Daily Archives

Jan 5th, 2012

विज्ञान में पीछे

भुवनेश्वर में 99वीं विज्ञान कांग्रेस को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने राष्ट्र के विकास में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के महत्त्व को लेकर जिन मुद्दों को उठाया है। वह सराहनीय हैं। प्रधानमंत्री ने जहां विज्ञान के क्षेत्र में चीन…

और यह भी…

(सुरेश कुमार, योल) शिमला में छह मंजिला इमारत गिरी, जिसे 1988 में अनसेफ घोषित किया गया था। उसके 23 साल बाद यह इमारत गिर गई। प्रशासन ने भी इससे पहले इसे खुद गिराने की जहमत नहीं उठाई। या तो प्रशासन बड़े नुकसान के इंतजार में होगा या फिर…

भविष्य की अस्थिरता

(दयाल चंद रघुवंशी, सोलन) यूं तो अपराध की कोई परिभाषा नहीं होती, लेकिन जिस तरह समाज की चूलें हिल रही हैं, हिमाचली परिवेश में भविष्य की अस्थिरता मुखातिब है। हर कोई एक दूसरे की जान का दुश्मन बना हुआ है। आज हमारे प्रदेश में कोई भी रिश्ता…

रेणुकाजी की हार

(श्रीकांत ‘अकेला’) पिछले दिनों जिला सिरमौर की रेणुकाजी विधानसभा सीट के लिए संपन्न हुए चुनावों के परिणाम जनता जनार्दन के समक्ष आ चुके हैं और वहां की मासूम एवं भोलीभाली जनता ने अपने मतों का उचित प्रयोग करके अपना विधायक भी चुन लिया है और…

अल्ट्रासाउंड की सुविधा नहीं

(दिनेश नेगी, मंडी) संधोल नागरिक अस्पताल में अल्ट्रासाउंड नहीं है। इसके लिए 50 किलोमीटर दूर हमीरपुर जाना पड़ता है, वहां तक पहुंचते-पहंचते मरीज दम तोड़ देता है। संधोल में अल्ट्रासाउंड की सुविधा लाजिमी होनी चाहिए। एक्स-रे मशीन को जंग खा …

पहली से आठवीं कक्षा तक ग्रेडिंग प्रणाली गलत

(विकास गुप्ता,लेखक, चंबा से हैं) आम लोगों की धारणा में ग्रेडिंग तरीका बिलकुल गलत है। विभिन्न चर्चाओं में यही पहलू उभरकर आए कि बच्चों में फेल होने का डर समाप्त हो जाएगा। बच्चों में प्रतिस्पर्धा की भावना समाप्त हो जाएगी। फेल न होने के कारण…

शिमला को जीवनदान कौन देगा

गनीमत यह कि धंसती इमारत ने किसी की बलि नहीं ली, वरना शिमला के जोखिम का खूनी मंजर लोअर बाजार में दहशत पैदा कर गया। करीब 25 साल पहले घोषित असुरक्षित भवन को गिराने के बजाय खुद-ब-खुद गिरने पर भी कहीं आह नहीं निकली। करीब पांच दर्जन अन्य भवन अभी…

लोकशक्ति के उदय का साल

(पीके खुराना,लेखक, वरिष्ठ जनसंपर्क सलाहकार और विचारक हैं) हजार निराशाओं, कुंठाओं और कठिनाइयों के बीच भी सन् 2011 एक खास बदलाव के लिए जाना जाएगा। इतिहास में सन् 2011 को लोकशक्ति के उदय के लिए याद किया जाएगा... हमारा देश इस समय हर ओर…

आरक्षण देश हित में नहीं

(जोगिंद्र ठाकुर गांव व डाकघर भलयानी, कुल्लू) आजादी के छह दशकों के पश्चात भी समाज को बांटने का क्रम जारी है। देश में मजहब के आधार पर आरक्षण देने की होड़ में तमाम सियासी दल एक-दूसरे को पटकनी देने में लगे थे। ऐसे में कें द्रीय कैबिनेट…

मात्र पैसे से प्यार

(प्रेमनाथ जोशी, होशियारपुर) ‘विकास का घातक अंदाज’ संपादकीय लिख कर आपने जोे साहस और देशभक्ति का परिचय दिया है, उसकी सराहना करने के लिए मेरे पास शब्द तक नहीं हैं। भगवान आप जैसी शक्तिशाली लेखनी सभी संपादकों को दें तो देश पुनः स्वर्ग बनकर…