आर्म्स डीलर की दुकानें-घर सील

शिमला — नक्सलियों को हथियार बेचने के आरोप में यूपी पुलिस की एटीएफ द्वारा पकड़े गए हिमाचल के आर्म्स डीलर मनवीर सिंह वाहरा की प्रदेश भर में चार दुकानें व शिमला स्थित घर कोे पुलिस ने सील कर दिया है। यही नहीं, आर्म्स डीलर की कालका स्थित कालका गन हाउस को भी सील कर दिया है। यही नहीं, शिमला पुलिस उक्त पकड़े गए आरोपी के आर्म्स लाइसेंस रद्द करने को भी जिला मजिस्ट्रेट को लिख दिया है। इसकी पुष्टि शिमला पुलिस अधीक्षक सोनल मोहन अग्निहोत्री ने की है। यूपी पुलिस एटीएफ के एसएसपी द्वारा शिमला के आर्म्स व्यापारी का नक्सलियों को हथियार बेचने की गिरफ्तारी की सूचना के बाद रविवार रात शिमला पुलिस ने लोअर बाजार स्थित भाई कर्म सिंह गन हाउस, लक्कड़ बाजार स्थित दवा की दुकान का गोदाम, कुरियर, ठियोग गन हाउस तथा सोलन पुलिस द्वारा सोलन जिला के अर्की में सोलन गन हाउस सहित कालका पुलिस को सूचित कर कालका गन हाउस को भी देर रात ही सील कर दिया गया था। दुकानें सील करने के बाद सोमवार दोपहर बाद पुलिस का सील बंद दुकानों व घर की तलाशी का अभियान डीएसपी सिटी विजय कुमार व एसएचओ सदर थाना शकंुतला शर्मा की अगवाई में दिन भर चलता रहा। एसपी शिमला ने कहा कि मनवीर जो भाई कर्म सिंह आर्म्स डीलर के नाम से मशहूर है, की शिमला स्थित हथियारों की दुकानों, गोदामों व एक कुरियर कार्यालय में छानबीन कर तमाम रिकार्ड को कब्जे में ले लिया गया है। इसके अलावा पुलिस भाई कर्म सिंह गन हाउस के मालिक मनवीर  वाहरा के फोन काल डिटेल व बैंक खातों को भी खंगालेगी। मनवीर वाहरा की तमाम ट्रांजेक्शन व हथियारों की खरीद-फरोख्त के बारे में बारीकी से जांच की जा रही है। इस बारे में रिकार्डों की जांच पड़ताल करने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।गौरतलब है कि शिमला के प्रतिष्ठित आर्म्स व्यापारी भाई कर्म सिंह गन हाउस के मालिक मनवीर सिंह वाहरा व एक अन्य काशी राम नगर निवासी प्रताप भदौरिया उर्र्फ बौनी उर्फ राजन को यूपी पुलिस की एसटीएफ टीम ने मोहन लाल गंज (यूपी) इलाके में एसजी पीजीआई के पास सेंट्रो कार को रोककर अवैध हथियार नक्सलियों को सप्लाई करने के आरोप में गिरफ्तार किया था। पकड़े गए इन दोनों आरोपियों के पास नक्सलियों को अवैध तरीके से तस्करी किए जा रहे हथियार, कारतूस व छर्रे भी बरामद किए गए।

You might also like