डीपीएस ने नवाजे मेधावी

कार्यालय संवाददाता, डलहौजी

उत्तर भारत के प्रख्यात शिक्षण संस्थान डलहौजी पब्लिक स्कूल डलहौजी ने अपना 40वां द्विवार्षिक स्थापना दिवस समारोह मनाया। सदैव की भांति अतिभव्य एवं अविस्मरणीय प्रस्तुतियां पेश कर छात्रों ने सभी को मंत्रमुग्ध किया। इस समारोह की अध्यक्षता लेफ्टिनेंट जनरल बीएस जसवाल वीपीएस, एसवी, एसएमवीएस, जीओ-इन-सी उत्तरी कमांड ने बतौर मुख्यातिथि की। स्मरण रहे कि आज तक हुए सभी समारोहों में सदैव सेना के वरिष्ठ अधिकारी ही अध्यक्षता करते रहे हैं।

इस अवसर पर स्कूल के छात्र व छात्राओं द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया, जिसमें शास्त्रीय नृत्य एवं आधुनिक नृत्य, जूडो कराटे, शारीरिक व्यायाम आदि की प्रस्तुतियां मंत्रमुग्ध करने वाली थीं। विशेषकर सामूहिक नृत्य अभिनय ‘कृष्णा जो कि महाभारत से संबंधित द्रौपदी चीर हरण’ से चौसर खेल व भगवान कृष्ण के दर्शन को मार्मिक रूप से प्रस्तुत किया। इन प्रस्तुतियों की विशेषता यह भी रही कि प्रत्येक प्रस्तुति में भाग लेने वाले छात्र-छात्राओं की संख्या 150 से अधिक थी। स्कूल बैंड द्वारा मार्चपास्ट भी प्रबुद्ध लोगों ने खूब सराहा।

डलहौजी पब्लिक स्कूल के निदेशक एवं प्रिंसीपल डा. कैप्टन जीएस ढिल्लों द्वारा मुख्यातिथि का अभिनंदन किया व स्कूल की गतिविधियों का संक्षिप्त ब्यौरा प्रस्तुत किया। मुख्यातिथि ले. जेवीएस जसवाल ने स्कूल के मेधावी छात्रों को स्मृति चिन्ह व प्रमाणपत्र भेंट कर सम्मानित किया। मुख्यातिथि ने अपने संबोधन में कहा कि सभी विद्यार्थी समान होते हैं, मगर महत्त्वपूर्ण बात यह होती है कि उन्होंने अपने अध्यापक से क्या हासिल किया, कैसी कठिन परिस्थितियों में शिक्षा हासिल की, जैसे भारत के पूर्व राष्ट्रपति अपने जीवन में संघर्ष करके महान भारत के राष्ट्रपति पद तक पहुंचे।

उन्होंने अपने विद्यार्थी जीवन को याद करते हुए कहा कि विद्यार्थियों और अध्यापक के बीच एक विशेष संबंध होता है, जिसे अपने स्कूल से जाने के बाद भी अध्यापक की आदर व गरिमा को बनाए रखें। उन्होंने बच्चों से आह्वान किया कि वे अपनी विनम्रता बनाए रखें, नैतिक मूल्यों को कायम रखें तथा असफलता और अयोग्यता पर विजय पाकर अच्छे गुण हासिल करके अपने उज्ज्वल भविष्य की ओर कदम बढ़ाते चलें। उन्होंने कहा कि अभिभावक बधाई के पात्र हैं, जिनके बच्चे देश के सर्वश्रेष्ठ शिक्षण संस्थान में शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। अंत में मुख्यातिथि ने जहां डलहौजी पब्लिक स्कूल के निदेशक को उत्तरी कमान की ओर से स्मृति चिन्ह भेंट किया, वहीं स्कूल के निदेशक ने भी मुख्यातिथि को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया।

You might also like