बीएसएनएल भी बनाएगा छोटे हैंडसेट

नगर संवाददाता, शिमला

थ्री जी सेवा के बाद भारत संचार निगम लिमिटेड नैनो टेक्नोलाजी पर काम करने जा रहा है। इस नई अत्याधुनिक तकनीक पर काम करने के बाद निगम अपने उपभोक्ताओं को ऐसी सुविधा प्रदान करेगा, जिसकी कल्पना भी लोग नहीं कर सकते। निगम सैल फोन की एक ऐसी रेंज तैयार करने में जुटे गया है, जिसे हैंडल करना बेहद आसान होगा। निगम इसके छोटे हैंड सैट तैयार करने की योजना बना रहा है, जो नैनो टेक्नोलोजी पर आधारित होंगे। इस बात का खुलासा गुरुवार को शिमला में बीएसएनएल द्वारा आयोजित किए जा रहे 10वें अखिल भारतीय सांस्कृतिक प्रतियोगिता के दौरान महाराष्ट्र से शिमला आए हुए राजभाषा अनुभाग पर्यवेक्षक गुलाब जाले से बात करने पर हुआ है। उन्होंने बताया कि निगम संचार की दुनिया में और अधिकतर क्रांति लाने के लिए दो बड़ी तकनीक पर काम करने की योजना तैयार कर रहा है। इसमें पहली योजना उन्होंने नैनो टेक्नोलाजी की बताई तथा दूसरी माइक्रो टेक्नोलाजी की। नैनो टेक्नोलोजी पर उन्होेंने बताया कि इस तकनीक पर काम करते हुए निगम एक ऐसा सैल फोन तैयार कर रहा है, जो अन्य सैल फोन के मुकाबले बेहद छोटा होगा। इसे हैंडल करना
आसान होगा। माइक्रो टेक्नोलाजी को उन्होेंने निगम की अब तक की सबसे बड़ी योजना बताया और कहा कि इस तकनीक पर काम करने से, वह एक ऐसा यंत्र तैयार करेंगे, जिसमें सैल फोन नहीं होगा और लोग ऐसे उपकरण से लोगों से बात करेंगे, जिसका दूसरों को पता नहीं चलेगा। उन्होेंने बताया कि यह यंत्र आंखों के चश्मे पर, बटन पर, हाथ की घड़ी पर फिट किए जाएंगे और लोग इसके जरिए दूसरों से बात कर सकेंगे। माइक्रो टेक्नोलाजी पर काम करते हुए एक ऐसी चिप तैयार की जा रही है, जिसे कहीं भी फिट किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि निगम थ्री जी सेवा प्रदान करने वाली पहली संचार कंपनी है, जो शीघ्र ही दो बड़ी योजनाओं पर काम करके अपने उपभोक्ताओं को नई सेवा प्रदान करने जा रहा है। राजधानी में गुरुवार से आयोजित की जा रही चार दिवसीय सांस्कृतिक प्रतियोगिता के आयोजन के विषय में गुलाब जाले ने बताया कि कर्मचारियों के मनोरंजन को लेकर तथा गेट टू गैदर को लेकर निगम हर साल इस तरह की प्रतियोगिता आयोजित करता रहता है। इस प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए पूरे भारत से 20 राज्यों के 200 प्रतिभागी भाग ले रहे हैं।

You might also like