घर द्वार मिले सरकार

धर्मशाला में विधानसभा भवन तैयार करके उसमें शीतकालीन सत्र चलाना पूरे हिमाचल को एक सूत्र में बांधना तथा निचले क्षेत्र की जनता को सरकार तथा प्रशासन के नजदीक लाकर उनकी समस्याओं का समाधन करना सराहनीय है।  विधानसभा का नाता भले ही आम व्यक्ति से सीधा नहीं है, परंतु आम लोगों की समस्याओं को विधानसभा के पटल पर रखा जाता है। विधानसभा के माध्यम से आर्थिक संसाधनों का दुरुपयोग नहीं होता, बल्कि इससे पूरे प्रदेश के विकसित एवं पिछड़े हुए सभी क्षेत्रों में चल रहे विकास कार्यों का विश्लेषण होता है।

You might also like