हू-ब-हू हस्ताक्षरों से उलझन

उपेंद्र कटोच, पंचरुखी

केसीसी बैंक पंचरुखी शाखा में लाखों रुपए के कर्ज का मामला उलझता जा रहा है। गौरतलब है कि एचआरटीसी पालमपुर के डिपो में कार्यरत महिला निर्मला देवी ने आरोप लगाया था कि कुछ जालसाजों ने उनके नाम पर लाखों रुपए का ऋण स्वीकृत करवा लिया था। महिला को इसकी जानकारी उस समय हुई, जब बैंक द्वारा महिला को ऋण अदायगी करने का नोटिस मिला। गत शुक्रवार को महिला ने इसकी शिकायत पुलिस में दर्ज करवाई थी। इसी मामले की जांच करते हुए सोमवार को केसीसी बैंक के जीएम जसवंत राणा ने पंचरुखी शाखा का दौरा करते हुए बैंक में तहकीकात की व कागजातों की जांच की। जांच में पाया गया है कि लोन अदायगी चेक के हस्ताक्षर व उपभोक्ता के हस्ताक्षर आपस में मेल खा रहे हैं, जिससे बैंक में जालसाजी के मामले की गुत्थी सुलझती नजर आ रही है। जीएम जसवंत राणा के अनुसार बैंक ने लोन अदायगी का मामला दर्ज करवा लिया है। इस विषय में शाखा प्रबंधक राजेंद्र राणा का कहना है कि बैंक की लोन अदायगी का मामला अब कोर्ट में है। उन्होंने कहा किलोन संबंधी कागजातों व निर्मला देवी के सेविंग खाते के हस्ताक्षर मिलते हैं। उन्होंने कहा कि फिलहाल मामला पुलिस के पास है व उनकी जांच पर मामला स्पष्ट हो पाएगा, लेकिन अब तक कांगड़ा सहकारी बैंक पंचरुखी शाखा की कार्यप्रणाली संदेह के घेरे में है।

You might also like