विधायक पुत्र पर पीडब्ल्यूडी मेहरबान

Nov 4th, 2010 10:51 pm

राकेश शर्मा, बिलासपुर

लोक निर्माण विभाग मंडल घुमारवीं में हो रहे निर्माण कार्यों में बंदरबांट कर नियमों को ठेंगा दिखाया गया है। सभी नियमों को ताक पर रख गेहड़वीं के विधायक के बेटे द्वारा मंडल के तहत विभिन्न क्षेत्रों में निर्धारित से अधिक काम लेकर खूब चांदी बटोरी गई, क्योंकि दो से अधिक कार्यों के आबंटन पर प्रतिबंध है, लिहाजा नियमों की अवहेलना कर अंधाधुंध कार्य ठेकेदारों को दे दिए गए। सूचना का अधिकार अधिनियम के तहत बिलासपुर के एडवोकेट राजेश कुमार मिश्रा द्वारा जुटाई गई जानकारी में यह खुलासा हुआ है। उन्होंने मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल और विजिलेंस के डीआईजी को पत्र भेजकर घुमारवीं मंडल में हो रहे भ्रष्टाचार की जांच करवाए जाने की मांग उठाई है। आरटीआई के तहत प्राप्त जानकारी के अनुसार सरकार के 30 मई, 2006 के निर्देशानुसार पत्र संख्या पीबीडब्ल्यू बी-2, बी-3, 4, 7 2002-1 पीडब्ल्यूडी में किसी भी ठेकेदार को दो से अधिक ठेके देने पर प्रतिबंध है। इसके अलावा किसी कार्य को अनेक भागों में स्पलिट यानी बिखंडित करके किसी को अनुचित लाभ देना भ्रष्टाचार की श्रेणी में आता है। सूचना का अधिकार 2005 के तहत मिली जानकारी में पत्र संख्या पीडब्ल्यू-जीएचडी-सीडी-आरटीआई 2010-7570 के अनुसार विधायक के बेटे राज कुमार कौंडल को कांग्रेस सरकार के समय 2007 में घुमारवीं मंडल में कार्यों का आबंटन नियमानुसार हुआ था और मंडल स्तर पर इस ठेकेदार को पूरे साल तक कोई भी कार्य आबंटित नहीं था, जबकि उपमंडल स्तर पर बरठीं में 285848 रुपए तथा घुमारवीं में 54590 रुपए के कार्य मिले थे और कलोल उपमंडल में मात्र 16 काम ही मिले थे। पत्र संख्या पीडब्ल्यू-जीएचडी-सीडी-आरटीआई 2010-7571 के अनुसार मार्च, 2008 से मार्च, 2009 तक मंडल स्तर पर दो कार्य सरकारी कालेज भवन झंडूता तथा कोठियां गुजरेहड़ा कोचर रोड करीब 2.93 करोड़ लागत के मिले थे,लेकिन सूचना मिलने तक इनका कार्य पूरा नहीं हुआ था। ऐसे में ठेकेदार को कोई भी अन्य ठेका नहीं दिया जा सकता था। नियमानुसार जब तक इन दो ठेकों का कार्य समाप्त नहीं हो जाता, लेकिन उपरोक्त दोनों ठेकों का काम चला था, लेकिन विभाग की मेहरबानी से इस ठेकेदार को एक ही साल में उपमंडल स्तर बरठीं में 16 तथा 75 ठेकों का आबंटन कर दिया गया। उपमंडल स्तर के सभी ठेकों के मुख्यतया लिंक रोड दलित बस्ती थुराण से धनत्थर को चार भागों में बांटकर 26 फरवरी, 2009 तथा 27 फरवरी, 2009 और दो मार्च, 2009 को मिले सभी ठेके शामिल हैं, जबकि इन कार्यों को समाप्त करने की तिथियां क्रमशः 14, 15, 17 मार्च, 2009 थीं। कलोल मंडल के तहत कार्यों का बिखंडन करके अनुचित लाभ पहुंचाने में यह मंडल सबसे अग्रणी रहा है। इस मंडल में 26 जून, 2008 को दो काम दिए गए। जोल-पीरथान सड़क को दो भागों में बांटकर 27 जुलाई, 2008 को एक ही दिन उक्त ठेकेदार के नाम कर दिया गया। तलाई-दियोटसिद्ध रोड को सात हिस्सों में पांच भाग दो अक्तूबर, 2008 को उक्त ठेकेदार और दो भाग नत्थूराम नामक ठेकेदार को दिए गए, जिन्हें पूरा करने की तिथि पहली नवंबर 2008 थी। एक भाग का कार्य गुरनाझाड़ी लिंक रोड, जो कि शाहतलाई शहर में है, को राज कुमार को 27 फरवरी, 2009 को आबंटित किया गया, जिसे 26 मार्च, 2009 को पूरा करना था और शेष 23 विखंडित भाग 28 फरवरी, 2009 को एक ही दिन राज कुमार ठेकेदार को आबंटित कर दिए गए, जिन्हें पूरा करने की अवधि 27 मार्च, 2009 अंकित की गई थी। शिकायतकर्ता ने गड़बड़ घोटाले की जांच करवाकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। इस संबंध में श्री कौंडल ने कहा कि यह सब उनकी समझ से परे है तथा संबंधित अधिकारियों से ही पूछताछ की जाए।

Himachal List

Free Classified Advertisements

Property

Land
Buy Land | Sell Land

House | Apartment
Buy / Rent | Sell / Rent

Shop | Office | Factory
Buy / Rent | Sell / Rent

Vehicles

Car | SUV
Buy | Sell

Truck | Bus
Buy | Sell

Two Wheeler
Buy | Sell

Polls

क्या हिमाचल कैबिनेट के विस्तार और विभागों के आबंटन से आप संतुष्ट हैं?

View Results

Loading ... Loading ...

Miss Himachal Himachal ki Awaz Dance Himachal Dance Mr. Himachal Epaper Mrs. Himachal Competition Review Astha Divya Himachal TV