खत्म होगा जाली नोटों का कारोबार!

नई दिल्ली — जाली नोटों ने भारतीय अर्थव्यवस्था को काफी चोट पहुंचाई है और बड़े पैमाने पर यहां बड़ी रकम के जाली नोट खासकर हजार के नोट पड़ोसी मुल्कों से भेजे जा रहे हैं। नेपाल और बांग्लादेश के रास्ते जाली नोट भारत आ रहे हैं, लेकिन अब भारत सरकार इस मामले पर गंभीर हो रही है। कई मंत्रालयों और रिजर्व बैंक के अफसरों की बैठकों के बाद अब कई तरह के कदम उठाए जा रहे हैं। इसके तहत नोटों में ही कई तरह के बदलाव किए जा रहे हैं। कुछ बदलाव तो ऐसे हैं कि उनकी नकल करना नामुमकिन है। सबसे बड़ा बदलाव तो यह होगा कि नोटों में अदृश्य धागे का इस्तेमाल होगा। भारत ने ऐसे नोट छापने के लिए दुनिया भर में इस काम में लगी कंपनियों से संपर्क किया है। ये कंपनियां ही इस तरह के काम करने में पारंगत हैं। रिजर्व बैंक ने जाली नोट से निपटने के लिए अलग से सैल बनाया है। नए नोटों में लगे ऐसे धागे होंगे, जिनमें चुंबकीय गुण होंगे और अलग-अलग कोणों से देखने पर इसके रंग बदल जाते हैं। इसके अलावा इसमें महीन अक्षरों में लिखा रहेगा, जिसकी नकल असंभव है। नोट के कागज अलग तरह के होंगे और प्लास्टिक के भी होंगे। भारत सरकार की कोशिश है कि किसी तरह से भारतीय नोटों की अलग पहचान हो और इसकी नकल बंद हो। नकली नोटों से भारतीय अर्थव्यवस्था को भारी नोट पहुंचती है। इस समय भारत में पांच सौ रुपए के जाली नोट बहुत आ रहे हैं। अब हजार के भी नोट आने लगे हैं।

You might also like