Divya Himachal Logo Sep 25th, 2017

पशु हेल्पलाइन


पशु का पेट फूले तो, तुरंत डाक्टर को दिखाएं

मेरी गाय का पेट फूल गया है व उसे सांस लेने में तकलीफ हो रही है, क्या करें?

भीम सिंह, लडभड़ोल

आप अतिशीघ्र अपने पशु चिकित्सा अधिकारी से संपर्क करें। जब तक वह न पहुंचे, आप अपनी गाय को बैठने न दें व उसे घुमाते-फिराते रहें। अगर आपके घर में हींग है तो 10-15 ग्राम हींग उसे पानी में मिलाकर पिलाएं व उसे घुमाएं। आपके पशु को अफारा है। अफारा (ड्ढद्यशड्डह्ल) रोमांधिक में गैस इकट्ठे होने को कहते हैं। (रोमांधिक पशु के पेट का मुख्य हिस्सा होता है।) गैस का उत्पादन पाचन की एक सामान्य क्रिया है। इस गैस को पशु डकार कर निकाल देता है। अगर किसी वजह से यह गैस पशु के शरीर से न निकल पाए तो पशु को अफारा हो जाता है। अफारा दो तरह का होता है-गैसीय अफारा व झागदार अफारा गैसीय। जब कोई असामान्य वस्तु जैसे आलू, सेब, शलगम आदि पशु के गले में फंस जाए या किसी वजह से पशु डकार न ले सके, जैसे दुग्ध ज्वर, टेटनेस इत्यादि।

– झागदार अफारा  इसमें रोमांधिक द्रव्य के ऊपर सुस्थिर झाग बन जाता है, जिसकी वजह से गैस रोमांधिक से निकल नहीं पाती है।

अधिकतर पशुओं में झागदार अफारा होता है, जो ज्यादातर मौसम संबंधी होता है-यह ज्यादा बसंत व शरद ऋतु में होता है। इस समय हरा चारा ज्यादा उगता है। (खासकर फलीदार जैसे बरसीम, लुसर्न, शफतल इत्यादि) जिसे पशु ज्यादा खा जाता है, इसके ज्यादा खाने से रोमांधिक द्रव्य चिपचिपापन  बढ़ जाता है व रोमांधिक से गैस निकलना बंद हो जाती है।

लक्षणः- बाएं तरफ से उदर  में फुलाव आना।

-पशु को दर्द व बेचैनी होना। उसको सांस लेने में मुश्किल होती है। वह मुंह खोलकर सांस लेना शुरू कर देता है। वह कभी-कभी जीभ मुंह से बाहर निकालता है व सिर को ऊपर खींचता है। बार-बार मूत्र भी करता है। कभी-कभी वह जोर से चिल्लाता भी है व घुरघुराते हुए बोलता है। यदि इलाज शीघ्र न हो तो पशु 15-30 मिनट में मर भी सकता है।

निदान : इसका निदान उपरोक्त लक्षण देखकर, व पेट में सूई लगाकर किया जा सकता है।

इलाज : जब तक पशु चिकित्सा अधिकारी ने पहुंचे, पशु को घुमाएं-फिराएं व बैठने न दें।

– इसमें रोमांधिक में सुई लगाकर गैस निकालनी पड़ती है। कई बार गैस निकालने के लिए ट्रोकार का इस्तेमाल भी करते हैं।

– अगर गले में कुछ फंसा हो तो अमाशय नलिका को मुंह से डालकर उसे निकालते हैं।

– अगर झागदार अफारा हो तो उसमें ट्रोकार से कैनूला रोमांधिक पर फिक्स कर देते हैं। इससे झाग प्रतिरोधी दवाई (जैसे टिमपैक्स, डी बलोट इत्यादि) या अलसी/तारपीन का तेल सीधे रोमांधिक में डाल सकते हैं। दवाई डालने के बाद भी पशु को लगातार घुमाते व दौड़ाते रहें, उसे बैठने न दें। कई बार कैनूल 24 घंटे बाद भी निकाला जाता है। उसके बाद एक-दो दिन पशु को केवल सूखा घास या तूड़ी खिलाएं। साथ में उसे हिमालयन बतीसा 50-60 ग्राम हर 4-6 घंटे बाद खिलाएं। आगे से ध्यान रखें कि जब भी अपने पशु को कुतरा हुआ हरा घास (खासकर फलीदार)दें तो उसमें सूखी घास कुतरकर या तूड़ी अवश्य मिलाएं। ऐसा करने से पशु में अफारा होने की संभावना काफी कम हो जाती है।

May 26th, 2016

 
 

पशु हेल्पलाइन

गर्मियों में पशु को पिलाएं ठंडा पानी मेरी गाय का थोड़ा खाना-पीना कम हो गया है। मुंह से कभी-कभी झाग निकलता है। दूध भी कम हो गया है। क्या करें? संजीव, कलोहा यह प्रश्न भी मुझसे सर्वाधिक पूछे गए प्रश्नों में से एक है। जब […] विस्तृत....

May 5th, 2016

 

पशु हेल्पलाइन

प्रसूति के तुरंत बाद दूध निकाल बच्चे को पिलाएं पशु के बच्चे को कीड़ किस तरह से पिलाना चाहिए? श्री राजेश, बिलासपुर गाय की प्रसूति के बाद उसका कीड़ (पहला दूध) जल्दी से जल्दी निकालें व एक घंटे के अंदर उसके बच्चे को पिलाएं। कीड़ […] विस्तृत....

April 28th, 2016

 

रैबीज पर पशु को लगवाएं पांच इंजेक्शन

07 अप्रैल, 2016 की पशु हेल्पलाइन में मैंने कुत्तों में रैबीज के लक्षणों के बारे में विस्तृत जानकारी दी। इस बार मैं इस बीमारी के नियंत्रण व रोकथाम के बारे में विस्तृत जानकारी दूंगा। रैबीज का इलाज बचाव इलाज से बेहतर उपाय है।  रैबीज के […] विस्तृत....

April 14th, 2016

 

पशु हेल्पलाइन

रैबीज कर देता है कुत्ते को उत्तेजित 31 मार्च, 2016 की पशु हेल्पलाइन में मैंने गाय व भैंस में रैबीज के लक्षणों के बारे में विस्तृत जानकारी दी। उसी संदर्भ में मैं आज कुत्तों में रैबीज के लक्षणों व इस बीमारी के नियंत्रण व रोकथाम […] विस्तृत....

April 7th, 2016

 

पशु हेल्पलाइन

रैबीज से बदल जाता है पशु का व्यवहार 17 मार्च, 2016 की पशु हेल्पलाइन में मैंने रैबीज के बारे में कुछ जानकारी दी थी। इसमें रैबीज के मुख्य पशुवाहक व रैबीज कैसे फैलता है- इसके बारे में जानकारी दी। आज के लेख में मैं रैबीज […] विस्तृत....

March 31st, 2016

 

पशु हेल्पलाइन

जानलेवा है रैबीज की बीमारी मेरे बैल के मुंह से झाग निकल रहा है और वह आक्रामक हो गया है। क्या इसका कोई इलाज है? – कृष्ण विस्वास, इंदौर (मध्य प्रदेश) आपके पशु को रैबीज है। अब आपके पशु में इसके लक्षण आ चुके हैं, […] विस्तृत....

March 17th, 2016

 

पशु हेल्पलाइन

ब्लीच घोल से मरता है पार्वो बीमारी का विषाणु मेरी कुतिया को पार्वो हुआ था। ठीक होने पर मैंने उसे बेच दिया। अब मैं छह हफ्ते का कुत्ता लाया हूं। अब उसके टीकाकरण के बारे में बताएं। हमने सुना है कि 11-इन-1 वैक्सीन आई है। […] विस्तृत....

March 10th, 2016

 

पशु हेल्पलाइन

मुंह-खुर बीमारी पर तुरंत लगवाएं इंजेक्शन हमारे गांव में पशुओं को खुरपका-मुंहपका रोग हो गया है। क्या करें? – काशीपुर, यूपी खुरपका-मुंहपका रोग एक संक्रामक रोग है, जो पिकोरना विषाणु से होता है। यह रोग ग्रस्त पशुओं से स्वस्थ पशुओं में केवल संपर्क से ही […] विस्तृत....

March 3rd, 2016

 

पशु हेल्पलाइन

नौवे महीने में पशु को पेट के कीड़ों की दवाई जरूरी मेरी गाय गाभिन है व उसे नौवां महीना शुरू हो गया है, उसकी क्या सेवा करें? –  पठानिया, जवाली,  गुलशन, राजस्थान बड़ी खुशी की बात है कि मेरे पिछले लेख के बाद मुझे लगभग […] विस्तृत....

February 25th, 2016

 
Page 5 of 13« First...34567...10...Last »

पोल

क्या वीरभद्र सिंह के भ्रष्टाचार से जुड़े मामले हिमाचल विधानसभा चुनावों में बड़ा मुद्दा हैं?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates