जनसाली में गूंजी अमृतवाणी

चंबा  सिखों के चौथे गुरु गुरुरामदास का 476वां प्रकटोत्सव गुरुद्वारा श्री गुरु सिंह सभा जनसाली में बड़ी धूमधाम, उल्लास और धार्मिक श्रद्धा के साथ मनाया गया। इस उपलक्ष्य पर ग्रंथ साहिब के अखंड पाठ आरंभ हुए, जिसका समापन शनिवार को हुआ। भाई परमजीत सिंह ने राग माला का गायन करके पाठ समाप्त किया। मुंबई से आए रागी एवं कथावाचक भाई गुरमीत सिंह ने अमृतवाणी का कीर्तन किया। तबले पर उनकी संगत माही परमजीत सिंह ने दी। उन्होंने धन-धन श्री गुरु रामदास शब्द का गायन करके संगतों को निहाल कर दिया। इसके बाद आनंद साहिब का पाठ हुआ।

You might also like