देवर-भाभी ने निगला जहर

धर्मशाला — कांगड़ा के सौहड़ा गांव के समीप मांझी खड्ड में विषैला पदार्थ खाकर देवर-भाभी ने आत्महत्या का प्रयास किया। चुनाव प्रचार पर निकली एक टोली ने इन दोनों को पानी में पड़ा हुआ देखकर पुलिस को सूचना दी। महिला 25 दिसंबर से लापता थी, जिसे युवक समेत मूर्छित अवस्था में सोमवार को मांझी खड्ड में देखा गया। इस पर गगल चौकी पुलिस ने दोनों को उठाकर टीएमसी में भर्ती करवा दिया है। एसपी कांगड़ा ने बताया कि पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और स्थिति गंभीर होने के चलते इन दोनों के बयान अभी तक दर्ज नहीं हो पाए है।  सूचना के अनुसार अविवाहित देवर तथा भाभी के बीच प्रेम प्रसंग चल रहा था। उक्त दोनों गगल-तियारा मार्ग पर स्थित समीरपुर गांव के रहने वाले है। विवाहिता का पति चंडीगढ़ में निजी कंपनी में काम करता हैं। पुलिस सूत्रों का कहना है कि महिला 25 दिसंबर को बंडी गांव स्थित अपने मायके में गई हुई थी। बिना बताए घर से गई महिला की गुमशुदगी की रिपोर्ट उसके पति ने अगले ही दिन पुलिस चौकी गगल में करवा रखी थी। पुलिस का कहना है कि महिला 26 दिसंबर को अपनी बुआ-सास के घर जमानाबाद चली गई। इसकी सूचना न तो उसके मायके वालों को थी और न ही ससुराल पक्ष को। लिहाजा उसकी तलाश में  परिजन लगातार पुलिस चौकी में गुहार लगा रहे थे। सोमवार दोपहर बाद चुनाव प्रचार पर सौहड़ा गांव से जा रही एक टोली को मांझी खड्ड मंे महिला दिख गई। मौके पर पहंुचे लोगों ने देखा कि उसके साथ ही एक युवक भी पड़ा है। इसकी सूचना पंचायत प्रधान तथा पुलिस को दी गई। मौके पर पहंुची पुलिस ने महिला तथा युवक को टीएमसी में उपचार के लिए भर्ती करवा दिया है। बताया जा रहा है कि युवक तथा उसके साथ विषैला पदार्थ खाने वाली महिला का पति आपस में चचेरे भाई लगते हैं। रिश्ते में देवर-भाभी महिला युवक का प्रेम प्रसंग परिजनों को नागवार था।

You might also like