जाखू मंदिर का निरीक्षण

स्टाफ रिपोर्टर, शिमला

प्रदेश के मशहूर धार्मिक एवं पर्यटन स्थल शिमला के जाखू मंदिर का मंगलवार को औचक निरीक्षण किया गया। मंदिर सुधार कमेटी भाषा विभाग के ओएसडी पे्रम प्रसाद पंडित ने मंदिर का औचक निरीक्षण किया। जाखू मंदिर में प्रकाश में आई कमियों को देखते हुए मंदिर ओएसडी ने मंदिर प्रशासन का कड़ा संज्ञान लिया है। मंदिर में जनता को पढ़ने के लिए प्रकाशित किए गए हनुमान चालीसा के मंत्रों में अशुद्धियां पाई गई हैं। यह भी देखा गया है कि मंदिर के आसपास भिखारियों की संख्या अधिक है, जिसके लिए मंदिर प्रशासन से जवाब मांगा है। इसके अलावा मंदिर के आसपास कैंटीन में बिक रही खाद्य सामग्री के निरीक्षण की बात भी उठाई गई है। पूछा गया है कि खाद्य सामग्री की स्वच्छता की जांच करने के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम यहां निरीक्षण के लिए कब आती है। मंदिर प्रशासन से लिए गए कड़े संज्ञान में यह तथ्य भी प्रकाश में आए हैं। प्लास्टिक के पैकेट में बिक रहे प्रसाद के पैकेट इस्तेमाल के बाद इधर-उधर फेंके गए हैं। यह भी देखा गया है कि प्रसाद को बंदरों को देने पर लोगों के पैरों के नीचे प्रसाद आ रहा है। इसके अलावा जाखू मंदिरों के शौचालयों का निरीक्षण भी किया, जिसमें महिला शौचालय की देखरेख एक पुरुष कर्मी द्वारा की जा रही है। इसको लेकर मंदिर ओएसडी ने कड़े आदेश जारी किए हैं कि इन कमियों को जल्द से जल्द दूर किया जाए। मंगलवार को एक भाषा विभाग का राजभाषा कार्यक्रम गेयटी में चल रहा था, उसी दौरान शिमला के जाखू मंदिर का औचक निरीक्षण किया गया। करीब चार घंटे के निरीक्षण के बाद मंदिर का पूरा ब्यौरा कलमबद्ध कर लिया गया है। मंदिरों की स्थिति सुधारने के लिए मंदिर ओएसडी द्वारा की जा रही छापामारी मंदिर सुधार में काफी कारगर सिद्ध हो सकती है। मंगलवार को यह जानकारी इसलिए भी ली गई, क्योंकि इस दिन भक्तों की बहुत भीड़ मंदिर में होती है।

You might also like