बीबीएन के मंदिर-मस्जिद खाकी के पहरे में

विपिन शर्मा, नालागढ़

अयोध्या में विवादित रामजन्म भूमि के मालिकाना हक के मामले में जल्द आने वाले न्यायालय के फैसले के मद्देनजर प्रदेश की औद्योगिक राजधानी बीबीएन में सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद कर दी है। बीबीएन में हिंदू-मुस्लिम धर्म के लोगों की खासी तादाद है। पुलिस को आशंका है कि फैसले के बाद इन समुदायों के बीच किसी तरह का तनाव पैदा हो सकता है। इसी कड़ी में गुरुवार शाम पांच बजे से बीबीएन के मंदिर-मस्जिदों की सुरक्षा कड़ी कर दी गई, साथ ही धार्मिक संगठनों की गतिविधियों पर पैनी नजर रखी जा रही है।

अयोध्या मामले के मद्देनजर एसपी बद्दी चंद्रशेखर पंडित ने नालागढ़ में हिंदू-मुस्लिम प्रबुद्धजनों के साथ बैठक की तथा शांति बनाए रखने की अपील की। उन्होंने किसी भी तरह की अप्रिय घटना से निपटने के लिए पुख्ता इंतजाम की बात दोहराई तथा धार्मिक नेताओं से अमन-चैन में सहयोग की अपील की। यहां उल्लेखनीय है कि अयोध्या में विवादित रामजन्म भूमि के मालिकाना हक पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय की विशेष खंडपीठ 24 सितंबर को फैसला सुनाने वाली है। इस फैसले के बाद किसी तरह का तनाव न हो, इससे निपटने के लिए पुलिस चौकस हो गई है तथा एहतियातन सुरक्षा प्रबंध कड़े कर दिए हैं। इसके तहत हिंदू-मुस्लिम बाहुल इलाकों प्रमुख मंदिर-मस्जिदों के बाहर सशस्त्र पुलिस कर्मियों की तैनाती की गई है, जो हालात पर नियंत्रण रखने की कोशिश करेंगे। इतना ही नहीं, खुफिया तंत्र भी स्थिति पर बराबर नजर रखे हुए है।

यहां तक कि केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियां भी बीबीएन पर नजर गड़ाए हुए हैं, वे हिंदू-मुस्लिम संगठनों व उनसे जुड़े कार्यकर्ताओं की पल-पल की सूचना मुख्यालय तक पहुंचा रहे हैं, ताकि किसी भी आपात स्थिति से निपटा जा सके। हालांकि हिमाचल में किसी तरह के तनाव की संभावनाएं न के बराबर हैं, लेकिन पुलिस ने एहतियातन सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है। उधर, इस बाबत बद्दी के एसपी चंद्रशेखर पंडित ने बताया कि अयोध्या मामले के मद्देनजर पुलिस प्रशासन ने एहतियात के तौर पर सुरक्षा कड़ी कर दी है तथा हिंदू-मुस्लिम नेताओं से शांति व्यवस्था कायम रखने में सहयोग की अपील की है। उन्होंने बताया कि सशस्त्र पुलिस कर्मी तैनात कर दिए गए हैं। बैठक के दौरान ब्राह्मण सभा के अध्यक्ष संजीव टिंका, विश्व हिंदू परिषद के हितचिंतक संरक्षक सुरेंद्र शर्मा, हिमाचल योग संघ के आचार्य महेंद्र शर्मा, मौलाना अब्दुल  सुभान खान, श्याम सहित अन्य मौजूद रहे। उन्होंने आपसी भाईचारा कायम रखने व शांति व्यवस्था बनाए रखने में सहयोग की आश्वासन दिया।

You might also like