Daily Archives

Jan 12th, 2012

हिमाचल को गुजरात बनाना है तो

प्रवासी भारतीयों का सम्मेलन बेशक राजस्थान की राजधानी जयपुर में आयोजित हुआ, लेकिन गुजरात की ब्रांडिंग करके मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने निवेश की अपनी जमीन का मूल्यांकन बखूबी किया। मुख्यमंत्रियों के बीच प्रतिस्पर्धा पैदा करने के प्रयास पहले भी…

और यह भी…

(साहिल गुरंग, दाड़ी) बर्फबारी से पर्यटन को पंख लगते हैं, यह भ्रम भी टूट गया। क्योंकि प्रदेश को इतना मुनाफा नहीं हुआ होगा, जितने ज्यादा नुकसान की चपत लग गई। इंतजामों की पोल खुल गई। सब मॉक ड्रिल धरी की धरी रह गई। प्रकृति ने हिमाचल को दिया…

कब मिलेगी समानता

(विक्की, धर्मपुर, मंडी)  संविधान सभी नागरिकों को समानता का अधिकार प्रदान करता है। यदि हम आजादी के बाद अब तक के शिशु मृत्यु दर, शिक्षा व रोजगार या अन्य किसी भी प्रकार के आंकड़ों पर नजर डालें तो हर क्षेत्र में महिलाओं के साथ भेदभाव हुआ है।…

सत्य से टकराने का साहस जो नहीं

(अक्षित आदित्य तिलक राज गुप्ता, रादौर (हरियाणा))  ‘धर्म’ ने हमेशा समाज को राह दिखाई है और जब तक ऐसा रहा है, समाज परिपक्व रहा है, लेकिन जब-जब इस तथ्य से मुंह मोड़ा गया, समाज दिग्भ्रमित हुआ है। इसका आभास हम धर्मनिरपेक्ष राष्ट्रों के मौजूदा…

लेखन से जो…

(शेर सिंह मेरुपा, सुल्तानपुर डाकघर ढालपुर, कुल्लू) समाज और देश की अव्यवस्था को परिभाषित करते हैं नाउम्मीदी उनके लिए विशिष्ट छंद है खुशियों का इंतजार अलंकार है और बेबसी भाषा शैली है और भावार्थ प्रतिकूल जीवन का निर्वाह्न…

प्रदेश में मिड डे मील की सरकारी स्कूलों में प्रासंगिकता

(हीरा दत्त शर्मा,लेखक, वीएसएलएम पीजी कालेज सोलन में प्रवक्ता  हैं) मध्याह्न भोजन योजना से छात्रों की स्कूली नामांकन में कोई वृद्धि नहीं, अपितु उसके बाद बच्चों और अभिभावकों का रुझान सरकारी स्कूलों की तरफ कम हुआ है... किसी भी राष्ट्र के…

राष्ट्रीय शर्म

हैदराबाद की एक संस्था नंदी फाउंडेशन द्वारा देश में बच्चों के कुपोषण पर किए गए अध्ययन के निष्कर्ष चौंकाने वाले तो हैं ही, योजनाकारों व नीति निर्धारकों के लिए भी किसी चुनौती से कम नहीं हैं। देश के 42 फीसदी बच्चों के कुपोषण का शिकार होने पर…

खैरात से गरीबी नहीं हट सकती

(पीके खुराना,लेखक, वरिष्ठ जनसंपर्क सलाहकार और विचारक हैं) गरीबी दूर करने के नाम पर हमारे देश मंे आरक्षण और सबसिडी का जो नाटक चल रहा है, उसने देश और समाज का बहुत नुकसान किया है... धारणा के स्तर पर हमारा देश एक लोक कल्याणकारी राज्य एक…

बर्फबारी में जीने का एहसास

(अमन शर्मा, चिंतपूर्णी)  यह किसी सपने से कम नहीं था और अपने जीवन में जिसने भी यह अद्भुत नजारा देखा वह सचमुच आश्चर्यचकित होकर रह गया। सात जनवरी को चिंतपूर्णी में हुई बर्फबारी से चिंतपूर्णी के लोग अपनी जिंदगी के खूबसूरत क्षणों को हमेशा याद…

राजधानी में फिर बरसे फाहे

शिमला — बुधवार को शिमला शहर तथा उसके आसपास के क्षेत्रों में बर्फबारी शुरू हो गई। नगर निगम शिमला ने इस स्थिति से निपटने के लिए प्रयास तेज कर दिए हैं। नगर निगम शिमला के अधीन समस्त मोटर योग्य मार्गों