मोबाइल रिपेयरिंग से मिलेगा रोजगार

By: Jun 5th, 2011 12:04 am

मोबाइल रिपेयरिंग के क्षेत्र में एक व्यक्ति निजी कंपनी में 20000 से 30000 रुपए प्रति महीना आसानी से कमा सकता है। मोबाइल रिपेयरिंग का कोर्स करने के बाद आप अपना बिजनेस कर 20 से 25 हजार रुपए हर महीना कमा सकते हैं। वर्तमान में हिमाचल में लगभग आठ से दस हजार लोग इस क्षेत्र के साथ जुडे़ हुए हैं…

मोबाइल फोन आज हर व्यक्ति की जरूरत बन गई है। इन दिनों कई मोबाइन कंपनियों के आने से यह पता नहीं चलता कि कौन सा मोबाइल लेना चाहिए या नहीं। सेल्युलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अनुसार आज मोबाइल उद्योग एक उभरता हुआ क्षेत्र है और पिछले पांच वर्षों में 95 प्रतिशत भारतीयों के पास अपने मोबाइल फोन हैं। जो लोग महंगे मोबाइल फोन खरीदते हैं, वे एक ऐसे व्यक्ति की तलाश में होते हैं, जो उनके फोन को अच्छी प्रकार से देख सके। यदि आजकल के युवा मोबाइल रिपेयरिंग में कैरियर बनाना चाहें, तो भारत में स्थित टेक्निकल उद्योगों में वे बेहतर रोजगार प्राप्त कर सकते हैं। इसमें किसी खास अनुभव या किसी डिग्री की आवश्यकता नहीं होती है। कोई व्यक्ति यदि अपने व्यापार से खुश नहीं है और ज्यादा कमाई करना चाहता है, तो वह इस क्षेत्र में 20000 से 30000 रुपए प्रति महीना आसानी से कमा सकता है। मोबाइल रिपेयरिंग के कोर्स करके आप एक अच्छा कैरियर, स्थिरता, प्रतिष्ठा और अच्छी कमाई कर सकते हैं। वर्तमान में मोबाइल रिपेयरिंग एक उभरता हुआ कैरियर है। भारत में एक इंटरनेशनल कंपनी एक दिन में लगभग 35000 मोबाइल बेचती है। इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि इस क्षेत्र में कैरियर बनाना कितना फायदेमंद है।

शैक्षणिक योग्यताः जिन छात्रों ने बारहवीं पास की हो या ग्रेजुएशन की हो, वे किसी इंस्टीच्यूट से मोबाइल रिपेयरिंग का कोर्स कर सकते हैं और बेहतर कमाई कर सकते हैं।

कोर्सः भारत में कई सरकारी और निजी संस्थानों द्वारा मोबाइल रिपेयरिंग के कोर्स करवाए जाते हैं, जिन्हें करके आप बेहतर रोजगार के साथ-साथ अच्छी कमाई भी कर सकते हैं। ये कोर्स निम्न प्रकार से हैंः डिप्लोमा इन मोबाइल रिपेयरिंग एंड मेंटेनेंस, सर्टिफिकेट कोर्स इन मोबाइल इंजीनियरिंग, डिप्लोमा अन मोबाइल फोन रिपेयरिंग, मोबाइल फोन मल्टीमीडिया कोर्स, मास्टर ऑफ साइंस इन मोबाइल एप्लिकेशन, बेसिक मोबाइल फोन एंड चिप लेवल ट्रेनिंग, मोबाइल एप्लिकेशन एंड सर्विसेज कोर्स, वेब बेस्ड कोर्स, बेसिक्स ऑफ मोबाइल कम्युनिकेशन, लैबोरेटरी फार सेलफोन सॉफ्टवेयर टे्रनिंग और मोबाइल टेक्नोलॉजी कोर्स।

रोजगार के अवसरः मोबाइल फोन के अधिकतर प्रयोग और नए मॉडल्स के आने से इसके ग्राहकों में बहुत ज्यादा वृद्धि हुई है। इसीलिए मोबाइल रिपेयरिंग में रोजगार के अवसरों में वृद्धि देखने को मिलती है। भारत में मोबाइल इंडस्ट्री ने अच्छा-खासा विकास किया है। इसके चलते इसमें रोजगार में भी बढ़ोतरी हुई है। इस क्षेत्र में रोजगार के अच्छे अवसर हैं। यदि आप इस क्षेत्र में कैरियर बनाना चाहते हैं, तो यह आपके लिए एक बेहतर कैरियर साबित हो सकता है। मोबाइल रिपेयरिंग में ट्रेनिंग करके आप बड़ी-बड़ी कंपनियों या एक फ्रीलांसर के रूप में या अपना व्यापार भी कर सकते हैं। यदि आप मोबाइल इंजीनियर बनकर अपना काम शुरू करते हैं, तो आपको रिपेयरिंग के अतिरिक्त निम्न तरीके और भी लाभान्वित करेंगेः आप बड़ी दुकान खोलकर मोबाइल स्पेयर पार्ट्स भी बेच सकते हैं, पुराने मोबाइल ठीक करके उनसे भी अच्छी कमाई कर सकते हैं। किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान से मोबाइल रिपेयरिंग की ट्रेनिंग लेकर भारत में स्थित मोबाइल कंपनियों में बेहतर रोजगार तलाश सकते हैं। इसके अलावा आप अध्यापन के क्षेत्र में भी नौकरी प्राप्त कर सकते हैं। आजकल मोबाइल कंपनियां और डीलर्ज इस प्रतियोगिता भरे क्षेत्र में योग्य मोबाइल रिपेयरर और इंजीनियरों को नौकरी प्रदान करते हैं और योग्यतानुसार अच्छा वेतनमान भी प्रदान करते हैं।

वेतनमानः मोबाइल रिपेयरिंग के क्षेत्र में वेतनमान ऊंचाइयां छूता है। इसमें एक व्यक्ति निजी कंपनी में 20000 से 30000 रुपए प्रति महीना आसानी से कमा सकता है। इसके अलावा मोबाइल रिपेयरिंग का कोर्स करने के बाद आप अपनी दुकान खोलकर 20 से 25 हजार रुपए हर महीना कमा सकते हैं।

 मोबाइल रिपेयरिंग में रुचि दिखाएं युवा

जन संचार का माध्यम होने के कारण लगभग 75 से 80 प्रतिशत लोग मोबाइल का इस्तेमाल करते हैं। ऐसे में आप मोबाइल रिपेयरिंग को सफल स्वरोजगार के रूप में अपना सकते हैं। यूं तो आप इस काम को करने के लिए मोबाइल रिपेयरिंग इंजीनियर भी रख सकते हैं, लेकिन सफल स्वरोजगार के लिए आपको स्वयं ट्रेनिंग लेना आवश्यक हो जाता है। भारत के कई बड़े शहरों में सैकड़ों ऐसे इंस्टीच्यूट हैं, जो मोबाइल रिपेयरिंग की ट्रेनिंग देते हैं, परंतु हिमाचल प्रदेश में इस तरह का कोई भी संस्थान नहीं था, जिसके चलते हमारे हिमाचली युवाओं को इस क्षेत्र में कैरियर बनाना एक सपना लगता था, परंतु जीआरआर राणा मेमोरियल इंस्टीच्यूट ऑफ टेक्निकल एजुकेशन ने हिमाचल में इस तरह के कोर्सेज की पहल की है। शॉप के खर्च को छोड़कर आप इस काम को पांच से दस हजार रुपए मात्र में शुरू कर सकते हैं, मोबाइल रिपेयरिंग का कोर्स करने के बाद आप अपनी शॉप खोलकर बीस से पच्चीस हजार रुपए हर महीना कमा सकते हैं। मोबाइल इंजीनियर बनने के लिए आपको किसी अच्छे ट्रेनिंग सेंटर का चुनाव कर उसमें प्रवेश लेना पड़ेगा। यदि आप आठ-दस कक्षा तक पढ़े-लिखे भी हैं, तो आप आसानी से सफल मोबाइल इंजीनियर बन सकते हैं,  यदि आपको कम्प्यूटर की बेसिक नॉलेज है, तो और भी अच्छा है। कम्प्यूटर द्वारा यह कोर्स कराने वाले संस्थान दस से पचास हजार रुपए तक फीस लेते हैं। परंतु जीआरआरएम संस्थान से आप दस से बीस हजार रुपए में ये कोर्स कर सकते हैं। यह एक सर्टिफिकेट कोर्स है, जिसे आप किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से करें, ताकि जब आप कोर्स के उपरांत अपना काम शुरू करें, तो आपको कोई असुविधा न हो। अधिकतर इंस्टीच्यूट तीन माह में ये कोर्स करवाते हैं। लेकिन यहां स्टूडेंट की सुविधानुसार एक-तीन माह में यह कोर्स करवाया जाता है। यदि आप मोबाइल इंजीनियर बनकर अपना काम शुरू करते हैं, तो आपको रिपेयरिंग के अतिरिक्त निम्न तरीके और भी लाभान्वित करेंगेः आप बड़ी दुकान खोलकर मोबाइल स्पेयर पार्ट्स भी बेच सकते हैं, पुराने मोबाइल ठीक करके उनसे भी अच्छी कमाई कर सकते हैं।

ज्वालाजी से संबंध रखने वाले राकेश ठाकुर पिछले करीब दस वर्षों से कांगड़ा में मोबाइल रिपेयरिंग का कार्य कर रहे हैं। वर्षों पूर्व सेल्फ इंप्लायमेंट सोसायटी दिल्ली से डिप्लोमा प्राप्त करने के बाद मोबाइल रिपेयरिंग के कार्य से जुड़े, तो फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा। उनका कहना है कि मोबाइल रिपेयरिंग के कार्य से जुड़ने के लिए ट्रेनिंग जरूरी है और कम से कम जमा दो शिक्षा के साथ-साथ कम्प्यूटर का ज्ञान भी अवश्य होना चाहिए। प्रदेश में मोबाइल रिपेयर करने वालों की संख्या आठ से दस हजार हो सकती है, लेकिन आधे लोग सिर्फ ग्राहकों को गुमराह कर रहे हैं। कुछ लोग तो इंटरनेट व वेबसाइट के माध्यम से ही मेकेनिक बन रहे हैं। मोबाइल रिपेयरिंग का अच्छा मेकेनिक बनने के लिए बेसिक ट्रेनिंग किसी अच्छे संस्थान से लेना जरूरी है। ऐसे संस्थान बड़े शहरों में काफी संख्या में हैं। वहां ट्रेनिंग लेकर अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता है। मोबाइल रिपेयरिंग की ट्रेनिंग कर कंपनियों के साथ भी जुड़ा जा सकता है और अपनी दुकान भी खोली जा सकती है। इसमें 10-12 हजार रुपए महीना आसानी से कमाया जा सकता है। हिमाचल में ऐसी कोई कंपनी नहीं है, जो मोबाइल रिपेयरिंग प्रोफेशनल को नौकरी देती हो। अलबत्ता कंपनी सर्विस सेंटर जरूर देती है और वे उस दुकानदार को मोबाइल सेट रिपेयर के हिसाब से धनराशि देती हैं। अगर सर्विस स्टेशन लेने वाला व्यक्ति किसी को नौकरी देता है, तो उसमें कंपनी का कोई लेना-देना नहीं होता।

कोर्सेज

1.   डिप्लोमा इन मोबाइल रिपेयरिंग एंड मेंटेनेंस

2.   सर्टिफिकेट कोर्स इन मोबाइल इंजीनियरिंग

3.   डिप्लोमा इन मोबाइल फोन रिपेयरिंग

4.   मोबाइल फोन मल्टीमीडिया कोर्स

5.   मास्टर ऑफ साइंस इन मोबाइल          एप्लिकेशन

6.   बेसिक मोबाइल फोन एंड चिप लेवल ट्रेनिंग

7.   मोबाइल एप्लिकेशन एंड सर्विसेज        कोर्स

8.   वेब बेस्ड कोर्स

9.   बेसिक्स ऑफ मोबाइल कम्युनिकेशन

10. लैबोरेटरी फॉर सैलफोन सॉफ्टवेयर        टे्रनिंग

11. मोबाइल टेक्नोलॉजी कोर्स

संस्थान

1.    जीआरआरएम इंस्टीच्यूट ऑफ टेक्निकल एजुकेशन, बरोटीवाला

2.    इंस्टीच्यूट ऑफ एडवांस टेक्नोलॉजी, सोलन

3.    हाईटेक इंस्टीच्यूट ऑफ एडवांस टेक्नोलॉजी, लुधियाना

4.    नंदा कम्प्यूटर सेंटर, जालंधर

5.    आर्ची मोबाइल रिपेयर एंड   ट्रेनिंग सेंटर, लुधियाना

6.    हाईटेक इंस्टीच्यूट, बठिंडा

7.    चंडीगढ़ इंस्टीच्यूट ऑफ     एडवांस टेक्नोलॉजी, मोहाली

8.    जीएम इंस्टीच्यूट ऑफ       मोबाइल टेक्नोलॉजी, चंडीगढ़

9.    गुरुकुल कम्प्यूटर हार्डवेयर एंड नेटवर्किंग इंस्टीच्यूट,           बठिंडा

10.  मक्कड़ मोबाइल रिपेयर      इंस्टीच्यूट, लुधियाना

Himachal List

Free Classified Advertisements

Property

Land
Buy Land | Sell Land

House | Apartment
Buy / Rent | Sell / Rent

Shop | Office | Factory
Buy / Rent | Sell / Rent

Vehicles

Car | SUV
Buy | Sell

Truck | Bus
Buy | Sell

Two Wheeler
Buy | Sell

Polls

क्या हिमाचल में सरकारी नौकरियों के लिए चयन प्रणाली दोषपूर्ण है?

View Results

Loading ... Loading ...

Miss Himachal Himachal ki Awaz Dance Himachal Dance Mr. Himachal Epaper Mrs. Himachal Competition Review Astha Divya Himachal TV