धर्मशाला ज्यादा खर्चीला

राजधानी में विधानसभा सत्र के दौरान मात्र विधायकों, मंत्रियों और पत्रकारों तथा प्रशासनिक अमले के खाने, आवाजाही व डीए पर ही खर्च किया जाता है। खाने पर प्रति व्यक्ति 500 रुपए प्रतिदिन, आवाजाही पर दस रुपए प्रति किलोमीटर तथा विधायकों, मंत्रियों के डीए पर 500 रुपए प्रति व्यक्ति व्यय किया जाता है। राजधानी में सरकार आवासीय खर्चे से बची रहती है, वहीं तपोवन में जब से शीतकालीन सत्र शुरू हुए हैं, तब से सरकार का एक तो आवाजाही का खर्चा, तो दूसरा आवासीय खर्चा अतिरिक्त बढ़ गया है।

You might also like