प्रसार भारती के सीईओ पर जांच

नई दिल्ली  प्रसार भारती के मुख्य कार्यकारी अधिकारी(सीईओ) बीएस लाली के खिलाफ वित्तीय अनियमितताओं के आरोपों की उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश से जांच करवाई जाएगी। राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने इसकी इजाजत दे दी है। इस मंजूरी के बाद उनके हटाए जाने की प्रक्रिया में तेजी आ गई है। सीईओ को प्रसार भारती अधिनियम के प्रावधानों के तहत ही निलंबित या हटाया जा सकता है। इन प्रावधानों के अनुसार सीईओ को तभी हटाया या निलंबित किया जा सकता है, जब उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश अपनी जांच में सीईओ को दोषी पाते हैं। प्रधानमंत्री ने लाली के खिलाफ जांच शुरू करने के संबंध में राष्ट्रपति से राय मांगी थी। लाली उत्तर प्रदेश कैडर के 1971 बैच के आईएएस अधिकारी हैं।

You might also like