शूटिंग साइट्स

शूटिंग साइट्स

शिमला

शिमला में ऐतिहासिक रिज मैदान, मालरोड, नालदेहरा, क्रेगनेनो, छराबड़ा, कुफरी, वुडविला, शिमला ब्रिटिश रिजॉर्ट, एडवांस स्टडीज, पीटरहाफ, चेडविक फॉल, ग्लैन, वाइल्ड फ्लावर हॉल, चेल्सी, कुफरी हाइट्स, हाटू पीक, चांशल, चायल के साधुपुल और नारकंडा आदि शिमला के उल्लेखनीय शूटिंग स्थल हैं। राजधानी में अब तक ब्लैक (सुपरहिट), गदर (हिट), मैं ऐसा ही हूं, दोस्ती, करीब, बादल, थ्री इडियट्स (सुपरहिट), जब वी मेट (हिट), दो कैदी, प्यार झुकता नहीं (सुपरहिट), शू बाइट्स, दोस्त, लव इन शिमला (हिट), जाल, ये दिल्लगी, माया मेमसाहब, आपकी कसम व इसके अलावा अब तक सैकड़ों फिल्मों की शूटिंग शिमला में की जा चुकी है।

चंबा

चंबा में करीब 12 बालीवुड फिल्मों की शूटिंग हुई है। जिला का खजियार, डलहौजी, कालाटोप, जगुहार, उदयपुर व चौगान मुख्य शूटिंग स्थल हैं। फिल्म साहब बहादुर से लेकर नाजाने कितनी ही फिल्मों के माध्यम से चंबा की खूबसूरती दुनिया के सामने आई है। ताल, लव स्टोरी 1942, कोयला, एक महल हो सपनों का व जिंदा दिल आदि कुछ ऐसी फिल्में हैं, जो चंबा की जमीन पर बनीं और बाक्स आफिस पर धमाल मचा गईं।

बिलासपुर

राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय पटल पर धूम मचा चुकी बार्डर फिल्म की शूटिंग बिलासपुर में हुई है। इसके साथ ही बंगाली भाषा की प्रेम नामक फिल्म का फिल्मांकन भी बिलासपुर की वादियों में हुआ था। दोनों ही फिल्में बॉक्स आफिस पर सुपरहिट रही है। बार्डर फिल्म में बिलासपुर के परमवीर चक्र विजेता संजय कुमार का किरदार अभिनेता सुनील शैट्टी और संजय की धर्मपत्नी की भूमिका ईशा कोप्पिकर ने निभाई थी। शहर के प्रसिद्ध नाले के नौण पर फिल्म के सीन फिल्माए गए थे।

कांगड़ा

कांगड़ा में जो फिल्में फिल्माई गईं, वे सुपरहिट हुई हैं। इनमें प्रमुख रूप से बालीवुड की ‘एक चादर मैली सी’ है। इस फिल्म की शूटिंग समेला व परौर के आसपास के इलाकों में हुई। ऋषि कपूर, हेमा मालिनी और पूनम ढिल्लों की जिला में दस्तक के बाद विशेषकर ऋषि कपूर को कांगड़ा घाटी भा गई और उनकी दूसरी फिल्म ‘साहिबा’ की शूटिंग भी कांगड़ा की हसीन वादियों में हुई। राज कुमार की यादगार फिल्म ‘हीर रांझा’ भी दाड़ी में फिल्माई गई, तो जितेंद्र की ‘बूंद जो बन गई मोती’ का फिल्मांकन भी यहीं हुआ। अब रणबीर कपूर की ‘रॉक स्टार’ की शूटिंग भी कांगड़ा घाटी में की जा रही है।

सिरमौर

अब तक जिला सिरमौर में मात्र दो प्रमुख हिंदी फिल्मों की ही शूटिंग हुई है। गीत गाया पत्थरों ने, गुनाहों के देवता सिरमौर के नाहन व पांवटा क्षेत्र में चौगान, दिल्ली गेट, सर्किट हाउस, विला राउंड, रानीताल, पक्का टैंक, सिरमौर रियासत के महल आदि शूटिंग स्थलों पर हुई। जिला सिरमौर में शूट की गई करीब आधा दर्जन हिंदी व पंजाबी फिल्में बाक्स आफिस पर काफी सफल रहीं।


 धरोहर गांव

भव्य प्राचीन इमारतों व मनमोहक कलाकृतियों के अद्भुत नजारों के बीच गुलजार है प्रदेश का एक छोटा सा कस्बा धरोहर गांव गरली। यहां बनी प्राचीन धरोहरों की बदौलत अब गांव की पहचान मुंबई के सिने स्टारों से लेकर देश-विदेशों तक दम भरने लगी हैं। धरोहर गांव बालीवुड की भी पहली पसंद बन चुका है। ऋषि कपूर, रणजीत कपूर अभिनीत फिल्म ‘चिंटूजी’ की 70 फीसदी शूटिंग धरोहर गांव में हुई है। आजकल यहां नैनो कार के विज्ञापन पर काम चल रहा है। बावजूद इसके यहां पर्यटकों के ठहरने की व्यवस्था नहीं है। कोई भी गेस्ट हाउस नहीं है।

You might also like