वीआईपी ड्यूटी से मुकरा हैड कांस्टेबल

मस्तराम डलैल, धर्मशाला

हैड कांस्टेबल ने सरेआम अपने सीनियर को आंखें दिखा दीं और हुकम की तामील न करने से इनकार कर दिया। इससे अंदाजा लगाना आसान है कि आम पब्लिक से खाकी किस कद्र पेश आती होगी। अपने अफसरों को हड़काकर हैड कांस्टेबल ने सुरक्षा-व्यवस्था पर ही सवाल उठा दिए हैं। मामला चामुंडा मंदिर में चल रहे नवरात्र आयोजन का है। मंदिर में तैनात सेकेंड आईआरबी सकोह के हैड कांस्टेबल पर वीआईपी ड्यूटी के दौरान इस तरह के व्यवहार के आरोप हैं।

इसकी शिकायत पर आरोपी हैड कांस्टेबल को एसपी आफिस तलब कर उससे स्पष्टीकरण मांगा गया है। सूचना के अनुसार नौ अक्तूबर को राज्यपाल के चामुंडा में आने से ठीक पहले सुरक्षाकर्मियों को अलर्ट रहने को कहा गया था।

इसी दौरान एक वीआईपी चामुंडा मंदिर में पहुंच गया। इस पर मंदिर अधिकारी ने हैड कांस्टेबल को वीआईपी के साथ शिव मंदिर जाने को कहा। आरोप है कि इस दौरान हैड कांस्टेबल ड्यूटी देने के बजाय इधर-उधर टहल रहा था। लिहाजा टैंपल आफिसर ने जब उसके पास जाकर वीआईपी को ले जाने के लिए कहा, तो वह मंदिर अधिकारी से ही भिड़ गया। इस पर वीआईपी के साथ आए दूसरे लोगों ने पुलिस कर्मचारी को कहा कि अगर उसकी ड्यूटी सुरक्षा देना है, तो वह मना क्यों कर रहा है। इसके जवाब में पुलिस कर्मचारी ने कहा कि वीआईपी है, तो इसे मैं मंदिर में पकड़ कर माथा टेकने ले जाऊं। पुलिस कर्मचारी ने स्पॉट में दिए जवाब में कहा कि वीआईपी है, तो अपने लिए होगा, इससे उसका क्या लेना-देना है? उसने वीआईपी के साथ दो टूक जाने को मना कर दिया। अलबत्ता नवरात्र के दौरान सुरक्षा पर तैनात पुलिस कर्मचारियों में से इस हैड कांस्टेबल के व्यवहार ने व्यवस्था की पोल खोल दी है। अलबत्ता इस कर्मचारी के खिलाफ शिकायत मिलते ही पुलिस ने जांच आरंभ कर दी है। चामुंडा मंदिर में तैनात पुलिस सुरक्षा अधिकारी डीएसपी नरवीर सिंह ने बताया कि वीआईपी से दुर्व्यवहार करने वाले हैड कांस्टेबल के खिलाफ कार्रवाई होगी। एडिशनल एसपी संजीव गांधी ने बताया कि आरोपी हैड कांस्टेबल को एसपी आफिस तलब कर उससे स्पष्टीकरण मांगा
गया है।

You might also like