संशोधित पे-स्केल लेकर रहेंगे

स्टाफ रिपोर्टर, धर्मशाला

हिमुडा कर्मचारी महासंघ ने प्रदेश सरकार से वर्कचार्ज श्रेणी से नियमित श्रेणी में शामिल किए गए तीन सौ कर्मचारियों को संशोधित वेतनमान जारी करने की मांग की है। करीब चार वर्ष से संशोधित वेतनमान का इंतजार कर रहे कर्मचारी महासंघ के सब्र का बांध अब टूटने लग पड़ा है। कर्मचारी महासंघ ने दो टूक शब्दों में प्रदेश सरकार को चेतावानी देते हुए कहा है कि अगर संघ की मांगों को शीघ्र पूरा नहीं किया गया, तो महासंघ प्रदेशव्यापी आंदोलन का आगाज करेगा।

हिमुडा कर्मचारी महासंघ के प्रदेशाध्यक्ष शिव कुमार शर्मा ने गुरुवार को धर्मशाला में एक प्रेस बयान में बताया कि जनवरी 2006 से हिमुडा के तीन सौ कर्मचारियों को अभी तक संशोधित वेतनमान प्राप्त नही हुआ है। उन्होंने बताया कि 31 मार्च, 2009 को आठ वर्ष का कार्यकाल पूर्ण कर चुके दैनिकभोगी कर्मचारियों को अभी तक नियमित नहीं किया गया है। उन्होंने बताया कि दैनिकभोगी कर्मचारियों ने 10 से 12 वर्ष का कार्यकाल पूर्ण कर लिया है, परंतु दुर्भाग्य की बात है कि अभी तक किसी भी कर्मचारी को नियमित नहीं किया गया है। प्रदेशाध्यक्ष ने विभाग के प्रशासनिक अधिकारियों पर आरोप लगाते हुए कहा कि हिमुडा के विभिन्न कार्यालयों में समुचित स्टाफ के कमी के कारण विभिन्न श्रेणी के कर्मचारियों की पदोन्नतियां रुक गई है। प्रदेशाध्यक्ष ने बताया कि विभाग में 25 से 30 वर्ष का सेवाकाल पूरा कर चुके चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को लिपिकों में पदोन्नत नहीं किया गया, जिस कारण उक्त श्रेणी के कर्मचारी अलगाववाद का शिकार हो रहे हैं।

उन्होंने बताया कि सर्विस कमेटी की बैठक का लंबे समय से आयोजन न होने के कारण हिमुडा के कर्मचारियों में विभाग के प्रति गहरा रोष व्यापत है। प्रदेशाध्यक्ष ने बताया कि विभाग के प्रशासनिक अधिकारियों के साथ महासंघ की एक बैठक गत दिन पहले हुई थी, जिसमें अधिकारियें ने संघ की मांगों को पूरा करने का अश्वासन दिया था। प्रदेशाध्यक्ष ने बताया कि अगर प्रदेश सरकार और प्रशासनिक अधिकारियों ने महासंघ की मांगों को पूरा नहीं किया, तो संघ को मजबूरन अंदोलन का रास्ता अपनाना पड़ेगा।

You might also like