पच्छाद में दस मकान धड़ाम 30 गौशालाएं भी बनीं शिकार

निजी संवाददाता, नैनाटिक्कर

पच्छाद तहसील में बारिश कहर बनकर टूटी है। पिछले 36 घंटों में आसमान से बरसी तबाही ने पच्छाद की रफ्तार पर ब्रेक लगा दी है। बारिश से 10 आशियाने ढह गए हैं और 30 गौशालाएं ध्वस्त हो चुकी हैं। कई मार्गों पर पहिए रुक गए हैं। दर्जनों वाहन फंसे हुए हैं। साथ ही इस बारिश ने नकदी फसलों को तहस-नहस कर दिया है। जाते-जाते मानसून से बरसी आफत से पूरी तहसील पच्छाद सहम उठी है। उधर, बाहर भारी बरसात के चलते चारों ओर तबाही मची रही। पच्छाद तहसील में पिछले 36 घंटों से बरसे बादलों ने जहां 30 गौशालाओं को जमींदोज कर दिया है, वहीं 10 कच्चे मकान ढहने की सूचना मिली है। राजस्व विभाग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक 36 घंटों की बरसात में 2.50 लाख रुपए का अनुमानित नुकसान हुआ है। हालांकि फील्ड से अभी नुकसान की रिपोर्टें आ रही हैं। उधर, नाहन-शिमला राज्य मार्ग पर भी जगह-जगह मलबा आने के कारण कई-कई घंटे देरी से यातायात सुचारू हो पाया है। उधर, भारी बरसात से क्षेत्र में नकदी फसलों का नामोनिशान मिट गया है। टमाटर, शिमला मिर्च, गोभी उत्पादकों को भारी चपत लगी। तहसीलदार पच्छाद पीएस रांग्टा ने पुष्टि करते हुए बताया कि पच्छाद में 2.50 लाख रुपए का अभी तक नुकसान आंका गया है। उधर, अधिशाषी अभियंता राजगढ़ पीडब्ल्यूडी पीसी धरोच ने बताया कि पूरी विभागीय मशीनरी तथा कर्मियों को मार्ग को ठीक करने के लिए भेज दिया गया है।

You might also like