हेलि टैक्सी सेवा अगले माह से

विशेष संवाददाता, शिमला

हिमाचल में हेलि टैक्सी का इंतजार अगले माह खत्म होने वाला है। छह, 18 व 26 सीटर उड़नखटोले हर जिला में पर्यटकों को हेलि टैक्सी सेवा का लुत्फ देंगे। मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल जल्द इस योजना का शुभारंभ करेंगे। मुंबई की कंपनी सिम-सम, दिल्ली की शिवा व मैस्को कंपनियों को संयुक्त तौर पर रूट निर्धारित करने के लिए कहा गया है। पर्यटन विभाग का इस सेवा पर नियंत्रण रहेगा। तीनों कंपनियों से कहा गया है कि वे दिल्ली, चंडीगढ़ से शिमला, कुल्लू-मनाली, ऊना, कांगड़ा व अन्य जिलों के लिए तभी सेवाएं शुरू कर सकती हैं, यदि इसके लिए उन्हें डायरेक्टर जनरल आफ सिविल एविएशन अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी करे। योजना को सफल बनाने के लिए पर्यटन विभाग 57 हेलिपैड्स पर आधारभूत सुविधाएं जुटाने जा रहा है। इनमें टिकेटिंग-काउंटर्स, टायलेट्स, वेटिंग-रूम्स व कैंटीन शामिल रहेंगी।

जनजातीय इलाकों में किन्नौर व लाहुल-स्पीति सहित कुल्लू के उपायुक्तों को नए हेलिपैड्स के लिए उपयुक्त स्थलों के निर्धारण के भी निर्देश दिए गए हैं। सेवाएं चालू करने से पूर्व दो-तीन रोज में विभिन्न पैकेज टूअर्स की किराया दरें निर्धारित कर दी जाएंगी। मैस्को व सिम-सम कंपनियां जहां वीआईपी सेवा राज्य को मुहैया करवा चुकी हैं, वहीं शिवा कंपनी को मणिमहेश में उड़ानों का अनुभव है। यात्रियों की संख्या के आधार पर तीनों ही कंपनियां छह, 18 व 26 सीटर हेलिकाप्टर मुहैया करवाएंगी। मुख्यमंत्री प्रो. धूमल जल्द ही इस बड़ी योजना का शुभारंभ करेंगे। औपचारिक तौर पर इस योजना को अनुमति दे दी गई है। इसकी पुष्टि मुख्यमंत्री के प्रधान निजी सचिव व पर्यटन आयुक्त डा. अरुण शर्मा ने की है। उधर, पर्यटन प्रधान सचिव मनीषा नंदा ने कहा कि हेलि टैक्सी सेवा जुटाने वाली तीनों कंपनियों के साथ बुधवार को बैठक की गई है। जल्द समझौता हस्ताक्षरित किया जाएगा। बहरहाल, हिमाचल में हेलि-टैक्सी की रोमांचकारी यात्रा देश-विदेश से आने वाले सैलानियों के लिए एक बड़ा आकर्षण साबित हो सकती है। धार्मिक, साहसिक पर्यटन  समेत जनजातीय इलाकों के पर्यटन में भी इस योजना से निखार आएगा।

You might also like