शिक्षकों के पक्ष में छतराड़ी सड़कों पर

स्टाफ रिपोर्टर, भरमौर

राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला छतराड़ी के परिसर में एक स्थानीय युवक की मौत के मामले ने एक नया मोड़ ले लिया है। मामले में आरोपी बनाए गए दो अध्यापकों के पक्ष में स्कूली छात्र व स्टाफ उतर आया है। सोमवार को स्कूली छात्रों व स्टाफ ने छतराड़ी गांव में रैली निकालकर जोरदार प्रदर्शन किया। स्कूली छात्रों का कहना है कि इस मामले में एक तरफा कार्रवाई की गई है। स्कूली छात्रों का कहना है कि पुलिस ने उस दिन एनएसएस कैंप में मौजूद बच्चों के बयान तक दर्ज नहीं किए। स्कूली छात्रों ने उनके बयान दर्ज न होने तक हड़ताल पर बैठने की चेतावनी भी दी है। समाचार लिखे जाने तक छात्र स्कूल के बाहर धरने पर बैठे हुए थे। रैली के दौरान स्कूली छात्रों ने पुलिस व प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की। उल्लेखनीय है कि गुरुवार रात्रि छतराड़ी स्कूल परिसर में एक युवक की लैंटल से गिरकर मौत हो गई थी। मृतक के पिता ने स्कूल के दो अध्यापकों पर उसके बेटे को लैंटल से गिराकर हत्या करने का आरोप लगाया था। पुलिस ने भादस की धारा 302 व 34 के तहत मामला दर्ज कर अध्यापकों को गिरफ्तार कर लिया था। हालांकि अध्यापकों की गिरफ्तारी के बाद से ही इलाके में मामले को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं हो रही थीं। यहां तक की स्कूल के प्रिंसीपल ने भी मामले को महज एक हादसा करार देते हुए अध्यापकों  को बेकसूर बताया था, मगर सोमवार को स्कूली छात्रों के भी मामले में कूदने से एक नया मोड़ आ गया है। उधर, पुलिस प्रमुख मधु सूदन ने कहा है कि पुलिस निष्पक्ष तौर से जांच कर रही है और अगर बच्चों के बयान नहीं लिए गए हैं, तो वह भी लिए जाएंगे, मामले की जांच जारी है।

You might also like