नवरात्र पर 241 आंगनों की शोभा बनीं नई गाडि़यां

राजीव सूद, नगरोटा बगवां

आज के दौर में भले ही समाज का एक बड़ा वर्ग महंगाई की चक्की में कराहता नजर आ रहा है, लेकिन अपने लिए सुविधाओं के अंबार जुटाते उस वर्ग की भी कमी नहीं, जो उसी समाज की आर्थिक संपन्नता तथा समृद्धि का परिचायक बनकर जमाने की चाल से कदम से कदम मिलाकर आगे बढ़ने को अग्रसर है, जिस प्रकार नई नवेली दुल्हन को घर लाने के लिए शुभ मुहूर्त का सहारा लिया जाता है, उसी तरह घर में कोई बड़ा वाहन खरीदने के लिए भी वधू प्रवेश की तरह ही वाहन प्रवेश के लिए भी शुभ अवसर का इंतजार करना हमारे समाज की मजबूरी है।  इसके बावजूद प्राकृतिक व्यवस्था के चलते वर्ष में दो बार आने वाली नवरात्र अवधि को जहां सभी प्रकार के मंगल कार्यों के लिए शुभ माना जाता है, वहीं वाहनों की खरीद-फरोख्त के लिए भी लोगों को इस समय का इंतजार रहता है। हाल ही में संपन्न शारदीय नवरात्र में ग्राहकों में वाहन खरीदने की होड़ रही है तथा यहां स्थापित कार कंपनियों ने भारी बिक्री दर्ज की। इसी दौरान देश की नामी कार कंपनियों में से एक मारुति सुजूकी के मलां स्थित शोरूम से विभिन्न मॉडलों की 115 गाडि़यां विभिन्न क्षेत्रों के लोगों के आंगन की शोभा बनीं। इस दौरान जहां दो लाख 36 हजार से लेकर चार लाख तक की कीमत वाले ऑल्टो, के-10, वैगनआर आदि के मॉडलों की भारी मांग रही, वहीं स्विफ्ट डिजाइर तथा डीजल आदि की सात लाख तक की महंगी कारों के मॉडलों को भी ग्राहकों ने खासी प्राथमिकता दी। मारुति 800, वैगनआर, ऑल्टो, जेन आदि के कई मॉडल्स जहां मौके पर ही ग्राहकों के लिए उपलब्ध हुए, वहीं स्विफ्ट एलएक्सआई, स्विफ्ट वीएक्सआई, स्विफ्ट वीडीआई आदि मॉडलों की आठ से 24 हफ्तों की अग्रिम बुकिंग की प्रक्रिया अपनाई गई। इसी तरह हुंडई कंपनी ने भी नवरात्र में खूब बिक्री कर अपने पिछले रिकार्ड को तोड़ा। केंद्र के सेल्ज मैनेजर प्रिंस के मुताबिक नवरात्र के दौरान कंपनी की 70 कारें हाथोंहाथ बिकीं, जबकि 30 ग्राहकों ने अग्रिम बुकिंग करवाई। इस दौरान कंपनी के दो लाख 78 हजार से तीन लाख 78 हजार तक के सेंट्रो मॉडलों को लोगों ने तरजीह दी। कांगड़ा में एक साल की अवधि पूरी कर चुकी टाटा मोटर्र्स की इंडिका, विस्टा, इंडिगो, नैनो, सफारी तथा सूमो आदि कारों को बेचने वाली कंपनी ने भी पिछले नौ दिनों की अवधि में 26 कारें लोागें को मुहैया करवाईं, जबकि रंगों तथा मॉडल की उपलब्धता न  होने की वजह से कई लोग दिवाली तक का इंतजार करने पर मजबूर हुए। इस दौरान एक लाख 34 हजार की नैनो से लेकर नौ लाख 90 हजार की सफारी भी लोगों के घरों की शान बनी। एक वर्ष पूर्व स्थापित उक्त शोरूम से अब तक 384 गाडि़यां लोगों की पसंद बन चुकी हैं। उधर,  कंपनी के प्रबंध निदेशक जेके गोयल प्रदेश सरकार द्वारा दूसरे राज्यों से वाहनों की खरीद पर पांच प्रतिशत शुल्क लगाने से गदगद हैं। उनका कहना है कि इससे प्रदेश के अंदर व्यापार बढ़ेगा तथा स्थानीय लोगों को रोजगार के अवसर बढ़ेेंगे।

You might also like