दो दर्जन ने तोड़ी आचार संहिता

शिमला — पंचायती राज चुनाव में आचार संहिता के उल्लंघन को लेकर दो दर्जन से अधिक शिकायतें मिली हैं, जिनका जवाब आयोग ने सरकार से मांगा है। राज्य चुनाव आयोग ने सचिव जीएडी से आचार संहिता के उल्लंघन पर क्या कार्रवाई की है, इसका जवाब तुरंत देने के लिए कहा।  सचिव जीएडी ने उन सभी विभागों के अधिकारियों व सचिवों की जिम्मेदारी सुनिश्चित कर दी है, जिनके विभाग की आयोग को ज्यादा शिकायतें मिली हैं। सचिव जीएडी ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश जारी किए हैं कि वे शिकायतों को अपने स्तर पर निपटाएं और दोषियों के प्रति की गई कार्रवाई की रिपोर्ट उन्हें सौंपें, ताकि इसकी सूचना आगे आयोग को तलब की जा सके। आचार संहिता के उल्लंघन को लेकर आयोग को जो शिकायतें मिली हैं, उनमें हिमाचल कांग्रेस सेवादल द्वारा की गई शिकायत शामिल है। कांग्रेस सेवादल ने आयोग से शिकायत लगाई है कि वर्तमान सरकार ने 1998 से लेकर 2010 तक अपने कार्यकाल के दौरान किए गए कार्यों की पब्लिसिटी के लिए एक कैलेंडर जारी  किया है, जो आचार संहिता का उल्लंघन कर रहा है। इस पर आयोग ने सचिव जीएडी से जवाब मांगा है। इसी तरह की दूसरी शिकायत त्रिलोकपुर से की गई है, जिसमें शिकायत है कि वन मंडल अधिकारी चुनाव प्रचार कर रहे हैं। तीसरी शिकायत चुराह ग्राम पंचायत ओचल से नाग चंद ने की है कि यहां पर तहसीलदार के पिता चुनाव लड़ रहे हैं, जिसका जवाब सचिव जीएडी से मांगा गया है। इसी तरह की एक और शिकायत पंचायत भोरंज से आई है, जहां पर सब-इंस्पेक्टर की पत्नी चुनाव लड़ रही है। आयोग ने इन्क्वायरी बिठाकर रिपोर्ट मांगी है, ताकि सब-इंस्पेक्टर को ट्रांसफर किया जा सके। सचिव राज्य चुनाव आयोग शरभ नेगी ने इन सभी शिकायतों की पुष्टि की है और कार्रवाई करने तथा रिपोर्ट सौंपने के लिए जीएडी सचिव को कहा है। जीएडी सचिव अजय भंडारी ने कहा कि आचार संहिता के उल्लंघन की कई शिकायतें मिली हैं, जिनमें से अधिकांश का जवाब दे दिया गया है।

You might also like