चक्की-रायपुर कूहल के हाथ खड़े

नगर संवाददाता, चुवाड़ी

चक्की खड्ड से निकलने वाली चक्की-रायपुर कूहल का हलक सूख चुका है। हजारों हेक्टेयर जमीन पर खड़ी धान की फसल बर्बाद होने के कगार पर है। इससे दो पंचायतों के बाशिंदों में भारी रोष पनपा है। मामला भटियात की दो पंचायतों जंद्रोग और रायपुर पंचायत के इलाकों को सींचने वाली चक्की-रायपुर कूहल का है।

कूहल का डंगा जमींदोज होने से सिंचाई व्यवस्था बाधित हुई है तथा इससे पंचायतों की जमीन पर खड़ी धान की फसल चौपट हो चुकी है। इसके चलते जंद्रोग पंचायत और रायपुर पंचायतवासियों का गुस्सा विभाग के प्रति फूट पड़ा है। जानकारी के मुताबिक जहां फसल को पानी नहीं मिल पाया, वहीं सैकड़ों मवेशियों के हलक भी प्यासे हैं। बता दें कि पिछले डेढ़ माह से मुक्सयार नामक स्थान पर डंगा धराशायी होने से डंगे के नीचे खड़ी फसल तबाह हुई थी, वहीं जंद्रोग समेत रायपुर पंचायत के अंतर्गत आने वाले दर्जनों गांव की सिंचाई व्यवस्था बाधित हो चुकी है। पीडि़त किसानों में नंबरदार सुरिंद्र, प्रीतम सिंह, करनैल, चैन, मुंशी केवल, श्रवण कुमार, चमन सिंह, सुरिंद्र कुमार, चैन सिंह व अन्य का कहना है कि उनकी धान की खड़ी फसल पूरी तरह बर्बाद होने के कगार पर है। उन्होंने सरकार से कूहल की व्यवस्था सुधारने की मांग की है।

उधर, चुवाड़ी आईपीएच विभाग के एसडीओ प्रवीण शर्मा का कहना है कि चक्की-रायपुर कूहल के गिरे डंगे का एस्टीमेट बना कर भेजा जा चुका है। मंजूरी मिलने पर शीघ्र निर्माण कार्य शुरू कर दोबारा से सिंचाई व्यवस्था सुचारू कर दी जाएगी।

You might also like