Divya Himachal Logo Feb 27th, 2017

कृषि हेल्पलाइन


कृषि हेल्पलाइन

ठंड में न दें पौधों को ज्यादा पानी

सब्जियों के सफलतापूर्वक उत्पादन के लिए बीज और पौध का बीमारी तथा कीट रहित होना अनिवार्य है। अधिकांश सब्जियों की आमतौर पर सीधी बुआई की जाती है, परंतु कुछ सब्जियां जैसे कि टमाटर, बैंगन, शिमला मिर्च, मिर्च, फूलगोभी, बंदगोभी, प्याज के लिए सर्वप्रथम पौधशाला तैयारी की जाती है। तत्पश्चात उन्हें खेत में प्रत्यारोपित किया जाता है। पौध तैयार करते समय यह ध्यान रखना चाहिए कि पौध बीमारी व कीट रहित हो, क्योंकि यह बीमारी व कीट को खेत में पहुंचाने का मुख्य स्रोत है। पौधशाला में सर्वाधिक लगने वाली बीमारी डैंपिंग ऑफ है, जिससे 20 से 70 प्रतिशत पौध पौधशाला में ही मर जाती है।

पौधशाला में पौध तैयार करने के लाभः-

1 पौधशाला में नई उगी कोमल पौध की देखरेख करना आसान होता है।

2 पौधशाला में पौध को कुछ समय तक प्रतिकूल परिस्थिति से बचाया जा सकता है।

3 इससे अगेती बुआई करने में सुविधा रहती है।

4 बीज व भूमि दोनों की बचत होती है।

5 धीमी गति से उगने वाले पौधों की उचित देखभाल हो जाती है।

6 पौधशाला में अनुकूल वातावरण बनाना संभव है।

7 प्रतिरोपण के बाद मुख्य खेत में रोगों व कीटों की रोकथाम करना सरल है।

पौधशाला निर्माण की विधिः- सब्जियों की पौध बक्सों, मिट्टी के पात्रों तथा गमलों   या छोटी क्यारियों में उगाई जा सकती है। पौधशाला की मिट्टी हल्की भुरभुरी व रोगरहित होनी चाहिए। बीज बुआई से लगभग दस दिन पूर्व दो क्विंटल प्रति 40 वर्गमीटर की दर से अच्छी तरह कंपोस्ट खाद डालकर जुताई करनी चाहिए, उसके बाद एक से 1.25 मीटर चौड़ी व 15 सेमी. ऊंची क्यारियां तैयार कर सिंचाई करनी चाहिए। पौधशाला तैयार करने वाले स्थान पर पर्याप्त मात्र में सूर्य का प्रकाश, सिंचाई के लिए पानी एवं जल निकासी की व्यवस्था होनी चाहिए। पौधशाला के लिए पूर्व पश्चिम दिशा का चुनाव उचित है।

बीज की दरः- सामान्यतः क्यारियों में बीज बिखेरकर बुआई की जाती है। बीजों को एक से दो सेटीमीटर गहरा व कतारों में बोना चाहिए। ज्यादा गहराई में बुआई करने से बीज उचित प्रकार से अंकुरित नहीं हो पाते हैं। बीज बोने के बाद क्यारियों की अच्छी तरह से तैयार कंपोस्ट खाद की पतली तह से ढक लेना चाहिए व तुरंत हल्की सिंचाई कर देनी चाहिए।

बुआई का समयः- शरद ऋतु में या ठंडी जगहों में पौधशाला की क्यारियों को बीज अंकुरण तक प्लास्टिक से ढकना चाहिए। गर्मियों में हल्की सिंचाई दो बार (सुबह शाम) व शरद ऋतु में एक बार करनी चाहिए। यदि बीज बहुत छोटा है तो बीज में बालू मिला लेनी चाहिए।

बुआई के बाद पौध प्रबंधनः- बीज के अंकुरित होने के पश्चात ठंड के मौसम में एक बार सिंचाई करनी चाहिए, ताकि पौध को पाले से बचाया जा सके। अंकुरण के लगभग एक सप्ताह बाद कैप्टान या थीरम (0.4 प्रतिशत) से तर कर देना चाहिए। 7 से 10 दिन के बाद इस प्रक्रिया की फिर से दोहराना चाहिए। क्यारियों में पौध की मात्रा अधिक होने पर छंटाई कर देनी चाहिए, ताकि प्रत्येक पौध की वृद्धि उचित प्रकार से हो सके। पौधशाला में पानी देने की उचित व्यवस्था होनी चाहिए तथा निर्माण पानी के समीप होना चाहिए। यदि आरंभिक अवस्था में धूप में बहुत तेजी हो तो दिन में पौध को हल्की पत्तियों से या फूल से ढक कर बचाना चाहिए।

February 21st, 2017

 
 

कृषि हेल्पलाइन

गोभीनुमा सब्जियों पर छिड़कें क्वीनलफोस 25 ईसी प्रदेश के कई भागों में सितंबर-अक्तूबर से गोभीनुमा सब्जियों की रोपाई की जाती है तथा फरवरी-मार्च में इनकी सब्जियों को मार्केट में भेजकर किसान अच्छी आमदन लेते रहते हैं। इन सब्जियों में नवंबर-दिसंबर तथा जनवरी में अधिक ठंड […] विस्तृत....

February 7th, 2017

 

कृषि हेल्पलाइन

जरुरी है आड़ू, प्लम, खुमानी की काटछांट आड़ू व नेकटरीन : इनमें फल एक वर्ष पुरानी शाखाओं जो कि 15 से 60 सेंटीमीटर लंबी होती हैं, पर नीचे वाले भाग पर आता है। आड़ू की जिस टहनी पर एक बार फल आ जाए, उस पर […] विस्तृत....

January 3rd, 2017

 

कृषि हेल्पलाइन

ऊपर से नीचे की ओर करें पौधों को कांट छांट सेब :  सेब के पौधों की कांट-छांट सर्दियों में की जाती है। इस समय पौधे की आकृति स्पष्ट दिखाई देती है। पौधों की कांट-छांट चोटी से आरंभ कर नीचे की दिशा की ओर करनी चाहिए। […] विस्तृत....

December 27th, 2016

 

षट्भुजाकार लगाएं पौधे तो बचेगी जगह

पौधारोपण के वक्त हमें जगह और उपलब्ध स्थान को ध्यान में रखना पड़ता है। ऐसी कुछ विधियां हैं जो कम जगह में ज्यादा पौधारोपण का विकल्प देती हैं… षट्भुजाकार पद्धतिः  इस विधि में वर्गाकार विधि से 15 फीसदी अधिक क्षेत्र पौधारोपण के लिए उपलब्ध होता […] विस्तृत....

December 6th, 2016

 

कतार-बराबर दूरी में लगाएं पौधे

बागीचे में एक से अधिक फलदार पौधे लगाने हों तो उन्हें अलग-अलग खंडों में लगाएं। इसी तरह एक साथ पकने वाली किस्मों को एक साथ लगाने से देखरेख, तुड़ाई व निराई उपरांत के क्रियाकलापों में सुविधा होती है। वर्गाकार पद्धतिः यह सबसे सरल और सर्वव्यापी […] विस्तृत....

November 29th, 2016

 

कृषि हेल्पलाइन

पेड़-पौधों की काट-छांट का सही समय प्रूनिंग या काट-छांट की मात्रा पेड़ की आयु, प्रजाति, क्षेत्र की जलवायु और मिट्टी की उपजाऊ क्षमता पर निर्भर करती है। प्रूनिंग सर्दियों में करनी चाहिए। इस वक्त पौधा सुप्तावस्था में होता है तथा पौधे की बनावट स्पष्ट होती […] विस्तृत....

November 22nd, 2016

 

कृषि हेल्पलाइन

टिडे-तेला से बचाव को साफ रखें खेत गोभीनुमा सब्जियों के नाशीकीट व उनकी रोकथाम गोभीनुमा सब्जियों (फूलगोभी, बंदगोभी, ब्रौकली, केल इत्यादि) का किसानों की आर्थिक दशा सुधारने में काफी योगदान है। इन सब्जियों की रोपाई सितंबर-अक्तूबर में शुरू हो जाती है तथा पैदावार फरवरी-मार्च तक […] विस्तृत....

November 15th, 2016

 

कृषि हेल्पलाइन

एलोवेरा के लिए दोमट मिट्टी सबसे उपयुक्त जंगलों में उगने वाला एलोवेरा अब व्यवस्थित रूप से खेतों में भी उगाया जाना लगा है। इसका उपयोग भारतीय आयुर्वेद एवं यूनानी शफाओं में पाचन संस्थान या जिगर संबंधी कमजोरी के अलावा चर्म रोगों व जलने एवं झुलसने […] विस्तृत....

November 8th, 2016

 

कृषि हेल्पलाइन

नीम बीज के अर्क का छिड़काव बचाता है गोभी सब्जी उत्पादन आने वाला क्षेत्र प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। साथ ही बढ़ रहा है सब्जियों में कीटनाशकों का प्रयोग। ज्यादा कीटनाशकों के प्रयोग से इनके द्वारा होने वाला दुष्प्रभाव अधिक है। चूंकि सब्जियां हरी ही […] विस्तृत....

October 25th, 2016

 
Page 1 of 1312345...10...Last »

पोल

क्या हिमाचली युवा राजनीतिक वादों से प्रभावित होते हैं?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates