थीरम या ऑरियोफंजिन से दूर भागेगा सेब रोग

पहले आपने सेब में होने वाली बीमारियों के बारे में पढ़ा अब पढि़ए सेब की रोगथाम के बारे में... मृदा जनित बीमारियों का प्रबंधन मृदाजनित बीमारियों के प्रबंधन का मुख्य बिंदु इसी बात पर निर्भर करता है कि बीमारी के कारकों को कैसे एक्टिव स्टेट से दूर रखा जाए या कम से कम किया जाए। मृदा जनित बीमारियों के…
Read More...

रंग बदलते ही तोड़ लें टमाटर

फल मक्खी टमाटर एवं कद्दू वर्गीय सब्जियों की एक प्रमुख समस्या है। ये मक्खियां सीधा फलों पर आक्रमण करती हैं और एक अनुमान के अनुसार लगभग 40-50 प्रतिशत तक फलों को हानि पहुंचाती हैं। आजकल इनका आक्रमण काफी बढ़ जाता है। इन मक्खियों की पहचान बहुत जरूरी है, ताकि हमारे किसान भाई एवं बहनें जब इसे अपने खेत में…
Read More...

सेब बागीचों में ‘माइट’ प्रबंधन जरूरी

सेब ठंडे क्षेत्रों में रहने वाले बागबानों की आय का मुख्य स्रोत है। आजकल सेब मंडियों में पहुंचने लगा है। ऊपरी क्षेत्रों में अभी सेब के तुड़ान के लिए कुछ समय बाकी है। सेब के बागीचों में आजकल माइट का प्रकोप हो जाता है तथा बागबान यदि समय पर प्रबंधन के उपाय न अपनाएं, तो काफी क्षति हो जाती है। इस वर्ष…
Read More...

पूरी तरह खिलने के बाद ही तोड़ें फूल

इससे पहले आपने गुलदाउदी की खेती और  प्राकृतिक मौसम, किस्में और लगाने के तरीके के बारे में पढ़ा, अब आगे पढं़े पौधे के फूलों की तुड़ाई.. पौधे को सहारा देनाः गुलदाउदी के पौधें को तेज हवा से बचाने के लिए इन्हें सहारे की आवश्यकता होती है। आवश्यकता उस समय और भी बढ़ जाती है जब बड़े पुष्पों से उनके सिर…
Read More...

आजकल भी लगाई जा सकती है गुलदाउदी

सीता राम धीमान इससे पहले आपने गुलदाउदी की खेती और  प्राकृतिक मौसम, और किस्मों के बारे में पढ़ा अब आगे पढं़े पौधे लगाने का समय और इसकी सिंचाई गुलदाउदी लगाने से पहले मिट्टी को जीवाणु-रहित कर लिया जाए। मिट्टी को जीवाणु रहित करने के लिए सौर ऊर्जा विधि का प्रयोग किया जा सकता है।  इस विधि में भूमि को…
Read More...

गुलदाउदी के लिए समूचा हिमाचल उपयुक्त

सीता राम धीमान गुलदाउदी एक महत्त्वपूर्ण पुष्पीय फसल है तथा इसके पुष्पों को विभिन्न प्रकार से कटे फूल के रूप में, गमलों व स्थल सौंदर्य तथा मालाएं इत्यादि अलंकार बनाने के लिए  इस्तेमाल किया जाता है। संसार भर के कटे फूल के रूप में प्रयुक्त होने वाले पुष्पों में इसका गुलाब के बाद प्रमुख स्थान है। गमलों…
Read More...

नींबू प्रजाति फलों को ऐसे बचाएं रोगों से

गगनदीप सिंह नींबू प्रजातीय फल जैसे संतरा, किन्नु, माल्टा, मौसमी तथा नींबू हिमाचल प्रदेश के निचले इलाकों में किसानों की आय का प्रमुख स्रोत है। इन फल वृक्षों पर विभिन्न अवस्थाओं में लगने वाले हानिकारक कीट काफी क्षति पहुंचाते हैं, जिनका समय रहते प्रबंधन करना अति आवश्यक है। यदि बागबानों को इनके बारे…
Read More...

पके फलों को अधिक समय तक न रखें पेड़ पर

गगनदीप सिंह दिवेंद्र गुप्ता फल मक्खी टमाटर का मुख्य तथा हानिकारक शत्रु है। इसका प्रकोप टमाटर की पैदावार घटाने के साथ-साथ उसकी गुणवत्ता पर भी बुरा प्रभाव डालता है, जिसके कारण इसकी व्यापारिक कीमत कम हो जाती है तथा इसके फल मनुष्य के उपभोग के योग्य नहीं रहते। इसीलिए किसानों के लिए समय रहते इसका…
Read More...

कृषि हेल्पलाइन

पेड़ पर पकने के बाद ही तोड़ें फल हिमाचल प्रदेश में फलों के अंतर्गत क्षेत्र निरंतर बढ़ता जा रहा है। प्रदेश में फलों की भारी मात्रा बहुत ही कम समय में पककर तैयार हो जाती है,जिसके कारण फल की मात्रा देश की विभिन्न मंडियों में बिक्री के लिए एक ही समय पहुंच जाती है, जिससे एक ओर फलों के भाव काफी हद तक गिर…
Read More...

कृषि हेल्पलाइन

प्लास्टिक ट्रे में बिना मिट्टी ऐसे उगाएं सब्जियां सब्जियों की नर्सरी लगाना एक उपयोगी व्यवसाय के रूप में किसानों के लिए लाभकारी है। ट्रे में नर्सरी उत्पादन द्वारा ऐसी सब्जियां, जिनकी परंपरागत विधि से पौध तैयार करना संभव नहीं, जैसे बेल वाली सब्जियां, उनकी पौध भी तैयार की जा सकती है। यह तकनीक सामान्य…
Read More...

कृषि हेल्पलाइन

कीटनाशी छिड़काव के दस दिन बाद तोड़ें फल ग्रीष्मकालीन सब्जियों में भिंडी किसानों की आय का मुख्स स्रोत है, लेकिन कुछ नाशी कीट एवं व्याधियां किसानों की आय में लगभग 20 प्रतिशत  कटौती  करती हैं। विभिन्न अवस्थाओं में लगने वाली नाशी कीटों के बारे में यदि किसान भाइयों तथा बहनों को जानकारी हो तो वे समय पर…
Read More...

कृषि हेल्पलाइन

जब छिड़काव करना हो तभी घोलें बोर्डो घोल पिछले हफ्ते आपने पढ़ा पौधों में होने वाले रोगों में करें बोर्डो मिश्रण का छिड़काव और लेप अब पढ़ें किस तरह करें छिड़काव... सक्रियता का परीक्षण : बोर्डो घोल तैयार करने के बाद यह अति आवश्यक है कि इसमें विद्यमान सक्रिय तांबे के अंश के लिए इसका परीक्षण करें…
Read More...

कृषि हेल्पलाइन

पौधों पर करें बोर्डो मिश्रण का छिड़काव कैकर, अनुमोदित छिड़कावः रोगग्रस्त पत्तों और शाखाओं को काट दें और जलाकर नष्ट कर दें। वर्षा ऋतु के दौरान पौधों तथा पौधशालाओं में बोर्डो मिश्रण (4:4:50) का 15-20 दिनों के अंतराल पर छिड़काव करें। सूखी टहनियों तथा छोटी शाखाओं को काट दें। कटे हुए स्थान पर बोर्डो…
Read More...

कृषि हेल्पलाइन

स्वाद बिगड़ने से पूर्व तोड़ लें फल फल मक्खी का समन्वित प्रबंधनः ऐसे फलों को छोड़कर जिनमें समय से पहले कटाई करने पर स्वाद बिगड़ने की संभावना हो, परिपक्वता की अगेती स्थिति में कटाई कर लेनी चाहिए। फलों को सही समय पर सही प्रकार से तोड़ लेना चाहिए। बाग की स्वच्छता का विशेष ध्यान रखना बहुत जरूरी है।…
Read More...

कृषि हेल्पलाइन

फल मक्खी से सब्जियों- फलों को बचाएं फल मक्खी कई प्रकार के फलों व कद्दूवर्गीय सब्जियों का मुख्य दुश्मन है। इसके द्वारा उत्पादन में 40-80 प्रतिशत हानि पहुंचती है। एक अनुमान के अनुसार भारत में फल मक्खी के कारण वार्षिक 2945 करोड़ रुपए का नुकसान होता है। प्रायः यह देखा गया है कि किसान सोचता है कि फल…
Read More...