योग से तनाव भगा रही खाकी

दिव्य हिमाचल ब्यूरो, चंबा

पुलिस लाइन में चल रहे योग साधना शिविर में पुलिस अधिकारी, कर्मचारी और उनके परिवार के सदस्य, लगभग 200 की संख्या में योग से तनाव मुक्त रहने की कला सीख रहे हैं। जिला पुलिस अधीक्षक मधुसूदन ने बताया कि मई-2008 में पूर्व डीजीपी अश्वनी कुमार वर्तमान में महानिदेशक (सीबीआई) व वर्तमान आईजी सीताराम मरड़ी ने विवेकानंद योग व संगीत साधना केंद्र के संस्थापक एवं मार्गदर्शक श्रीमद स्वामी गौरीश्वरानंद पुरी को पूरे हिमाचल के पुलिस विभाग की अतिरिक्त, मानसिक व आध्यात्मिक रूप से योग से परिपक्व बनाने और तनाव मुक्त करके एक स्वस्थ सबल आदर्श नागरिक बनाकर देश सेवा करने के लिए तैयार करने का दायित्व सौंपा है।  इसी दिशा में चंबा पुलिस लाइन में 26 सितंबर से 27 अक्तूबर तक एक योग शिविर चल रहा है। इस शिविर में लगभग 200 व्यक्तियों की योग और संगीत साधना का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। यह शिविर स्वामी गौरीश्वरानंद के मार्गदर्शन में चल रहा है। इसमें योग प्रशिक्षण सुबह पांच से साढ़े छह बजे तक तथा संगीत साधना कार्यक्रम सायं सात से साढ़े आठ बजे तक चलता है। संगीत साधना शिविर में साढ़े छह से साढ़े सात बजे तक का समय महिलाओं व बच्चों तथा साढ़े सात से साढ़े आठ बजे तक का समय पुरुषों के लिए रखा गया है।  उन्होंने बताया कि स्वामी गौरीश्वरानंद का कहना है कि अगर सही मायने में योग  को अपनाना है, तो पहले आदर्श दिनचर्या संतुलित खानपान व शुद्ध विचार पर ध्यान देना होगा। इसके साथ ही योग के स्तंभ स्वरूप तय स्वास्थ्य व ईश्वर के ऊपर  ही ध्यान देना जरूरी है। योगी राज कहते हैं कि आसन-प्राणायाम, नीति व धौति द्वारा शरीर को शुद्ध करने के बाद करना चाहिए। इस शिविर में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री दिवाकर, डीएसपी कालीदास सहित पुलिस कर्मी व उनके परिवार के सदस्य भाग लेकर लाभ उठा रहे हैं।

You might also like