डिजास्टर मैनेजमेंट के क्षेत्र में हिमाचलियों के लिए ढेरों अवसर

By: Dec 11th, 2010 6:53 pm

भारत में डिजास्टर मैनेजमेंट के क्षेत्र में सरकारी और गैर सरकारी संगठनों में वेतनमान अलग-अलग होता है। जो फ्रेशर हैं, वे 8000 से 10000 रुपए प्रति महीना कमा सकते हैं। जिनके पास दो या तीन साल का अनुभव है, वे 15000 से 20000 रुपए प्रति महीना कमा सकते हैं। इसके साथ ही जिन व्यक्तियों के पास अच्छा-खासा अनुभव है, वे 1,50,000 रुपए प्रति महीना आसानी से कमा सकते हंै। हिमाचल में हिमाचल प्रदेश इंस्टीच्यूट ऑफ पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन मशोबरा (शिमला) में डिजास्टर मैनेजमेंट से संबंधित कोर्स करवाए जाते हैं…

आपदाएं कुछ ऐसी खतरनाक घटनाएं होती हैं, जो कहीं भी किसी भी समय घट सकती हैं।  डिजास्टर मैनेजमेंट को इमर्जेंसी मैनेजमेंट के नाम से भी जाना जाता है, जिसमें प्राकृतिक और मानव निर्मित आपदाओं से बचाने का कार्य होता है। डिजास्टर मैनेजमेंट में प्राकृतिक आपदाओं, जैसे भूकंप, सूखा और सुनामी आदि से समाज को बचाने और इनसे दूर रखने के बारे में बताया जाता है। वर्तमान में सरकारी और गैर सरकारी संस्थाएं डिजास्टर मैनेजमेंट के क्षेत्र में कार्य कर रही हैं। सरकारी क्षेत्र में इसे सिविल डिफेंस या इमर्जेंसी सर्विसेज कहा जाता है और गैर सरकारी क्षेत्र में इसे बिजनेस कंटीन्यूटी प्लानिंग कहा जाता है। डिजास्टर मैनेजमेंट की योजनाएं दैनिक काम की तरह होती हैं, जिसमें क्षेत्रीय सुविधाओं और साधनों का प्रबंधन करना होता है। डिजास्टर मैनेजमेंट के कई नियम होते हैं, जिनका दिन-प्रतिदिन सही प्रयोग आवश्यक होता है, जैसे कई संगठनों के साथ अच्छे संबंध, बड़ी घटनाओं के ऊपर ध्यान देना, जियोग्राफिकल लोकेशन की अच्छी जानकारी होनी चाहिए। भारत में ऐसे कई क्षेत्र हैं, जहां पर लगातार प्राकृतिक और मानव निर्मित आपदाएं होती हैं। इन सब के लिए मानव संसाधन मंत्रालय अपना भरपूर योगदान दे रहा है।

कोर्स

भारत में ऐसे कई सरकारी और गैर सरकारी संस्थान हैं, जो डिजास्टर मैनेजमेंट के साथ जुड़े हुए हैं। इन संस्थानों द्वारा डिजास्टर मैनेजमेंट में सर्टिफिकेट, अंडरग्रेजुएट, पोस्टग्रेजुएट, डिग्री और डिप्लोमा कोर्स करवाए जाते हैं। इन कोर्सों में डिजास्टर मैनेजमेंट के भिन्न-भिन्न क्षेत्रों के बारे में जानकारी प्रदान की जाती है। इन कोर्सांे में आपातकालीन परिस्थिति, लोगों या क्षेत्र से जुड़ी जरूरतें, प्रभावित जगह को खाली करवाना और घायल लोगों के लिए मेडिकल केयर व खाना मुहैया करवाना आदि के बारे में बताया जाता है। डिजास्टर मैनेजमेंट में कैरियर बनाने के लिए व्यक्ति का बारहवीं पास होना आवश्यक है। पोस्टग्रेजुएट कोर्सों के लिए छात्र का किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान या विश्वविद्यालय से ग्रेजुएट होना आवश्यक है। इसके अलावा आप डिजास्टर मिटिगेशन एंड कॉनसीक्वेंस मैनेजमेंट, एमए इन डिजास्टर मैनेजमेंट, एमएससी इन डिजास्टर मैनेजमेंट, वर्टिकल इंटरेक्शन कोर्स इन डिजास्टर मैनेजमेंट, सिविल डिफेंस एंड डिजास्टर मैनेजमेंट कोर्स, डिप्लोमा इन साइकोसोशियल केयर एंड सपोर्ट इन डिजास्टर मैनेजमेंट, इंडस्ट्रियल डिजास्टर मैनेजमेंट कोर्स, एमफिल इन डिजास्टर मैनेजमेंट और पीएचडी इन डिजास्टर मैनेजमेंट इत्यादि कोर्स भी आप कर सकते हैं।

रोजगार की संभावनाएं

डिजास्टर मैनेजमेंट के क्षेत्र में ज्यादातर नौकरियां पब्लिक सेक्टर में होती हैं। इन सबसे अलग छात्र इमर्जेंसी सर्विसेज, ला एन्फोर्समेंट, लोकल अथॉरिटीज, गैर-सरकारी संगठनों और अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों जैसे यूएनओ में बेहतर कैरियर बना सकते हैं। किसी संस्था को ज्वाइन करने के बाद व्यक्ति सिस्टम या नेटवर्क एडमिनिस्ट्रेटर, डाटाबेस एनालिस्ट या एडमिनिस्ट्रेटर, सिक्योरिटी एडमिनिस्ट्रेशन या आपरेशंस एनालिस्ट के रूप में रोजगार प्राप्त कर सकता है। इसके अलावा सोशियल वर्कर्स, इंजीनियर्स, मेडिकल हैल्थ एक्सपर्ट, पर्यावरण विशेषज्ञ और रिहैबिलिटेशन वर्कर्स के रूप में कार्य किया जा सकता है। डिजास्टर मैनेजमेंट में ट्रेनिंग आपको प्रशासनिक या सिविल अधिकारी, सिविल इंजीनियर, पुलिस और डिफेंेस पर्सनल और फायर फाइटर्स के क्षेत्रों में रोजगार दिलाने में सहायक सिद्ध हो सकती हैं। इसके अलावा कई ग्रेजुएट्स अच्छी कंपनियों के साथ काम करके अच्छा अनुभव प्राप्त करके अपनी कंपनियां खोलकर इस क्षेत्र में बेहतर कार्य कर रहे हैं। इसके साथ ही एनजीओ और अंतरराष्ट्रीय संगठनों जैसे- वर्ल्ड बैंक, एशियन डिवेलमेंट बैंक, यूनाइटेड नेशंज आर्गेनाइजेशंज, रेड क्रास और यूनेस्को इत्यादि भी योग्य डिजास्टर मैनेजमेंट प्रोफेशनल्स को अपने यहां कई रोजगार के अवसर प्रदान करते हैं।

वेतनमान

भारत में डिजास्टर मैनेजमेंट के क्षेत्र में सरकारी और गैर सरकारी संगठनों में वेतनमान अलग-अलग होता है। जो फ्रेशर हैं, वे 8000 से 10000 रुपए प्रति महीना कमा सकते हैं। जिनके पास दो या तीन सालों का अनुभव है, वे 15000 से 20000 रुपए प्रति महीना आसानी से कमा सकते हैं। इसके साथ ही जिनके व्यक्तियों के पास अच्छा-खासा अनुभव है, वे 1,50,000 रुपए प्रति महीना आसानी से कमा सकते हैं।

 कोर्सेज

1. सर्टिफिकेट कोर्स इन डिजास्टर मैनेजमेंट

2. डिप्लोमा कोर्स इन डिजास्टर मैनेजमेंट

3. डिजास्टर मिटिगेशन एंड कांसीक्वेंस मैनेजमेंट

4. एमए इन डिजास्टर मैनेजमेंट

5. एमएससी इन डिजास्टर मैनेजमेंट

6. पोस्ट ग्रेजुएट सर्टिफिकेट कोर्स इन डिजास्टर मैनेजमेंट

7. वर्टिकल इंटरेक्शन कोर्स

8. सिविल डिफेंस एंड डिजास्टर मैनेजमेंट कोर्स

9. डिप्लोमा इन साइकोसोशियल केयर एंड सपोर्ट इन डिजास्टर मैनेजमेंट

10. इंडस्ट्रियल डिजास्टर मैनेजमेंट कोर्स

11. एमफिल इन डिजास्टर मैनेजमेंट

12. पीएचडी इन डिजास्टर मैनेजमेंट

13. पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन डिजास्टर मैनेजमेंट

14. अंडर ग्रेजुएट कोर्स इन डिजास्टर मैनेजमेंट

15. डिग्री कोर्स इन डिजास्टर मैनेजमेंट

 संस्थान

1. हिमाचल प्रदेश इंस्टीच्यूट ऑफ पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन, मशोबरा, शिमला

2. एचपी यूनिवर्सिटी, शिमला

3. इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी, शिमला

4. पंजाब यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़

5. कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी, कुरुक्षेत्र

6. एपेक्स कालेज ऑफ मैनेजमेंट, नई दिल्ली

7. सीईआईटी-इग्नू कम्युनिटी कालेज, श्रीनगर

8. नेशनल इंस्टीच्यूट ऑफ डिजास्टर मैनेजमेंट, नई दिल्ली

9. इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली

10. नेशनल सिविल डिफेंस कालेज, नागपुर

11. पुणे यूनिवर्सिटी, पुणे

12. टाटा इंस्टीच्यूट ऑफ सोशियल साइंसेज, मंुबई

13. एमिटी इंस्टीच्यूट ऑफ डिजास्टर मैनेजमेंट, नोएडा

Himachal List

Free Classified Advertisements

Property

Land
Buy Land | Sell Land

House | Apartment
Buy / Rent | Sell / Rent

Shop | Office | Factory
Buy / Rent | Sell / Rent

Vehicles

Car | SUV
Buy | Sell

Truck | Bus
Buy | Sell

Two Wheeler
Buy | Sell

Polls

क्या किसानों की अनदेखी केंद्र सरकार को महंगी पड़ सकती है?

View Results

Loading ... Loading ...

Miss Himachal Himachal ki Awaz Dance Himachal Dance Mr. Himachal Epaper Mrs. Himachal Competition Review Astha Divya Himachal TV