रैगिंग केस के 20 माह, 38 गवाह

दिव्य हिमाचल ब्यूरो, धर्मशाला

आठ मार्च, 2009 को टांडा मेडिकल कालेज में हुई अमन काचरू की हत्या मामले पर 20 माह बाद फैसला आएगा। इस रैगिंग हत्या केस में कुल 38 गवाहों के बयानों और अभियोजन व बचाव पक्ष की दलीलों पर कोर्ट अपना फैसला सुनाएगा। इस केस में न्यायाधीश अविनाश चंद के अलावा एक दर्जन डाक्टरों, इतने ही पुलिस अधिकारियों और टीएमसी प्राचार्य, कर्मचारियों व छात्रों के बयान दर्ज हुए हैं। टीएमसी छात्र अमन काचरू की चार प्रशिक्षु डाक्टरों ने रैगिंग की थी। इस बारे नौ मार्च, 2009 को पुलिस थाना कांगड़ा में गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज किया गया था। इस शिकायत में कहा गया था कि छह और सात मार्च की रात दो से लेकर चार बजे के बीच अमन काचरू की उसके चार सीनियर्ज ने बेरहमी से रैगिंग कर मारपीट की। इससे आठ मार्च की शाम सवा सात बजे अमन काचरू की मौत हो गई थी। इस पूरे मामले पर टीएमसी प्रशासन ने पर्दा डालने की कोशिश की थी। मीडिया द्वारा इस मामले को प्रमुखता से उठाए जाने के बाद पुलिस ने इस मामले की जांच तेज कर दी थी। इसी के चलते आईपीसी की धारा 304 में गैर इरादतन हत्या के इस केस को बाद में 302 के तहत हत्या में तबदील किया था। मामले की आरंभिक सुनवाई जेएमआईसी कोर्ट कांगड़ा तथा धर्मशाला में चली थी। इसके बाद इस मामले को सत्र न्यायाधीश की अदालत में भेजा गया। अदालत ने आगामी कार्रवाई करते हुए इस मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई के लिए भेज दिया। जुलाई, 2010 में अदालत ने हत्या के चारों आरोपियों को जमानत पर रिहा कर दिया था। इस पर कड़ा संज्ञान लेते हुए हाई कोर्ट ने इन चारों की जमानत रद्द कर दी थी। इस पर 12 दिन तक बाहर रहे चारों आरोपियों को दोबारा न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। इसी बीच मामले की सुनवाई कर रहे फास्ट ट्रैक कोर्ट के न्यायाधीश पुरेंद्र वैद्य पदोन्नत हो गए। हाई कोर्ट ने काचरू मामले को उनकी अदालत में ट्रांसफर कर दिया। इसके चलते न्यायाधीश पुरेंद्र वैद्य इस हत्या मामले पर 11 नवंबर को फैसला सुनाएंगे।

पुलिस, डाक्टर, छात्र सभी अहम

सुरेश सांख्यान प्राचार्य टीएमसी, दीपक वर्मा होस्टल मैनेजर, प्रदीप बंसल होस्टल वार्डन, आशीष सकलानी छात्र, जोंगिद्र सिंह सिक्योरिटी गार्ड, सीमांत मल्होत्रा छात्र, कर्म चंद सिक्योरिटी गार्ड, सुशांत कुमार छात्र, प्रकाश चंद क्लर्क टीएमसी, विनय भारद्वाज छात्र, ओम प्रकाश एएसआई, सौरभ शर्मा छात्र, भुवन वर्मा छात्र, जीवन वालिया कनिष्ठ सहायक टीएमसी, अभिनव अवस्थी छात्र, अभिषेक शास्वत छात्र, डाक्टर हरजीत पाल सिंह ईएनटी स्पेशलिस्ट, डा. सुभाष शर्मा, बीएस राणा, देस राज सिक्योरिटी गार्ड, डा. डीपी स्वामी पोस्टमार्टमकर्ता, डा रोहित शर्मा, डा. अविनाश चंद न्यायिक अधिकारी, देस राज एएसआई, नरोत्तम सिंह आरक्षी, डा. जेवी सिंह, डा. सीमा गुप्ता, डा. केके शर्मा, पवन कुमार आरक्षी,  प्यार चंद आरक्षी,  डा. विजय कौशल, अवतार सिंह एएसआई, राकेश कुमार, कुलदीप सिंह आरक्षी, तिलक राज सब-इंस्पेक्टर, प्रताप सिंह ठाकुर इंस्पेक्टर, रोहित धर अमन काचरू के फूफा और मृतक छात्र के पिता राजेंद्र काचरू।

You might also like