बीज बनाए जा सकते हैं। धान में श्री विधि जैसी तकनीक सरसों में अपना कर बिहार में सरकारी प्रयोग में सरसों की तीन टन प्रति हैक्टेयर पैदावार प्राप्त…

स्वरोजगार की राह पर चलें हिमाचली युवा

जसवंत सिंह चंदेल लेखक, बिलासपुर से हैं जो युवक दिन-रात मेहनत करते हैं, कामयाब हो जाते हैं, जो नहीं करते, वे मां-बाप पर बोझ बन जाते हैं। मेरा मानना है कि पढ़ा-लिखा युवक अपने आपको असहाय और सरकार पर आश्रित न पाएं। बेकारी और गरीबी न केवल आर्थिक…

बायो फ्यूल की सीमाएं

डा. भरत झुनझुनवाला लेखक, आर्थिक विश्लेषक एवं टिप्पणीकार हैं सारांश यह है कि बीज आधारित बायो फ्यूल, गन्ने से बना इथेनाल, हाइड्रो पावर तथा यूरेनियम-आधारित परमाणु ऊर्जा हमारे लिए उपयुक्त नहीं है। कोयला अल्प समय में उपयोगी हो सकता है। देश की…

सोशल मीडिया के मकड़जाल में विद्यार्थी

आदित कंसल लेखक, नालागढ़ से हैं विकास और आधुनिकता के नाम पर सोशल मीडिया का जो घेरा बन गया है वह एक चक्रव्यूह जैसा है। आज का विद्यार्थी वर्ग इसमें अभिमन्यु की तरह प्रवेश तो कर गया, परंतु बाहर निकलने का रास्ता उसके पास नहीं है। आज…

वंशवाद के समर्थन से बात नहीं बनेगी

कुलदीप नैयर लेखक, वरिष्ठ पत्रकार हैं यह दुख की बात है कि कांग्रेस अप्रासंगिक हो गई है। अन्यथा देश में धर्मनिरपेक्षता कायम रहती। राहुल गांधी को समझना चाहिए कि उन्हें एक बार फिर धरातल पर काम करना है तथा जनता का मिजाज बदलने के प्रयास होने…
?>